स्क्रॉलिंग युग में अहमदाबाद में पढ़ने की संस्कृति

| Updated: April 29, 2022 3:50 pm

गुटेनबर्ग बाइबिल 1461 में टाइप-मुद्रण के जरिये प्रकाशित होने वाली पहली पुस्तक थी। लैटिन में जब जोहान्स गुटेनबर्ग द्वारा इस पुस्तक को धातु पर प्रकाशित किया गया था, तब से मुद्रित शब्द ने विश्वसनीयता हासिल करते हुए लोगों के जीवन पर छाप छोड़ी।

दुनिया भर में लाखों लोगों के लिए किताबें सबसे अच्छी और स्थायी दोस्त, दार्शनिक और मार्गदर्शक रही हैं। यकीनन यह इंटरनेट के युग में बदल रहा है, जहां डिजिटल के महारथियों ने साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में प्रवेश कर लिया है। पन्ने पलटने से लेकर फोन पर स्क्रॉल करने या किंडल पर पढ़ने का तरीका बहुत बदल गया है।

वीओआई टीम ने लोगों, विशेषकर युवाओं की पढ़ने की आदतों को समझने के लिए शहर के कुछ प्रमुख पुस्तकालयों का दौरा किया। टीम लोगों में पढ़ने की वरीयताओं के बारे में जानने को उत्सुक थी। यह भी समझना था कि लोग अपने संग्रह में किस तरह की किताबें रखना पसंद करते हैं।

एमजे लाइब्रेरी

एमयूजे शायद शहर का सबसे पुराना और सबसे प्रमुख सार्वजनिक पुस्तकालय है। गांधी जी ने ऐतिहासिक दांडी मार्च की शुरुआत के आसपास अपने आश्रम की पुस्तकों के साथ एक सार्वजनिक पुस्तकालय बनाने का प्रस्ताव रखा था। पुस्तकालय की नींव गांधी जी ने रखी थी और इसका उद्घाटन 15 अप्रैल, 1938 को सरदार वल्लभभाई पटेल ने किया था।

आज यहां सबसे अधिक मांग वाली पुस्तकें हैं:

रॉबर्ट कियोसाकी की रिच डैड पूअर डैड

रोंडा बर्न की सीक्रेट

महेश याज्ञनिक की मुख्यमंत्री

महेश याज्ञनिक की गमन या गमन

काजल ओज की मौनराज

प्रेमचंद की निर्मला

जय वासवदा की जय हो

झावेरचंद मेघानी की सौराष्ट्र नी रसधर

कोवी सीन की 7 हैबिट्स ऑफ हाइली फुलफिल्ड

गुजरात विद्यापीठ पुस्तकालय

सेंट्रल लाइब्रेरी के रूप में इसकी स्थापना 1920 में हुई। तब से यह गुजरात की पुस्तकों, पत्रिकाओं और पांडुलिपियों के सबसे समृद्ध भंडारों में से एक बन गई है। गुजरात विद्यापीठ पुस्तकालय का गौरवशाली इतिहास रहा है। यह गुजरात विद्यापीठ के मुख्य परिसर में स्थित है और इसमें छह लाख से अधिक पुस्तकों, वॉल्यूम सेट, दुर्लभ पुस्तकों और संदर्भों का प्रभावशाली संग्रह है।

यहां जिन किताबों की सबसे ज्यादा डिमांड है, वे हैं:

हरिभाई गुलाबभाई देसाई की शोधोधन पदतिओ अने प्रवीणो।

एजी शाह की समाजशास्त्र संस्थान शोधधतियो अने अंकशास्त्रीय विश्लेशन

अनंत्रे एम रावल की गुजराती साहित्य (मध्यकालीन)

मगनभाई पटेल जो की गांधीजिनुन शिक्षणदर्शन

पन्नालाल पटेल की मलेला जीव

अरुणभाई एल पाठक की भारतमान शैक्षिक प्रणालिनो विकास

एसवी जानी की सौराष्ट्रनो इतिहास (1807-1948)

एजी शाह की आदिवासी समाजजन समाजशास्त्र

एजी शाह की सामाजिक समयाओ

एजी शाह की समाजशास्त्र परिचय

पुस्तकालय के कुछ सदस्य जिन पुस्तकों को घर ले गए हैं और अभी तक वापस नहीं किया है, वे ये हैं-

अनंत्रे रावल की गुजरात साहित्य: मध्यकालीन

चंद्रशंकर भट्ट की उर्मी कविता

रसिकलाल सी पारिख की गुजरातनो राजकीय अने संस्कृत इतिहास: ग्रंथ -1: इतिहास पूर्वभूमिका

