क्विंट के बहल का स्क्रिप्ट-प्लान डिजिटल मीडिया की सफलता के लिए आवश्यक

| Updated: May 23, 2022 12:25 pm

क्विंट डिजिटल मीडिया (Quint Digital Media) और उसकी सहायक कंपनियों, क्विंटिलियन मीडिया और क्विंटिलियन बिजनेस मीडिया ने, क्विंटिलियन बिजनेस मीडिया (Quintillion Business Media) में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी के विनिवेश को पूरा करने के लिए, 13 मई को अडानी एंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी एएमजी मीडिया नेटवर्क्स के साथ निश्चित समझौतों पर हस्ताक्षर किए। एक कहावत है कि, भाग्य बहादुर का साथ देता है और ऐसे में भाग्य ने बहल का साथ दिया।

5000% का लाभ
क्विंट डिजिटल मीडिया का बाजार पूंजीकरण बढ़कर 950 करोड़ रुपये से अधिक हो गया है। नवंबर 2018 में, बहल ने कंपनी (नाम बदलकर क्विंट डिजिटल मीडिया) खरीदी।
उन्होंने कंपनी में प्रमोटरों (गौरव मर्केंटाइल) की हिस्सेदारी खरीदी, फिर सार्वजनिक शेयरधारकों के लिए एक खुली पेशकश की। कुल लागत 7.85 करोड़ रुपये है। प्रमोटरों (राघव और उनकी पत्नी रितु कपूर) की हिस्सेदारी अब 440 करोड़ रुपये है, जो साढ़े चार साल में 5000 प्रतिशत से अधिक का लाभ है।

बहल और नेटवर्क 18
यह लगभग सभी को पता है कि 2014 में मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) द्वारा अपने ऋण को समय से पहले इक्विटी में बदलने का निर्णय लेने के बाद बहल को नेटवर्क 18 (जिस मीडिया कंपनी की उन्होंने स्थापना की) से बाहर निकलने के लिए मजबूर किया था। इसके तुरंत बाद, बहल ने ब्लूमबर्ग (Bloomberg) के सहयोग से एक व्यावसायिक टेलीविजन चैनल शुरू करने का प्रयास किया, लेकिन वह भी विफल रहा।

बहल जानते थे डिजिटल मीडिया ही भविष्य है
बहल ने डिजिटल मीडिया पर ध्यान केंद्रित करना चुना, जो उस आकार तक कभी नहीं बढ़ा, जिसकी उन्होंने टेलीविजन के लिए कल्पना की थी। उन्हें चार साल के संघर्ष से गुजरना पड़ा। कंपनी को प्रस्तावित टेलीविजन व्यवसाय में अनुमानित 200 करोड़ रुपये के डूबे हुए निवेश को बट्टे खाते में डालना पड़ा। बहल की सूचीबद्ध कंपनी, क्विंट डिजिटल मीडिया ने 2020-21 में 21 करोड़ रुपये का राजस्व और 1.86 करोड़ रुपये का नुकसान दर्ज किया।
जिस तरह से टर्नअराउंड हुआ और जिस तरह से क्विंट ने कम समय में विकास किया, उससे साबित होता है कि बहल जानते थे कि डिजिटल मीडिया ही भविष्य है।

Your email address will not be published.