एक ऐसा मंच जो बच्चों में रचनात्मकता को देता है बढ़ावा

|India | Updated: May 6, 2022 5:48 pm

भारत और विदेशों में 140 कस्बों व शहरों के बच्चे बुकोस्मिया को लेख, कला कार्य और फोटो के रूप में
अपना योगदान देते हैं।

बुकोस्मिया Bookosmia (जिसका अर्थ है ‘किताबों की खुशबू’) एक ऐसा मंच है जो बच्चों में रचनात्मकता
को बढ़ावा देता है। इसका मुख्यालय बेंगलुरु में है, लेकिन इसे दुनिया भर के 140 कस्बों और शहरों में
स्थित बच्चों से योगदान मिलता रहता है। यह भारत में ‘बच्चों के लिए, बच्चों द्वारा’ सामग्री प्रकाशित
करने वाला सबसे बड़ा मंच है। बच्चों द्वारा लिखी गई लगभग 120 डिजिटल कहानियां हर महीने यहां
प्रकाशित होती हैं।

बच्चों द्वारा दिए गए योगदान, जो नि: शुल्क प्रकाशित होते हैं, में लेख, कविताएं, निबंध, लघु कथाएं,
पुस्तकों और फिल्मों की समीक्षा, यात्रा के अनुभव, कलाकृति और तस्वीरें शामिल हैं।

बुकोस्मिया Bookosmia की स्थापना 2017 में IIM, अहमदाबाद की पूर्व छात्रा निधि मिश्रा ने की थी, जिन्होंने
पढ़ने और लिखने के माध्यम से बच्चों से जुड़ने के लिए बैंकर की नौकरी छोड़ दी थी। निधि कहती हैं:
“जैसे-जैसे मैं कॉर्पोरेट सीढ़ी पर चढ़ रही थी, मुझे लगा कि मैं अपने समय के साथ कुछ और सार्थक
करना चाहती हूं। मैं तब तक मां बन चुकी थी। मैंने महसूस किया कि भारतीय बच्चों के लिए अच्छी
गुणवत्ता वाली संबंधित सामग्री की कमी है। शुरुआत में, मैंने भौतिक पुस्तकें प्रकाशित करने के बारे में
सोचा लेकिन फिर तय किया कि समय बदल गया है, इसके लिए एक डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म अधिक उपयुक्त
होगा।”

पत्रकार अर्चना मोहन 2018 में सह-संस्थापक के रूप में इसके साथ शामिल हुईं और यहां प्रकाशित
कंटेन्ट की प्रमुख हैं। जल्द ही, दोनों ने महसूस किया कि बच्चों के पास साझा करने के लिए बहुत कुछ
है। तो, बच्चों को अपने कंटेन्ट बनाने का अवसर क्यों नहीं दिया जाना चाहिए?

“5 से 18 वर्ष की आयु का कोई भी बच्चा ईमेल भेजकर या वेबसाइट पर अपलोड करके बुकोस्मिया में
अपना योगदान कर सकता है। हम वर्तनी और व्याकरण के बारे में ज्यादा चिंता नहीं करते हैं। हम
विचार पर ध्यान केंद्रित करते हैं। हमारी टीम आवश्यकता पड़ने पर सुधार करती है। हमारा मानना है कि
हर बच्चे के पास बताने के लिए एक कहानी होती है। दरअसल, ‘एवरी यंग वॉयस मैटर्स’ हमारी टैगलाइन
है। जबकि हम इसे वर्तमान में अंग्रेजी में प्रकाशित करते हैं, हम वंचित पृष्ठभूमि के उन बच्चों को नहीं छोड़ना चाहते जो अंग्रेजी में पारंगत नहीं हैं। हम भविष्य में इसे स्थानीय भारतीय भाषाओं में विस्तार
करने की योजना बना रहे हैं, ”अर्चना कहती हैं।

