गुजराती विधवा को बेचा गया एक फर्जी फ्लैट

| Updated: July 18, 2021 12:50 pm

भावनगर के श्याम रेजीडेंसी निवासी 60 वर्षीय विधवा पारुलबेन त्रिवेदी के पास उनतीस लाख रुपये की बचत थी। लेकिन, अन्य निवेश-प्रेमी गुजराती की तरह उन्होने इस पैसे को अहमदाबाद के चांदखेड़ा इलाके में एक संपत्ति दलाल के माध्यम से एक संपत्ति खरीदने में लगा दिया। बहुत बाद में पता चला कि उन्होने अपना पैसा गलत हाथों में दे दिया था।

एसजी हाईवे पर गणेश मेरीडेन स्थित सिग्नियस रियल्टी एलएलपी के ब्रोकर आलोक जोशी और उनकी पत्नी पंखनी ने उन्हें निर्माणाधीन संपत्ति दिखाई। उन्हें यह महसूस करने में थोड़ा समय लगा कि जोशी ने उसे दूर से जो संपत्ति दिखाई थी, वह एक रुका हुआ प्रोजेक्ट था। और उन्होने जो 29 लाख रुपये दलाल को सौंपे थे, वह सब उस दंपत्ति ने हड़प लिया था। अब वह अपना पैसा पाने के लिए पुलिस की लड़ाई लड़ रही हैं।

“हमें कमर्शियल परिसर के ब्रोशर (एक सूचनात्मक पत्र) दिखाए गए थे जिसे जोशी और उनकी पत्नी द्वारा चांदखेड़ा में बनाने वाले थे। लेकिन बाद में हमें पता चला कि कोविड-19 संकट के मद्देनजर पार्शव इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड के मालिकों में से एक रौनक पटेल ने इस योजना को पहले ही छोड़ दिया था।

“जोशी ने 8.50 लाख रुपये वापस कर दिया लेकिन शेष 20.50 लाख रुपये हड़प लिया। हमने दो बार सोला पुलिस से संपर्क किया लेकिन हमारी शिकायत दर्ज नहीं की गई। हमें क्षेत्र के डीसीपी (पुलिस उपायुक्त) से संपर्क करना पड़ा,” -पारुलबेन की बहू श्रुतिबेन पटेल बताती हैं।

डीसीपी जोन -1 रवींद्र पटेल ने कहा कि शिकायतकर्ता ने उनसे संपर्क किया था। पटेल ने कहा, “मेरे निर्देश के तहत शिकायत 16 जुलाई 2021 को दर्ज की गई थी। हमने आलोक जोशी को भी गिरफ्तार किया है।”

पार्श्व इंफ्रा के रौनक पटेल से संपर्क करने पर उन्होने VoI को बताया कि, उन्होंने फरवरी 2020 में चांदखेड़ा में एक कमर्शियल स्कीम की योजना बनाई थी, लेकिन कोरोना संकट के कारण मार्च 2020 में इसे छोड़ना पड़ा।

“जोशी के पास हमारी ओर से व्यावसायिक परिसर में दुकानें बुक करने का कोई अधिकार नहीं था। जोशी ने न केवल विधवा बल्कि हमें भी धोखा दिया है। जोशी एक जालसाज है। मैंने सोला पुलिस स्टेशन में अपना बयान दर्ज कराया है, ” रौनक ने बताया।

पारुलबेन की बहू श्रुतिबेन, जिनके पति भाविनभाई इस समय ऑस्ट्रेलिया में हैं, ने VoI को बताया कि वे अहमदाबाद में संपत्ति में निवेश करना चाहते हैं।

“जोशी ने हमें बताया था कि पार्श्व इंफ्रा चांदखेड़ा में एक कमर्शियल कॉमप्लेक्स बना रहा है और वह हमारे लिए एक दुकान बुक कर सकता है। यहां तक कि वह हमें साइट पर ले गया और साइट से सटी सड़क से हमें वह जगह दिखाई, जहां 29 लाख रुपये की कीमत वाली दुकान आएगी,” -श्रुति पटेल ने कहा।

उन्होंने बताया कि उनके द्वारा जोशी को 6 लाख रुपये पिछले साल 5 मार्च को और शेष 23 लाख रुपये 18 तारीख को दिए। “जोशी ने हमें बताया कि उन्हें दिसंबर 2020 में दुकान का कब्जा मिल जाएगा और परियोजना जल्द पूरी होने की संभावना है। उसने हमें अपने लेटरहेड पर भुगतान की रसीदें भी दीं,” -उन्होने कहा।

सितंबर 2020 में लीवर की परेशानी के बाद श्रुतिबेन के ससुर की मृत्यु हो जाने के बाद से पटेल ने उसका पीछा नहीं किया। बाद में जब उन्होंने जोशी से संपर्क किया, तो उन्होंने कहा कि रेरा (रियल एस्टेट रेगुलेशन एक्ट) पंजीकरण की प्रक्रिया जल्द ही पूरी हो जाएगी और उन्हें दीवाली के बाद दुकान का कब्जा मिल जाएगा।

ऑस्ट्रेलिया से वीओआई से बात करते हुए, पारुलबेन के बेटे भाविनभाई ने कहा कि उन्हें जोशी के दृष्टिकोण में गड़बड़ी महसूस हुयी और उन्होंने सीधे रौनक पटेल से संपर्क किया।

भाविनभाई ने कहा, “उन्होंने हमें बताया कि उन्होंने जोशी को अपनी ओर से बुकिंग प्राप्त करने का कोई अधिकार नहीं दिया था, और परियोजना को पहले ही छोड़ दिया गया है। यह हमारे लिए एक हैरान करने वाला मामला था।” और जब उन्होंने फिर से जोशी से संपर्क किया, तो उसने खेद व्यक्त किया और जल्द ही पैसे वापस करने का वादा किया।

पारुलबेन की ओर से दर्ज कराई गई एफ़आईआर के मुताबिक,- जोशी ने 8.50 लाख रुपये लौटाए और बाकी 20.50 लाख रुपये के पोस्ट डेटेड चेक दिए. हालाँकि, जब चेक बाउंस हो गए, तो वे फिर से जोशी के पास गए, लेकिन उसने कहा कि उसके पास पैसे नहीं हैं और वे जो चाहें कर सकते हैं।

सोला पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर जेपी जडेजा ने कहा कि उन्होंने तेजी से कार्रवाई की और “हम पहले ही जोशी को गिरफ्तार कर चुके हैं और अन्य आरोपियों की तलाश कर रहे हैं।”

Your email address will not be published.