माना पटेलः टोक्यो ओलंपिक में जाने वाली गुजरात की पहली महिला तैराक

| Updated: July 3, 2021 2:12 pm

गुजरात की रहने वाली 21 वर्षीय माना पटेल, जिसने सबसे तेज और सबसे कम उम्र की महिला बैक-स्ट्रोकर के रूप में अपनी पहचान बनाते हुए आखिरकार टोक्यो ओलंपिक, 2021 में सीधे प्रवेश पाकर अपनी अब तक की सबसे बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली है। माना पटेल इससे पहले बेंचमार्क स्थापित करने में सफल रही हैं। 2018 में 72वीं सीनियर नेशनल एक्वाटिक चैंपियनशिप में तीन स्वर्ण पदक और बैंगलोर में आयोजित 2019 में दसवीं एशियाई ऐज-ग्रुप चैंपियनशिप में छह पदक अर्जित किए। उन्होंने 2015 में एशियन एज चैंपियनशिप में बेलग्रेड स्विमिंग चैंपियनशिप में 1:03:77 के अपने शानदार प्रदर्शन से 1:04:21 का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ा।

कोई भी सफलता की कहानी कठिनाइयों और संघर्षों के बिना नहीं होती। इन चुनौतियों या असफलताओं का एक संग्रह ही एक सफल कहानी बनाता है। माना को अपनी तैराकी यात्रा (स्विमिंग जर्नी) के दौरान कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा था, लेकिन अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के उन्होने अपना दृढ़ विश्वास नहीं छोड़ा। 2019 में उन्हें बाएं कंधे में गंभीर चोट के कारण लगभग तीन महीने के लिए तैराकी छोड़ने की सलाह दी गई थी। शारीरिक चोट ने उन्हें मानसिक रूप से भी प्रभावित किया था। “यह मेरे जीवन के सबसे कठिन चरणों में से एक था क्योंकि मुझे इतने लंबे समय तक पानी से दूर रहना पड़ा था। शारीरिक सुधार को लेकर अब जब मैं पीछे देखती हूं, तो यह अविश्वसनीय लगता है कि, मैंने खुद पर विश्वास खो दिया था, हालांकि मैंने उसे छोड़ने का विकल्प नहीं चुना। जब मैंने ऐसा नहीं किया तो मेरे मेंटर्स, कोच और परिवार ने मुझ पर विश्वास किया और इससे मुझपर काफी प्रभाव पड़ा है।”, माना कहती हैं।

एक एथलीट की सफलता के लिए, एक मजबूत कोच-एथलीट संबंध, एथलीट के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। माना का मानना है कि, जब वह अपना सर्वश्रेष्ठ परफ़ोर्मेंस देने का प्रयास करती हैं तो पीठ थपथपाने और अपना 100 प्रतिशत परफ़ोर्मेंस देने में विफल रहने पर कोच द्वारा बुरा वार्ताव किए जाने के बीच संतुलन बनाए रखना आवश्यक है। वह अपने पहले कोच कमलेश नानावती के लिए बहुत आभारी महसूस करती है, जो 2010 से उसके साथ थी, जब उसने तैरना शुरू किया था। वह कहती हैं, “मैं उनके जैसा गुरु पाने के लिए हमेशा आभारी रहूंगी।”

जब VoI श्री कमलेश के पास पहुंचा, तो उन्होंने 20 जून को आयोजित बेलग्रेड ट्रॉफी स्विमिंग चैंपियनशिप की एक घटना के बारे में बात की, “हम एक केबिन में बैठे थे और माना को केनिशा गुप्ता के साथ प्रतिस्पर्धा करते हुए देख रहे थे। दोनों ही बेहतरीन थे और रेस देख रहे हम सभी के लिए यह बहुत तनावपूर्ण क्षण था। माना ने अपनी टाइमिंग में सुधार करने के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत की थी और जब वह 4 अंक से जीती तो इसका फायदा मिला। वह यह भी कहते हैं कि लॉकडाउन के दौरान जब सभी स्पोर्ट्स क्लब बंद थे, तो वह करई अकादमी, गांधीनगर में प्रशिक्षण लेती थीं। “डीजीपी के परमिट के साथ, हम वहां अपना प्रशिक्षण जारी रख सकते हैं।”

टोक्यो ओलंपिक के लिए अपनी संभावना के बारे में बात करते हुए, उन्होंने कहा कि वह सर्वश्रेष्ठ तैराकों के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए बहुत उत्सुक हैं। “मुझे गर्व है कि मैं भारत का प्रतिनिधित्व कर रही हूं। ” ”मुझे अभी लंबा रास्ता तय करना है क्योंकि मैंने इसे हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत की है और मैं भारतीय तैराकी को अगले स्तर पर ले जाने की ख्वाहिश रखती हूं। मेरा लक्ष्य 2022 विश्व एक्वेटिक्स चैंपियनशिप जीतना है।”, -वह गर्व के साथ कहती हैं।

Your email address will not be published. Required fields are marked *