Bookosmia को केवल बड़े महानगरों से ही योगदान नहीं मिलता है। छोटे शहरों से भी नियमित लेख आते
हैं। यह ई-पुस्तकें भी प्रकाशित करता है जो बच्चों द्वारा लिखकर भेजीं जाती हैं। ‘ग्रेटीट्यूट ड्यूरिंग
कोविड’, ‘बापू लीव्स वीथिन मी’ (महात्मा गांधी की शिक्षाओं की प्रासंगिकता पर किशोरों के विचारों के बारे
में) और ‘इट्स नॉट ओके’ (किशोरों द्वारा भेदभाव के खिलाफ निबंध) प्रकाशित कुछ ई-पुस्तकें हैं।

बच्चों के लिए रचनात्मक लेखन के विशिष्ट लाभ क्या हैं? इस पर अर्चना बताती हैं, “लिखने के माध्यम
से भावनाओं और विचारों को व्यक्त करना मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। लेखन विचारों की
स्पष्टता विकसित करने और आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद करता है। संचार कौशल में सुधार के अलावा,
लेखन प्रेरक कौशल भी विकसित करता है। भाषा की खोज और सही शब्दों की तलाश से शब्दावली का
निर्माण होता है। अंत में, नियमित रूप से लिखने से बच्चे को अनुशासन पैदा करने में मदद मिलती है।”

माता-पिता अपने बच्चों को उनकी अंतर्निहित रचनात्मकता को बढ़ावा देने में कैसे मदद कर सकते हैं?
इस पर उन दोनों का मानना है कि, माता-पिता को बच्चों के लिए अलग समय रखना चाहिए, जहां वे
बंधन में बंध सकें और उनके बच्चे अपने विचार खुलकर व्यक्त कर सकें। मजेदार गतिविधियां जैसे
‘फिल्म के लिए वैकल्पिक अंत खोजने की कहानी को जारी रखना रचनात्मकता को प्रोत्साहित करता है।
सैर के दौरान, बच्चों को पत्थर, टहनियाँ और पत्ते जैसी चीज़ें लेने और उनके बारे में एक कविता या
कहानी बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। लोकप्रिय गीतों और फोटोग्राफी के लिए अपने स्वयं
के गीत बनाना भी रचनात्मक होने के तरीके हैं।

सभी बच्चे लिखने में सहज नहीं होते हैं। कुछ बोलना पसंद करते हैं। बुकोस्मिया भी वीडियो पोस्ट करता
है और किशोरों के लिए दो पॉडकास्ट करता है। “हम ‘ट्रेंडिंग विद टीन्स’ नामक टॉपिक पर भारत का
पहला किशोर पॉडकास्ट चलाते हैं। निधि कहती हैं, हमारे एक अन्य पॉडकास्ट का नाम ‘व्हाट्स ऑन माई
माइंड’ है और यह किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य के बारे में है।”

बच्चों के लिए विज्ञान को मजेदार बनाना एक और पहल है। निधि कहती हैं: “हम विज्ञान को दिलचस्प
तरीके से पढ़ाने के लिए IIT गुवाहाटी के संकाय के साथ काम कर रहे हैं। हमने घर में विज्ञान खोजने पर
उनके लिए दो किताबें तैयार कीं हैं। हमने बच्चों को आवर्त सारणी के बारे में मजेदार तरीके से सीखने में
मदद करने के लिए एक संवर्धित रियालिटी ऐप भी बनाया है। हम जल्द ही 1200 स्कूलों में यह ऐप
वितरित करेंगे।”

एक और अनूठी और प्रभावशाली पहल में, बुकोस्मिया ने मुग्धा कालरा नॉट दैट डिफरेंट के साथ सह-
निर्माण किया है, जो बच्चों को ऑटिज्म और न्यूरोडायवर्सिटी को समझने में मदद करने वाली पहली
कॉमिक बुक है। पुस्तक 10 वर्षीय सारा और उसके नए दोस्त माधव का अनुसरण करती है, जो ऑटिज्म
स्पेक्ट्रम पर है। “बच्चे जिज्ञासु होते हैं और बेहतर ढंग से समझने के लिए प्रश्न पूछते हैं। वे अभी भी
पूर्वाग्रह और कंडीशनिंग से मुक्त हैं और किसी विषय को समझने और समावेशिता का अभ्यास करने के
लिए सबसे अच्छी स्थिति में हैं,” निधि कहती हैं।

Your email address will not be published.