दीपक तले अंधेरा: कोटक्षेत्र के 50% लोगों ने अभी भी नहीं लिया कोरोना टीका का पहला डोज़

| Updated: January 7, 2022 8:02 am

अहमदाबाद में रॉकेट की रफ्तार से कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं. इसलिए कोरोना की तीसरी लहर से जान बचाने के लिए वैक्सीन की दोनों खुराक लेना बेहद जरूरी है अहमदाबाद महानगर पालिका शहर के कई इलाकों में टीकाकरण अभियान भी चला रही है.लेकिन अभी तक निगम से सटे कोट क्षेत्र के 50 फीसदी लोगों ने वैक्सीन की पहली खुराक तक नहीं ली है. और ना ही अभी तक एएमसी द्वारा टीकाकरण के लिए कोई विशेष पहल भी नहीं की गई है | लोगों की जागरूकता के प्रयास भी उस स्टार पर नहीं हुए जिसकी जरुरत है | कोट क्षेत्र में कोरोना की पहली और दूसरी लहर में सबसे ज्यादा मामले सामने आए लेकिन एएमसी अभी भी उदासीन है।
अहमदाबाद नगर निगम लोगों से टीकाकरण कराने की अपील कर रहा है क्योंकि शहर में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। लोगों को वैक्सीन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एएमसी द्वारा पुरस्कारों की भी घोषणा की गई। हालांकि, शहर में अभी भी कई इलाके ऐसे हैं जहां लोगों को वैक्सीन नहीं मिल पा रही है और जाहिर है कि एएमसी उस इलाके पर भी ध्यान नहीं दे रही है.
शहर का कोट विस्तार जो नगर निगम मुख्यालय से सटा हुआ है और जहां 50 फीसदी लोगों ने वैक्सीन की पहली खुराक तक नहीं ली है. लेकिन एएमसी को इस बात की जानकारी है या नहीं, या पता है तो क्या एएमसी आंखें मूंद रही है?

कांग्रेस विधायक इमरान खेड़ावाला


जमालपुर-खड़िया से कांग्रेस विधायक इमरान खेड़ावाला ने वीओआई को बताया, कि उनके क्षेत्र में टीकाकरण की गति कम है उन्होंने भी कुछ दिन पहले ही टीका लगवाया है और लोगो से टीका लगवाने की अपील भी की है | धर्मगुरुओं ने भी लोगों से टीकाकरण की अपील की थी. कांग्रेस विधायक ने आगे कहा कि “लोगों से निकट भविष्य में फिर से टीकाकरण कराने की अपील की जाएगी और एक शिविर का आयोजन किया जाएगा।”

अहमदाबाद नगर निगम


स्वास्थ्य विभाग के अध्यक्ष भरत पटेल ने वीओआई को फोन पर बातचीत में बताया कि अहमदाबाद नगर निगम की टीम द्वारा आशा कार्यकर्ताओं को घर-घर जाकर टीका लगवाने की सूचना दी जा रही है. लेकिन आपको बता दें कि अभी तक कोट क्षेत्र, खासकर रायखर में निगम द्वारा एक भी व्यक्ति या आशा कार्यकर्ता का टीकाकरण नहीं होने की सूचना है.

कोरोना का एपी सेंटर था जमालपुर

कोट विस्तार में जनसँख्या घनत्व बहुत अधिक है |लोगों के घरों की नजदीकी से भी कोरोना के मामलों को बढ़ने के लिए संभव बनाती है। सबसे बुरा हाल जमालपुर का है. दूसरी लहर में, क्षेत्र में हजारों मामले सामने आए और मरने वालों की संख्या 100 से अधिक हो गई। तीन बड़े अस्पतालों में भी कोरोना के इलाज की अनुमति दी गई।हालांकि, जमालपुर में इतने मामले आए कि यह पूरे राज्य का एपी केंद्र बन गया। निगम की ओर से उस वक्त कोरोना की टेस्टिंग भी तेज कर दी गई थी, |
दूसरी लहर ने 100 से ज्यादा लोगों की जान ले ली

नगर निगम के बगल वाले कोट क्षेत्र में दूसरी लहर में कोरोना इतनी तेजी से बढ़ा कि लोगों में कोहराम मच गया. उस समय निगम ने इलाके की घेराबंदी कर दी थी। वहीं, कोरोना ने 100 से ज्यादा लोगों की जान ले ली।


6 लाख लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक नहीं मिली है

अहमदाबाद नगर निगम ने दूसरी खुराक नहीं लेने वालों के खिलाफ अहम फैसला लिया है. जिसमें स्थानीय पुलिस की मदद ली जाएगी। सभी लोगों की जानकारी स्थानीय थाने को दी जाएगी और उन्हें बुलाकर दूसरी खुराक की याद दिलाई जाएगी। हालांकि, सिस्टम की चिंता बढ़ रही है क्योंकि शहर में 6 लाख से ज्यादा लोगों ने अभी तक दूसरी खुराक नहीं ली है।
पुलिस उन लोगों को याद दिलाएगी जो दूसरी खुराक नहीं ले रहे

अहमदाबाद नगर निगम ने दूसरी खुराक नहीं लेने वालों के खिलाफ अहम फैसला लिया है. जिसमें स्थानीय पुलिस की मदद ली जाएगी। सभी लोगों की जानकारी स्थानीय थाने को दी जाएगी और उन्हें बुलाकर दूसरी खुराक की याद दिलाई जाएगी। हालांकि, सिस्टम की चिंता बढ़ रही है क्योंकि शहर में 6 लाख से ज्यादा लोगों ने अभी तक दूसरी खुराक नहीं ली है।

Your email address will not be published.