Google Translate टूल अब संस्कृत और भोजपुरी,मैथली भाषाओं को भी करेगा ट्रांसलेट

| Updated: May 12, 2022 3:07 pm

Google ने अपने भाषा-अनुवाद टूल (language-translation tool), गूगल ट्रांसलेट (Google Translate) को 24 नई भाषाओं के साथ अपडेट किया है। कुल मिलाकर यह अनुवाद टूल, अब दुनिया भर में उपयोग किए जाने वाले कुल 133 भाषाओं को सपोर्ट कर रहा है। नई जोड़ी गई भाषाओं में – असमिया, भोजपुरी, संस्कृत, और अन्य कई भाषाएं शामिल हैं।


क्यूपर्टिनो स्थित टेक दिग्गज ने इस बात पर प्रकाश डाला कि नई जोड़ी गई भाषाओं का उपयोग विश्व स्तर पर 300 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा किया जाता है। उदाहरण के लिए, कंपनी ने कहा कि मिज़ो भारत के सुदूर पूर्वोत्तर में लगभग 800,000 लोगों द्वारा बोली जाती है, और लिंगाला पूरे मध्य अफ्रीका में 45 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा बोली जाती है।


जोड़ी गईं भाषाओं में पहली बार अनुवाद करने के लिए अमेरिका की स्वदेशी भाषाओं (क्वेचुआ, गुआरानी और आयमारा) और एक अंग्रेजी बोली (सिएरा लियोनियन क्रियो) को भी टूल में अपडेट किया गया है।


Google Translate में जोड़ी गई 24 नई भाषाओं की पूरी सूची इस प्रकार है:

  • असमिया [Assamese ] (पूर्वोत्तर भारत में लगभग 25 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • आयमारा [Aymara] (बोलीविया, चिली और पेरू में लगभग दो मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • बाम्बारा [Bambara ] (माली में लगभग 14 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • भोजपुरी [Bhojpuri ] (उत्तरी भारत, नेपाल और फिजी में लगभग 50 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • धिवेही [Dhivehi ] (मालदीव में लगभग 300,000 लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • डोगरी [Dogri] (उत्तरी भारत में लगभग 30 लाख लोग इसका इस्तेमाल करते हैं)
  • ऐवा [Ewe] (घाना और टोगो में लगभग सात मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • गुआरानी [Guarani] (पराग्वे और बोलीविया, अर्जेंटीना और ब्राजील में लगभग सात मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • इलकैनो [Ilocano] (उत्तरी फिलीपींस में लगभग 10 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • क्रिओ [Krio] (सिएरा लियोन में लगभग चार मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • कुर्दिश (सोरानी) [Kurdish, Sorani] (लगभग आठ मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है, ज्यादातर इराक में)
  • लिंगाला [Lingala] कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, कांगो गणराज्य, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, अंगोला और दक्षिण सूडान गणराज्य में लगभग 45 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है।
  • लुगांडा [Luganda] (युगांडा और रवांडा में लगभग 20 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • मैथिली [Maithili] (उत्तरी भारत में लगभग 34 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • मिज़ो [Mizo] (पूर्वोत्तर भारत में लगभग 830,000 लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • ओरोमो [Oromo] (इथियोपिया और केन्या में लगभग 37 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • क्वेशुआ [Quechua] (पेरू, बोलीविया, इक्वाडोर और आसपास के देशों में लगभग 10 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • –सेपेडी [Sepedi] (दक्षिण अफ्रीका में लगभग 14 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • टिग्रीन्या [Tigrinya] (इरिट्रिया और इथियोपिया में लगभग आठ मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • –सोंगा [Tsonga] (इस्वातिनी, मोज़ाम्बिक, दक्षिण अफ्रीका और ज़िम्बाब्वे में लगभग सात मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)
  • Twi (घाना में लगभग 11 मिलियन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है)

Google ने कहा कि इन नई भाषाओं को ज़ीरो-शॉट मशीन ट्रांसलेशन का उपयोग करके जोड़ा गया है, जहां एक मशीन लर्निंग मॉडल केवल मोनोलिंगुअल टेक्स्ट (monolingual text) देखता है।

ज़ीरो-शॉट मशीन ट्रांसलेशन मूल रूप से बिना किसी उदाहरण को देखे दूसरी भाषा में अनुवाद करना सीखता है। “हालांकि यह तकनीक प्रभावशाली है, यह सही नहीं है,” Google ने एक आधिकारिक ब्लॉगपोस्ट में कहा।

चिंतन शिविर में किया जायेगा राहुल गांधी से अध्यक्ष बनने की मांग

Your email address will not be published.