गिफ्ट सिटी को जुलाई में बढ़ावा मिलना तय

| Updated: July 5, 2022 12:43 pm

गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक (गिफ्ट) सिटी को अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय एवं टेक्नोलॉजिकल हब के रूप में बढ़ावा मिलने वाला है। इसलिए कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र (आईएफएससी) में जेपी मॉर्गन चेस, ड्यूश बैंक और जापान के एमयूएफजी के संचालन को 15 जुलाई को औपचारिक रूप से शुरू कर सकते हैं। ऐसा इस मामले से जुड़े तीन लोगों ने बताया है। ये संस्थान वैश्विक ऋण और डेरिवेटिव बाजारों में सबसे बड़े हैं, जो खरबों डॉलर का कारोबार करते हैं।

इस कार्यक्रम में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी शामिल होंगी। लेकिन पीएम की अन्य व्यस्तताओं को देखते हुए शेड्यूल में परिवर्तन भी हो सकता है। ऐसा इस मामले से जुड़े लोगों ने ही बताया।

इस बीच, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (आईएफएससीए) के शीर्ष अधिकारियों और गिफ्ट सिटी में ऑफिस खोलने वाले विदेशी बैंकों के 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल इस समय अंतरराष्ट्रीय निवेशकों को लुभाने के लिए लंदन में है। लंदन में वे 150 से ज्यादा इनवेस्टर्स से मिल सकते हैं। हालांकि गिफ्ट सिटी, जेपी मॉर्गन, ड्यूश बैंक और आईएफएससीए ने इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं की है।

न्यू डेवलपमेंट बैंक, एक सुपरनेशनल ऋणदाता, भी काम शुरू करेगा। प्रधानमंत्री कुछ समर्पित प्लेटफार्मों का भी उद्घाटन कर सकते हैं, जो वैश्विक निवेशकों को आकर्षित करेंगे। इनमें स्थानीय किसानों को उनकी उपज के लिए अंतरराष्ट्रीय खरीदार खोजने में मदद करने के लिए ‘एग्रीटेक’ और सीमित मानवीय हस्तक्षेपों के साथ ऋण आवेदनों को डिजिटल रूप से संसाधित करने के लिए उधारदाताओं के लिए एक फिनटेक मंच शामिल है।

व्यापार की मात्रा में तेज वृद्धि के साथ गिफ्ट सिटी तेजी से जोर पकड़ रहा है। अप्रैल 2015 और सितंबर 2020 के बीच लगभग 129 संस्थाओं ने यहां दुकान खोलीं। जानकार लोगों के अनुसार, तब से लेकर अब तक 180 से अधिक संस्थाओं ने गिफ्ट सिटी में पैर जमा लिए हैं।

आईएफएससीए अब 2023 में कम से कम 400 आवेदनों की उम्मीद कर रहा है। लोगों ने कहा कि इसे जून के अंत तक लगभग 50 आवेदन मिल चुके हैं।

पुनर्बीमा और विमान पट्टे पर देना बैंकिंग के अलावा व्यवसायों के दो महत्वपूर्ण पहलू हैं, जहां गिफ्ट सिटी के अधिकारी विशेष ध्यान दे रहे हैं।

कार्यक्रम में शामिल लोगों ने बताया कि गिफ्ट सिटी के दौरे के दौरान प्रधानमंत्री के उद्योग जगत के प्रतिनिधियों से भी मिलने की उम्मीद है।

आईएफएससीए के अध्यक्ष इंजेती श्रीनिवास ने कहा कि 50 से अधिक वैकल्पिक निवेश फंड, ऑनशोर और ऑफशोर दोनों, गिफ्ट सिटी में आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने आखिरी बार 2017 में गिफ्ट सिटी का दौरा किया था। तब बीएसई की एक शाखा इंडिया आईएनएक्स ग्लोबल ने यहां अपना ऑफिस खोला था।

Read Also : भारतीय मूल की इंजीनियर को अमेरिका की शीर्ष स्व-निर्मित महिला अरबप…

Your email address will not be published.