ग्रिश्मा वेकारिया हत्याकांड में कोर्ट ने फेनिल को दोषी करार दिया

| Updated: April 21, 2022 12:51 pm

गुजरात के विवादास्पद ग्रिश्मा वेकारिया हत्याकांड का फैसला आज आरोपी के वकील जमीर शेख की अनुपस्थिति के कारण हुआ। दोनों पक्षों की दलीलें पूरी होने के बाद 16 अप्रैल को फैसला सुनाया जाना था. धारा 302 लगा दी गई है.सभी अपराधों को अदालत ने दोषी करार दिया है.

अभियोग के अनुसार, फेनिल ने सार्वजनिक रूप से ग्रिश्मा का गला काट दिया और उसे मार डाला। इसके बाद आरोपी की गिरफ्तारी और विशेष सुनवाई हुई। पुलिस ने महज सात दिनों में कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी।

फेनिल ने चाकू दिखाया और लोगों से कहा कि वे पास न आएं। फेनिल ने ग्रिश्मा का गला काट दिया और बदला लेने के लिए उसे सार्वजनिक रूप से मार डाला।

आरोपी फेनिल कई दिनों से लड़की का पीछा कर रहा था।मामले में सबूत के तौर पर एक वीडियो कोर्ट में पेश किया गया।

ग्रिश्मा वेकारिया के साथ जो हुआ उसका वर्णन लोक अभियोजक ने अदालत में किया। FSLA ने अदालत को बताया कि वीडियो असली था।

ग्रिशमा हत्याकांड में दो एफएसएल अधिकारियों की गवाही ली गई थी। अधिकारी इस बात की गवाही देते हैं कि ग्रिश्मा की मौत के ऑडियो में फेनिल और उसके दोस्त आकाश की आवाज है। साथ ही हत्या का वीडियो असली है। इसमें कोई छेड़छाड़ नहीं की गई थी।

190 में से 105 गवाहों ने गवाही दी, ग्रिश्मा वेकारिया मामले में अदालत में 190 गवाह थे, जिनमें से 105 ने गवाही दी। फेनिल का बयान भी कोर्ट में लिया गया।

बचाव पक्ष के वकील ज़मीर शेख ने तीन दिन तक बहस की

बचाव पक्ष के वकील जमीर शेख और अजय गोंडालिया ने आरोपी फेनिल की ओर से अंतिम अभ्यावेदन दिया। लगातार तीन दिनों तक बहस की। अपने अंतिम तर्क में, ज़मीर शेख ने कहा कि पुलिस ने आरोपी फेनिल गोयानी के खिलाफ केवल 7 दिनों में मामले में उसे गलत तरीके से फंसाने और उचित प्रतिनिधित्व नहीं करने के लिए आरोप पत्र दायर किया था। उन्होंने अदालत को यह भी बताया कि मीडिया में जांच अधिकारी द्वारा दिए गए बयानों के बाद समाज में आरोपी के विरोध भावनाएं पैदा हुई थीं, ताकि गवाह भी आरोपी के पक्ष में गवाही देने को तैयार न हों। बचाव पक्ष के वकीलों ने भी जांच के दौरान कई नुकसान का हवाला दिया।

Your email address will not be published.