रेशमा भरत सोलंकी बोलीं- मानसिक प्रताड़ना के बावजूद उनके साथ रहने को तैयार हूं

| Updated: July 15, 2021 12:48 pm

भरतसिंह सोलंकी और उनकी पत्नी के बीच विवाह विवाद और तेज हो गया है। उनकी पत्नी ने अब एक सार्वजनिक नोटिस जारी किया है। इसमें अपने खिलाफ लगाए गए सभी आरोपों का खंडन किया है। दरअसल अपने नोटिस के माध्यम से उन्होंने बताया है कि यह वह थीं, जिसकी लगातार देखभाल और सहयोगी के कारण ही कोविड के गंभीर संक्रमण के बावजूद अहमदाबाद के अस्पताल में 102 दिन तक रहने के बाद भरत सोलंकी पूरी तरह स्वस्थ हो पाए।

रेशमा का आज का नोटिस उनके पति और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भरत माधवसिंह सोलंकी के सार्वजनिक नोटिस के बाद आया है, जिसमें लोगों से किसी भी प्रकार के लेन-देन में शामिल नहीं होने के लिए कहा गया है। भरत 13 साल बाद अपनी दूसरी पत्नी से तलाक चाहते हैं। वह 67 वर्षीय भरत से 24 साल छोटी हैं। आज के नोटिस में रेशमा ने अपने पति पर भयानक मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाया है। यह भी कहा है कि वह उसे तलाक के कागजात पर हस्ताक्षर करने के लिए धमका रहे हैं। रेशमा ने कहा कि वह अलग नहीं होना चाहती हैं। अगर वह यातना देना बंद कर देते हैं तो भरत के साथ अपनी शादी जारी रखने को तैयार हैं।

वाइब्स ऑफ इंडिया ने रेशमा के वकील निखिल जोशी से बात की, जिन्होंने अपनी मुवक्किल की ओर से नोटिस जारी किया है। जोशी ने कहा, “मेरी मुवक्किल के खिलाफ भरत द्वारा लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। रेशमा ने भरत सोलंकी से कोई पैसा नहीं लिया है या अपने पति की जानकारी के बिना किसी भी वित्तीय लेनदेन में शामिल नहीं हैं।” जोशी ने कहा, “मेरी मुवक्किल की ओर से धन का कोई दुरुपयोग या बुरा व्यवहार नहीं किया गया है। यह संपत्ति का विवाद कतई नहीं है।” जोशी के मुताबिक, भरत का पिछले चार वर्षों से अलग रहने का दावा गलत है।
रेशमा ने नोटिस में कहा है कि कोविड के गंभीर संक्रमण के कारण 101 दिनों बाद अस्पताल से बाहर आने के बाद उन्होंने भरत की देखभाल की। रेशमा ने जोर देकर कहा कि भरत अलगाव के बारे में झूठ बोल रहे। उन्होंने दावा किया कि वे दोनों झगड़े के कारण दो सप्ताह से अलग रह रहे। वकील जोशी ने कहा, “जोड़ों के बीच छोटे झगड़े होना कोई बड़ी बात नहीं है। मेरी मुवक्किल को इस मामले को सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझा लेने की उम्मीद है। वह भारत के साथ अपने वैवाहिक जीवन को फिर से शुरू करने के लिए तैयार हैं।”

जैसा कि कल वाइब्स ऑफ इंडिया ने बताया था कि भरत सोलंकी और गुजरात कांग्रेस दोनों को रेशमा द्वारा पैसों के दुरुपयोग की शिकायतें मिली थीं। उनके नाम और पद का कथित तौर पर रेशमा द्वारा दुरुपयोग किया गया था। इसे भरत के समर्थकों ने “उनकी व्यक्तिगत भौतिकवादी महत्वाकांक्षाएं” कहा था।

भरत के वकील किरणकुमार तपोधन ने भी वीओआई को बताया, “हमारे पास सार्वजनिक नोटिस देने और मामले में अपने मुवक्किल के पक्ष को पेश करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था। अगर दूसरा पक्ष कोई और झूठे आरोप लगाता है तो हम आगे कानूनी कार्रवाई करेंगे।” जब वाइब्स ऑफ इंडिया ने रेशमा से संपर्क किया, तो वह बोलने के लिए उपलब्ध नहीं थीं।

नोटिस में लिखा है-

हम, अधिवक्ता निखिल पी जोशी, वडोदरा में रहने वाले, हमारी मुवक्किल, रेशमाबेन पत्नी भरतसिंह माधवसिंह सोलंकी और पुत्री प्रकाशचंद्र मणिभाई पटेल, 10- ईश्वरकृपा सोसाइटी, बोरसाड, तालुका- बोरसाड, आणंद जिले में रहते हैं। आपके द्वारा भेजे गए सार्वजनिक नोटिस का खुला जवाब प्रस्तुत करते हैं, जिसका विवरण नीचे दिया जा रहा है। हमारी मुवक्किल के पति भरतसिंह माधवसिंह सोलंकी ने 13-07-2021 को सभी दैनिक समाचार पत्रों के माध्यम से एक सार्वजनिक नोटिस भेजा है, जिसमें कहा गया है कि हमारी मुवक्किल और पत्नी रेशमाबेन, अपनी मर्जी से काम कर रही है, हमारे साथ नहीं रह रही है और ऐसे अन्य आरोप हमारे मुवक्किल के खिलाफ किया गया है। इसके बाद हमारी मुवक्किल ने एक खुला उत्तर प्रस्तुत किया है कि पति भरतसिंह सोलंकी, जब कोविड संक्रमण के कारण गंभीर रूप से बीमार थे, तो हमारी मुवक्किल ने स्वास्थ्य लाभ और उन्हें मृत्युशय्या से पुनर्जीवित करने के लिए कठिन परिश्रम से देखभाल किया था।

उनके व्यवहार में अचानक बदलाव आया है और उन्होंने हमारी मुवक्किल के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है और उन्हें दयनीय स्थिति में अपने घर से बाहर निकाल दिया है और अपनी राजनीतिक शक्ति का दुरुपयोग कर रहे हैं ताकि हमारी मुवक्किल से तलाक लेने के लिए उस पर अत्यधिक दबाव डाला जा सके। इतना ही नहीं, उन्होंने उसे आगे एक खुला नोटिस दिया है; जबकि हमारी मुवक्किल ने भरतसिंह माधवसिंह सोलंकी के साथ दुर्व्यवहार नहीं किया है।

इसके विपरीत हमारी मुवक्किल एक आदर्श जीवन की तरह उनके साथ रहने के लिए तैयार थीं, फिर भी हमारी मुवक्किल की किसी भी गलती के बिना उन्हें मानसिक यातना दी गई है और हमारी मुवक्किल को घर से बाहर निकाल दिया गया है। इसलिए उन्हें कहीं और शरण लेना पड़ा है।

हमारी मुवक्किल को अलग-अलग लोगों के माध्यम से धमकाया जा रहा है कि उन्हें शरणस्थान से भी निकाल दिया जाएगा। तलाक फाइल करने के लिए हमारी मुवक्किल पर दबाव डालने के साथ-साथ मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है। इसके तहत हमारी मुवक्किल को एक खुला सार्वजनिक नोटिस दिया गया है, जिसमें लगाए गए आरोपों से हमारी मुवक्किल ने इंकार किया है। हम इस खुले स्पष्टीकरण भरे जवाब से आरोपों से इंकार करते हैं।

Your email address will not be published.