शारीरिक इच्छाशक्ति महत्वपूर्ण है लेकिन मस्तिष्क है जो अत्यधिक मायने रखता है।

| Updated: July 13, 2021 1:10 pm

भाविना और सोनल पटेलने अभी-अभी यह साबित किया है

35 वर्षीय भाविना और 34 वर्षीय सोनल अब टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने के लिए तैयार हैं.भाविना और सोनल दोनों को पोलियो है और वे कमर से नीचे तक विकलांग हैं। वे टोक्यो पैरालिंपिक में हिस्सा लेंगे।

विश्व रैंकिंग 8वीं भाविना ने 28 अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट खेले हैं और उनमें से उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 5 स्वर्ण, 13 रजत और 8 कांस्य पदक जीते हैं।19वीं रैंकिंग की पैरा एशियन मेडलिस्ट खिलाड़ी सोनल पटेल ने 25 अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट खेलकर भारत के लिए 2 गोल्ड,4 सिल्वर और 6 ब्रॉन्ज मेडल हासिल किए हैं। यह सब उनके कोच ललन दोशी के मार्गदर्शन में हासिल किया गया।

भाविना टेबल टेनिस में पैरालंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली महिला हैं। वह 2016 में क्वालीफाई कर गई थी, लेकिन बोर्ड एक फॉर्म भरने में विफल रहा, इसलिए वह उस साल खेलने में सक्षम नहीं रही।

भाविना कहती हैं,”पैरालिंपिक में खेलना मेरा सपना रहा है, इस सपने ने मुझे सोने भी नहीं दिया,” उन्होंने कहा,”मेरे परिवार के समर्थन के बिना, यह असंभव होता और मेरे मातापिता मेरे लिए भगवान से कम नहीं हैं।” उनका संघर्ष एक छोटे से शहर सुंधिया में शुरू हुआ।एक साल की उम्र में एक बीमारी के चलते उन्हें दूसरी दवा देने से पोलियो हो गया। उसका पूरा परिवार उसकी बीमारी से निराश था लेकिन उन्होंने उसे अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया और उसने बारहवीं कक्षा तक अपनी पढ़ाई पूरी की. भावना वडनगर के पास सुंधिया की रहने वाली हैं.यह वही तालुका है जहां प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का जन्म हुआ,पालनपोषण हुआ और उन्होंने चायवाले के रूप में काम किया।

भाविना परिवार में  एक ही थी जब उसे पोलियो हो गया था.उसके परिवार के पास एक छोटा कटलरी कियोस्क था। भाविना के पिता हसमुखभाई पटेल, ब्लाइंड पीपुल्स

Your email address will not be published. Required fields are marked *