शादी के कार्ड से शुरू हुआ ‘लव जिहाद’ का मामला, परिजनों ने कार्यक्रम को किया रद्द

| Updated: July 13, 2021 3:32 pm

पिछले हफ्ते, नासिक में एक परिवार के सदस्यों ने अपने समुदाय के विरोध के बाद हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार अपनी 28 वर्षीय बेटी की शादी एक मुस्लिम व्यक्ति से करने के लिए एक समारोह को रद्द कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने इस शादी को ‘लव जिहाद’ का मामला बताया है।

वे दोनों दो दिलों, दो परिवारों और दो धर्मों के मिलन का जश्न मनाना चाहते थे। लेकिन उस सपने को बिगाड़ने के लिए एक लीक हुए शादी के कार्ड की जरूरत थी।

पिछले हफ्ते, नासिक में एक परिवार के सदस्यों ने अपने समुदाय के विरोध के बाद हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार अपनी 28 वर्षीय बेटी की शादी एक मुस्लिम व्यक्ति से करने के लिए एक समारोह को रद्द कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने इस शादी को ‘लव जिहाद’ का मामला बताया। लेकिन उनकी कहानी यहीं खत्म नहीं हुई!

भले ही समारोह रद्द कर दिया गया था, परिवार के सदस्यों ने फैसला किया कि वे अपनी बेटी की पसंद के साथ खड़े रहेंगे। उनके अनुसार, जबरन धर्म परिवर्तन का कोई प्रयास नहीं किया गया था। और शादी को पहले ही एक स्थानीय अदालत में पंजीकृत करा दिया गया था।

एक प्रमुख ज्वेलर और दुल्हन के पिता प्रसाद अदगांवकर ने कहा कि उनकी बेटी रसिका शारीरिक रूप से विकलांग थी और परिवार को उसके लिए एक मिलता-जुलता रिस्ता खोजने में कुछ कठिनाई का सामना करना पड़ रहा था। हाल ही में, उसने और उसके एक पूर्व सहपाठी आसिफ खान ने शादी के बंधन में बंधने की इच्छा जाहिर की। चूंकि दोनों परिवार एक-दूसरे को पिछले कुछ सालों से जानते थे, इसलिए वे रिश्ते के लिए राजी हो गए।

अडगांवकर ने कहा, मई में दोनों परिवारों की उपस्थिति में नासिक की एक अदालत में शादी का पंजीकरण कराया गया था। उस समय, वे महिला के ससुराल जाने से पहले 18 जुलाई को रसम-रिवाज करने के लिए भी सहमत हुए।

पिता ने कहा कि समारोह नासिक के एक होटल में करीबी रिश्तेदारों की मौजूदगी में होना था। लेकिन फिर, उन्होंने कहा, निमंत्रण कार्ड की एक प्रति कई व्हाट्सएप समूहों में प्रसारित हो गई, जिससे समारोह को रद्द करने के लिए “अजनबियों” के विरोध, संदेश और कॉल आने शुरू हो गए।

अडगांवकर ने कहा कि नौ जुलाई को समुदाय के लोगों ने उनसे मिलने के लिए कहा था। मुलाकात के दौरान ज्वेलरी ने दावा किया कि उसे समारोह न करने की ‘सलाह’ दी गई थी। परिवार के एक अन्य सदस्य ने कहा, “समुदाय के लोगों और अन्य लोगों की ओर से बहुत दबाव आने लगा और इसलिए शादी समारोह को रद्द करने का फैसला किया गया।”

इसके बाद, परिवार ने एक स्थानीय सामुदायिक संगठन को एक पत्र सौंपा कि समारोह को रद्द कर दिया गया।

लेड सुवर्णाकर संस्था, नासिक के अध्यक्ष सुनील महलकर, जिन्हें पत्र संबोधित किया गया था, ने कहा: “हमें परिवार से एक पत्र मिला है और उन्होंने हमें सूचित किया है कि शादी रद्द कर दी गई है।”

इस मामले में बयान के लिए लड़के के परिवार से संपर्क नहीं हो सका। और महिला के परिवार ने इस मुद्दे पर पुलिस से संपर्क नहीं करने का फैसला किया है।

लेकिन, साथ ही, वे इस बात पर दृढ़ हैं कि: चाहे कुछ भी हो, युवा जोड़े को अलग होने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा।

Your email address will not be published. Required fields are marked *