पन्नालाल पटेल की मानविनी भवई

जेम्स आर हर्फोर्ड की, सिमेंटिक्स: अ कोर्सबुक

सुमित्रा मंगेश कात्रे की कोशविग्नन

विजय तेंदुलकर की कमला

विजय तेंदुलकर की एक जिद्दी लड़की

भोलानाथ तिवारी की कोष विज्ञान

याज्ञनिक हसु की अंगरस्वप्न।

सीईपीटी लाइब्रेरी

सीईपीटी विश्वविद्यालय की लीलावती लालभाई लाइब्रेरी सामग्री के लिहाज से समृद्ध है। 50,000 से अधिक पुस्तकों के अलावा पत्रिकाओं, थीसिस और छात्रों की रिपोर्टों के साथ विश्वविद्यालय वर्तमान में तीन साल की पुस्तकालय रणनीतिक योजना बना रहा है। पुस्तकालय में पांच दशकों में छात्रों और शिक्षकों द्वारा किए गए शोध से संबंधित 4,500 से अधिक चित्रों का एक अनूठा संग्रह है। यहां निम्नलिखित पुस्तकें सर्वाधिक वांछित हैं-

पैटर्न लैंग्वेज: टाउन्स बिल्डिंग्स कंस्ट्रक्शन

वैलुएशन ऑफ रिअल प्रोपर्टीज

ऑर्डर विदाउट डिजाइनः बाउ मार्केट्स शेप सिटीज

लाइफ विडविन बिल्डिंग्सः यूजिंग पब्लिक स्पेश

डेथ एंड लाइफ ऑफ ग्रेट अमेरिकन सिटीज

हवेलीः वुडेन हाउसेस एंड मैन्संस ऑफ गुजरात

आर्किटेक्चरः फ्रॉम स्पेश एंड ऑर्डर

इलीमेंट्स ऑफ स्पेश मेकिंग

कॉन्सेप्ट्स ऑफ स्पेश इन ट्रेडिशनलग इंडियन आर्किटेक्चर

ऑकुपाइंग एंड कनेक्टिंगः थाउट्स ऑन टेरीटॉरिज एंड स्फियर्स ऑफ इनफ्लुएंस विद पार्टिकुलर रिफरेंस टु ह्यूमन सेटलमेंट

हयात अहमद

यहां के लाइब्रेरेरियन हयात अहमद ने कहा, “छात्रों, संकाय सदस्यों और कर्मचारियों को पुस्तकालय के इंस्टाग्राम पेज के माध्यम से लगातार नई किताबों के बारे में अपडेट किया जाता है।” अहमद ने सूचना उपभोग के बदलते पैटर्न के बारे में भी बात की, जिसके कारण लोगों ने किताबों से इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की ओर रुख किया है। जब आप दुबई के नॉलेज विलेज जैसे अंतरराष्ट्रीय पुस्तकालयों में जाते हैं, तो आपको वर्चुअल रियलिटी डिवाइस, पॉडकास्ट स्टेशन और ऐसे कई अन्य आविष्कार मिलेंगे। यदि आप कहते हैं कि पुस्तकालयों में केवल पुस्तकें होती हैं, तो यह सत्य नहीं है। लाइब्रेरियन सभी प्रकार के ज्ञान के संसाधनों के संरक्षक होते हैं, जो शिक्षण और सीखने में सहायता करते हैं

एएमए

एएमए परिसर में एएमए पुस्तकालय मुख्य रूप से मौजूदा एएमए सदस्यों, संकाय, कर्मचारियों और छात्रों की जरूरतों को पूरा करता है। पुस्तकालय पूर्ण रूप से कम्प्यूटरीकृत है।

पुस्तकालय में प्रबंधन से संबंधित पुस्तकों का अच्छा संग्रह है। पुस्तकालय परिचारक आनंद चौहान के अनुसार, “आज पुस्तकालय में जिन पुस्तकों की वास्तव में मांग है, वे ज्यादातर प्रबंधन और व्यक्तित्व विकास से संबंधित हैं। पाठकों को समय पर पुस्तकें लौटानी पड़ती हैं, लेकिन ब्रिटिश सामाजिक दार्शनिक चार्ल्स हैंडी के ’21 लेटर्स ऑन लाइफ एंड इट्स चैलेंजेज’ और टॉम स्नाइडर और केविन किर्न्स की ‘एस्केपिंग द प्राइस-ड्रिवेन सेल: हाउ वर्ल्ड क्लास सेलर्स क्रिएट एक्स्ट्राऑर्डिनरी प्रॉफिट’ ऐसी दो किताबें हैं जिन्हें पाठकों ने महीनों तक रखी हैं।

Your email address will not be published.