आधी शताब्दी बाद “नरक के द्वार” को बंद करने की तैयारी

| Updated: January 11, 2022 11:29 pm

1970 के दशक से जल रही जमीन में एक गहरी खाई को आखिरकार बुझाया जाना है।जो तुर्कमेनिस्तान की राजधानी अश्गाबात से लगभग 150 मील उत्तर में काराकुम रेगिस्तान में स्थित है। जिसे”नरक का द्वार ” कहा जाता है , ज्वलनशील यह गहरी खाई 230 फ़ीट चौड़ी है |

ज्वलनशील यह गहरी खाई 230 फ़ीट चौड़ी है |

यह खाई कैसे बनी यह कोई नहीं जानता लेकिन लोकमान्यता के मुताबिक 1971 सोवियत रूस के वैज्ञानिक रेगीस्तान में प्राकृतिक गैस की खोज कर रहे थे इस दौरान मिट्टी की ऊपरी परतें अंदर की ओर धंस गईं – जिससे खतरनाक गैस से भरा 70 फुट गहरा गड्ढा बन गया।यह सोचकर कि गैस से छुटकारा पाने का सबसे अच्छा तरीका इसे प्रज्वलित करना है सोवियत संघ ने ऐसा ही किया – यह मानते हुए कि यह कुछ हफ़्ते में खुद ही बुझ जायेगा ,लेकिन ऐसा नहीं हुआ |
51 साल बाद भी यह ज्वलनशील खाई और सक्रियता से जल रही है ,जिसकी आग को मिलो दूर से देखा जा सकता है |

इस “नरक के द्वार ” को बंद करने का कोई तरीका खोजने का आदेश दिया है।

लेकिन क्या यह अंतत: सील होने वाला है? एकांतप्रिय राष्ट्र के राष्ट्रपति गुरबांगुली बर्दीमुहामेदोव ने अपने वैज्ञानिकों को इस “नरक के द्वार ” को बंद करने का कोई तरीका खोजने का आदेश दिया है।

साथ ही लगातार जलने के कारण यह “नरक का द्वार ” दशकों से मीथेन और अन्य हानिकारक गैसों को उगल रहा है जो स्थानीय लोगों के स्वास्थ्य के लिए चिंता का विषय बन गया है।

तुर्कमेनिस्तान की सरकार इससे पहले भी आग बुझाने की कोशिश कर चुकी है।

दिलचस्प बात यह है कि तुर्कमेनिस्तान की सरकार इससे पहले भी आग बुझाने की कोशिश कर चुकी है।2010 में, बर्डीमुखामेदोव ने विशेषज्ञों को इसे बंद करने का आदेश दिया था |

तीन साल बाद, तुर्कमेनिस्तान के नेता ने उग्र क्रेटर के आसपास के क्षेत्र को एक प्राकृतिक रिजर्व घोषित कर दिया, इसे एक पर्यटकक्षेत्र में बदल दिया। इसे देखने के लिए हर साल हजारों लोग यात्रा करते हैं।

तीन साल बाद इसे एक पर्यटक क्षेत्र में बदल दिया।

बर्डीमुखमेदोव ने 2019 में एक रैली कार में अपनी मौत की अफवाहों को खारिज करने के लिए गड्ढा के चारों ओर डोनट्स करते हुए खुद का एक वीडियो भी फिल्माया।

इसे देखने के लिए हर साल हजारों लोग यात्रा करते हैं।

लेकिन अब ऐसा प्रतीत होता है कि 64 वर्षीय शासक ने अपना मन बदल लिया है उनके मुताबिक देश में लोकप्रिय पर्यटक स्थल अन्य भी हैं

नरक के द्वार को बंद करने के के अपने निर्णय की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा, ‘हम अपनी स्वतंत्र मातृभूमि के विशाल हाइड्रोकार्बन संसाधनों के विकास के लिए सभी आवश्यक परिस्थितियों का निर्माण कर रहे हैं – और करना जारी रखेंगे, हमारे लोगों के हित में |

तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रपति गुरबांगुली बर्दीमुहामेदोव


तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रपति गुरबांगुली बर्दीमुहामेदोव ने तुर्कमेनिस्तान के मंत्रियों को आदेश दिया गया है – “नरक का द्वार” बंद करने के लिए दुनिया के किसी कोने से विशेषज्ञ खोजे जाएं |

क्या यह किया जा सकता है? हम सभी को इंतजार करना होगा और देखना होगा।

Your email address will not be published.