14 इंजीनियरिंग कॉलेजों में आठ राज्यों में पांच राष्ट्रीय भाषाओं में पढ़ाए जाएंगे पाठ्यक्रम – जे.पी. नड्डा

| Updated: September 22, 2022 7:09 am

नई शिक्षा नीति केवल डिग्री देने के बारे में नहीं है, बल्कि कौशल, विश्वास और व्यावहारिकता से लैस करने के बारे में भी है। 14 इंजीनियरिंग कॉलेजों में आठ राज्यों में पांच राष्ट्रीय भाषाओं में पाठ्यक्रम पढ़ाए जाएंगे। निकट भविष्य में भारत गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के क्षेत्र में एक बड़ा हब बनेगा। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने अहमदाबाद में आयोजित प्राध्यापक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए उक्त विचार व्यक्त किये।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने कहा कि ” आज देश के युवाओं को दिशा देने वाले दिग्गजों से मिलना मेरा सौभाग्य है. प्रोफेसरों को अच्छे काम के लिए किसी से सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है। यूनिवर्सिटी की शुरुआत भारत से ही हुई थी।”

आगे उन्होंने कहा कि ”  नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय भारत में थे। भारत शिक्षा का केंद्र रहा है और विश्वविद्यालय की अवधारणा भारत के लिए अद्वितीय है। गुरुकुल की परंपरा सदियों पुरानी है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने नालंदा विश्वविद्यालय को एशियाई गौरव में वापस लाने के लिए लगभग 2700 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। अगले 25 वर्षों में एक विकसित भारत बनाना है। “

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने उद्बोधन में भारतीय शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि ” एक विकसित भारत शिक्षा के मामले में भी आगे होना चाहिए। सरकार का काम है कि वह हर क्षेत्र में उचित बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराए और आज देश के प्रधानमंत्री  वह कर रहे हैं, उन्होंने  एक नई शिक्षा नीति दी। नई शिक्षा नीति के लिए लगभग 50 लाख सुझाव प्राप्त हुए, जिसमें से 2 लाख सुझावों को स्वीकार कर लिया गया और उसके बाद नई शिक्षा नीति चर्चा के बाद तैयार की गई है। नई शिक्षा नीति भारत की मिट्टी से तैयार की गई है। नई शिक्षा शास्त्र विश्लेषण की शक्ति को मजबूत करेगा, दिमाग के अनुप्रयोग को मजबूत करेगा। नई शिक्षा नीति केवल डिग्री देने के बारे में नहीं है, बल्कि कौशल, विश्वास और व्यावहारिकता से लैस करने के बारे में है। 14 इंजीनियरिंग कॉलेजों में आठ राज्यों में पांच राष्ट्रीय भाषाओं में पाठ्यक्रम पढ़ाए जाएंगे। निकट भविष्य में भारत गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के क्षेत्र में एक बड़ा हब बनेगा।

नड्डा ने आगे कहा कि आज हमारे देश में 22 आईआईएम स्थापित किए गए हैं, 1043 विश्वविद्यालय स्थापित किए गए हैं। स्नातकोत्तर की 80 प्रतिशत सीटें खाली हैं। इस तथ्य के बावजूद कि पश्चिमी देश कोरोना काल में स्वास्थ्य के क्षेत्र में हमसे बहुत आगे है, राजनीतिक नेता यह तय नहीं कर सके कि वे व्यक्ति को बचाएं या अर्थव्यवस्था को। सिर्फ तीन महीने में पश्चिमी देशों के स्वास्थ्य की स्थिति खराब हुई है, लेकिन हमारे प्रधानमंत्री ने “जान है तो जहान है” का नारा दिया।

इससे पहले देश में महामारी के दौरान वर्षों बीत जाने के बाद भी वैक्सीन नहीं थी, लेकिन  प्रधानमंत्री  ने कोरोना काल में सिर्फ 9 महीने में देश के वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया जिससे दो टीके बनाने में भारत कामयाब हुआ । भारत आज डिजिटाइजेशन में सबसे आगे है।

किसानों को प्राकृतिक आपदा से तीन साल में 6622 करोड़ की मदद की गई – राघव जी पटेल 

Your email address will not be published.