अहमदाबाद: नगर नियोजन अधिकारी के राय की वैधता एक वर्ष तक बढ़ाई गई

| Updated: October 12, 2022 6:17 pm

राज्य सरकार ने रियल एस्टेट परियोजनाओं (real estate projects) पर राज्य नगर नियोजन अधिकारी (town planning officer) की राय की वैधता अवधि को पहले छह महीने से बढ़ाकर एक वर्ष कर दिया है। यह राय की वैधता अवधि को पूरी तरह से समाप्त करने के शहर के नागरिक निकाय के हालिया निर्णय पर भ्रांतियों को खारिज करता है।
नगर नियोजन योजना (town planning scheme) के मसौदे में अपने भूखंड पर एक अचल संपत्ति परियोजना (real estate project) के लिए विकास की अनुमति मांगते समय, बिल्डरों को मुख्य नगर योजनाकार और राज्य द्वारा नियुक्त नगर नियोजन अधिकारी (टीपीओ) से नियमों को ध्यान में रखते हुए राय लेने की आवश्यकता होती है। यह उस भूखंड की सीमा, आकार और अभिविन्यास की स्पष्टता सुनिश्चित करने के लिए है जिस पर विकास कार्य किया गया है।
राय की वैधता अवधि नियमों के अनुसार छह महीने होती थी। मुख्य नगर योजनाकार चैतन्य शाह (Chaitanya Shah) ने 9 सितंबर को जारी एक परिपत्र के माध्यम से राय की छह महीने की वैधता को समाप्त कर दिया था।
हालांकि, सरकार ने राय की वैधता(validity of the opinion) को खत्म करने के एएमसी (AMC) के फैसले को रद्द कर दिया है क्योंकि यह भ्रम पैदा करेगा कि टीपीओ, जमींदारों के सुझावों और आपत्तियों के आधार पर टीपी योजना में बदलाव करता है।
28 सितंबर को राज्य के शहरी विकास विभाग (urban development department) ने राज्य के सभी नगर आयुक्तों और शहरी विकास प्राधिकरणों (urban development authorities) के सभी सीईओ को संबोधित करते हुए एक सर्कुलर जारी किया था। इसमें कहा गया है कि अंतिम भूखंड पर टीपीओ (TPO) की राय एक वर्ष के लिए वैध है। सर्कुलर में यह भी कहा गया है कि टीपी योजना में अधिकांश सड़कें 18 मीटर चौड़ी होंगी।
इस आदेश के बाद, एएमसी (AMC) के नगर नियोजन विभाग ने 11 अक्टूबर को एक सर्कुलर जारी कर 9 सितंबर के सर्कुलर को रद्द कर दिया था। नवीनतम परिपत्र में कहा गया है कि यदि टीपीओ (TPO) की राय की एक वर्ष की वैधता समाप्त हो गई है, तो डेवलपर्स को फिर से सीसीपी (CCP) की राय लेने की आवश्यकता होगी।

अडाणी डेटा नेटवर्क को मिला सभी तरह की टेलीकॉम सर्विस देने का लाइसेंस

Your email address will not be published. Required fields are marked *