परेशानी से बचना है तो क्रेडिट कार्डधारक ऐसे रखें अपने सिबिल स्कोर का ध्यान

| Updated: May 23, 2022 9:40 am

आजकल हर किसी के पास क्रेडिट कार्ड होता है। हालांकि बहुत लोगों का उसके सही इस्तेमाल की जानकारी ही नहीं होती है। क्रेडिट कार्ड का सही इस्तेमाल कैसे हो सकता है? क्या करें, क्या न करें? ऐसे कई सवाल उठते हैं, जिससे सिबिल स्कोर प्रभावित होता है। ऐसे में आइए, हम आपको बताते हैं कुछ ऐसी बातें, जो एक क्रेडिट कार्डधारक के लिए जानना बहुत जरूरी हैं। तो आइए जानें..

समय पर भुगतान नहीं कर पाए तो लेट पेमेंट चार्ज तो लगता ही है, साथ ही आउटस्टैंडिंग पर ब्याज भी लगता है। यह 50% सालाना तक हो सकता है। इससे बचने के लिए समय पर भुगतान करना चाहिए। अगर फुल पेमेंट नहीं कर सकते हैं, तो मिनिमम आउटस्टैंडिंग का भुगतान जरूर समय पर कर दें। आप अपने कार्ड को बैंक अकाउंट से भी लिंक कर सकते हैं, ताकि समय पर भुगतान खुद हो जाए। ऐसा करके लेट पेमेंट चार्ज और आउटस्टैंडिंग पर लगने वाले ब्याज से बच सकते हैं।

क्रेडिट लिमिट

क्रेडिट कार्ड की लिमिट को कभी भी पूरा यूज नहीं करें। इससे बचना चाहिए। इसलिए कि क्रेडिट लिमिट का फुल एमाउंट यूज करने से क्रेडिट स्कोर खराब होता है। अगर आपके पास एक-एक लाख रुपये की क्रेडिट लिमिट वाले 3 कार्ड हैं, तो आप किसी भी एक कार्ड की पूरी लिमिट को खर्च न करें, बल्कि तीनों का इस्तेमाल करें।

कैश निकालने से बचें

क्रेडिट कार्ड से कभी भी कैश न निकालें। इसलिए कि उसके ऊपर क्रेडिट पीरियड (खर्च करने और बिलिंग के बाद भूगतान करने की आखिरी तारीख तक बिना ब्याज वाली अवधि) नहीं मिलता है। ऐसे में कार्ड पर जो भी ब्याज दर लगती है, वह पैसा निकलने के दिन से ही शुरू हो जाएगी। इसके ऊपर अलग से भी चार्ज होता है।

ज्यादा क्रेडिट कार्ड न रखें

कई को-ब्रॉन्डेड कार्ड होते हैं, जैसे- ट्रैवल कार्ड अलग होता है, पैट्रोल कार्ड अलग होता है, शॉपिंग कार्ड अलग है। इनमें रिवॉर्ड पॉइंट्स होते हैं। इस चक्कर में कई बार लोग कई कार्ड्स रखना पसंद करते हैं, लेकिन कई बार बहुत सारे कार्ड होने से उन्हें संभालना मुश्किल होता है। इसीलिए, ज्यादा क्रेडिट कार्ड रखने से बचना चाहिए।

Your email address will not be published.