भाजपा नेता और राजनीतिक रणनीतियों के वास्तुकार सुनील ओझा ने ली अंतिम सांस - Vibes Of India

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

भाजपा नेता और राजनीतिक रणनीतियों के वास्तुकार सुनील ओझा ने ली अंतिम सांस

| Updated: November 29, 2023 14:36

सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता और गुजरात के पूर्व विधायक सुनील ओझा (Sunil Oza) का आज राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में निधन हो गया। ओझा, जिन्हें पिछली बार भाजपा की बिहार इकाई के संयुक्त प्रभारी के रूप में नियुक्त किया गया था, की पार्टी के भीतर एक महत्वपूर्ण राजनीतिक यात्रा थी।

बिहार में अपनी भूमिका से पहले, उन्होंने भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई के संयुक्त प्रभारी के रूप में कार्य किया, जहां वे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के लोकसभा क्षेत्र वाराणसी की देखरेख के लिए जिम्मेदार थे।

गुजरात के भावनगर के रहने वाले ओझा (Oza) को आज सुबह अचानक दिल का दौरा पड़ा, जिससे दिल्ली में उनका असामयिक निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार 30 नवंबर को वाराणसी में होने वाला है। ओझा के राजनीतिक इतिहास में 2007 में पार्टी के खिलाफ एक उल्लेखनीय विद्रोह शामिल है, जो पार्टी टिकट से इनकार के कारण हुआ था। उस दौरान उन्होंने एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा लेकिन दुर्भाग्य से हार गए। इसके बाद, वह गोर्धन जदाफिया के नेतृत्व वाली एमजेपी में शामिल हो गए, और बाद में भाजपा के साथ फिर से जुड़ गए।

ओझा ने राजनीतिक परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, खासकर उन महत्वपूर्ण वर्षों के दौरान जब प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 2002 में पहली बार गुजरात में विधानसभा चुनाव लड़ा था। उस समय, ओझा ने राजकोट के प्रभारी के रूप में कार्य किया था। 2002 में भावनगर दक्षिण सीट से गुजरात विधानसभा के लिए चुने जाने के बाद भी उनकी राजनीतिक यात्रा जारी रही।

पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ अपनी निकटता के लिए जाने जाने वाले ओझा ने पार्टी के संगठनात्मक ढांचे के भीतर कई वर्षों तक पर्दे के पीछे से काम किया। उनका ध्यान मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे चुनावी रूप से महत्वपूर्ण राज्यों पर केंद्रित था, जिससे इन क्षेत्रों में पार्टी के प्रयासों में महत्वपूर्ण योगदान मिला। ओझा का अप्रत्याशित निधन एक युग के अंत जैसा है, जिससे भाजपा के संगठनात्मक ढांचे में एक खालीपन आ गया है।

यह भी पढ़ें- गुजरात उच्च न्यायालय ने अजान के लिए मस्जिद के लाउडस्पीकर पर प्रतिबंध लगाने की मांग वाली जनहित याचिका की खारिज

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d