तेरे मेरे सपनेः देव आनंद की वो फिल्म जो कोविड काल में सब से ज्यादा प्रासंगिक है

| Updated: July 3, 2021 6:47 pm

जिस श्रद्धांजलि के साथ 1971 में आई फिल्म “तेरे मेरे सपने” की शुरुआत हुई, वह सबसे इस कोविड-19 काल में एक नए सिरे से प्रस्तुत होने जा रही है, जब चिकित्सा पेशे के समर्पित कोरोना योद्धा आगे हैं, और हाल ही के वर्षों में सबसे भयानक महामारी से जूझ रहे हैं। नवकेतन बैनर के तहत निर्मित और बेहद प्रतिभाशाली विजय आनंद द्वारा निर्देशित फिल्म दावा करती है कि, “यह फिल्म दुनिया के सबसे महान चिकित्सा-पेशे को समर्पित है।” हालांकि, फिल्म चिकित्सा पेशे के गुण-दोषों की विवेचना नही करती है, लेकिन चिकित्सक पेशे का ईमानदार का मूल्यांकन जरूर करती है जो चिकित्सकों में हर तरह से शामिल हैं।

1937 के उपन्यास “द सिटाडेल” पर आधारित, डॉक्टर से लेखक बने ए.जे. क्रोनिन, जिन्होंने वेल्स के एक खदानों वाले जिले में मरीजों का इलाज किया था, “तेरे मेरे सपने” एक मॉडल डॉक्टर, आनंद की कहानी है, जो शुरुआत में बॉम्बे के मोल्लाह में पर्याप्त पैसा कमाने के बजाय “गाँव में मेरी ज़रूरतें” का उद्देश्य लेकर गरीब कोयला-खनिकों के बीच काम करना पसंद करता है। यहाँ वह एक भौतिकवादी साथी डॉक्टर के साथ है, और जो वह सोचता उसे उसका साथी उसके विपरीत सलाह देता है कि वह एक बहुत ही मूर्खतापूर्ण कदम है। क्रोनिन ने अपने पेशे की असमानताओं को उजागर किया था, क्योंकि उन्होंने उसे करीब से देखा था। 1970 के दशक में विजय आनंद ने भारत में चिकित्सा पेशे के अनैतिक पहलुओं को भी चित्रित किया, यहां साथ ही उन्होंने पेशे के महान लोगों का भी समर्थन किया।

जिस गांव में डॉ. आनंद अभ्यास करना (मेडिकल पैक्टिस) चुनते हैं, वहां एक कोयला कंपनी के पे-रोल पर एक वरिष्ठ चिकित्सक प्रसाद लकवाग्रस्त स्थिति में बिस्तर पर लेट जाता है। उसकी चालाक पत्नी दो डॉक्टरों को मामूली दाम पर बूढ़े आदमी का काम करने के लिए रखती है ताकि उसके पति की आय बंद न हो। देव आनंद द्वारा अभिनीत डॉ. आनंद उनमें से एक है। डॉ. जगन, निर्देशक द्वारा निभाई गई अन्य कुशल स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं, जिनके पास लंदन से एमआरसीओजी की डिग्री है, लेकिन वह शराब की आदी हैं। इन तीनों किरदारों को जोड़कर, निर्देशक ने पेशे की विभिन्न आवाजों को पेश करने के लिए तीखे संवाद लिखे हैं।

जब डॉ. आनंद हर रात डॉ. जगन के नशे में होने पर अपनी अस्वीकृति व्यक्त करते हैं, तो सनकी और नशे में धुत जगन जवाब देती हैं, “अब तक आपने केवल सपने देखे हैं। तुमने उन्हें बिखरते नहीं देखा।”

डॉ. जगन का उत्तर भरे आंखों वाले आनंद को संतुष्ट नहीं करता है, और वह यह जानने पर जोर देता है कि उसके जैसा एक उच्च योग्य चिकित्सक जीवन के बारे में इतना कठोर क्यों है। इसके बाद, डॉ. जगन का चिल्लाना उन परिस्थितियों का एक तीखा अभियोग है जिसमें उस समय अपने पेशे में संघर्ष करने वाला एक ईमानदार डॉक्टर है। और दुर्भाग्य से तब से बहुत कुछ सुधार नहीं हुआ है।

डॉ. जगन कहती हैं, “एक भारतीय डॉक्टर को दूसरे देशों में बहुत महत्व दिया जाता है।” “लेकिन जब वह अपने लोगों की सेवा करने के सपने के साथ अपनी धरती पर लौटता है, तो उसे नौकरी पाने के लिए सिफरिश की जरूरत होती है। अभ्यास करने के लिए, मेरे जैसे सर्जन को एक अस्पताल, एक ऑपरेशन थिएटर, सर्जिकल उपकरण और सबसे बढ़कर, अपने सहयोगियों के समर्थन की आवश्यकता होती है। जब आपके पास इन तक पहुंच नहीं है, तो आप घर पर बैठे हैं, बेरोजगार हैं। जल्द ही आपके प्रियजन आपको छोड़ देंगे; और तू ऐसी जगह पर आने को विवश है।”

इस बातचीत के बाद बात समझते हुये लेकिन असंतुष्ट डॉ. आनंद ने कोयला-खनिकों और उनके परिवारों के साथ अत्यंत घनिष्ठता के साथ व्यवहार करना जारी रखा। उनकी पत्नी निशा एक स्थानीय स्कूल की शिक्षक हैं जो अपने काम के लिए हमेशा समर्पित रहती हैं, साथ ही आनंद की मदद कर रही हैं। और साथ में वे एक यूटोपियन भविष्य के सपने बुनते हैं, जिसे खूबसूरती से एस.डी. बर्मन का संगीत दिया गया है। नीरज द्वारा लिखा गया गीत “है मैंने कसम ली, है तूने कसम ली” की कॉपी में “है मैने कसम ली” गाया है, जहां वे दोनों युगल इसका उल्लेख करते हुये आदर्श रूप से एक दूसरे के सपनों के माध्यम से खुद को मंत्रमुग्ध करते हैं।

लेकिन उनकी अच्छी ख़ासी जिन्दगी बुरी तरह से बर्बाद हो जाती है, जब एक गर्भवती के रूप में निशा को एक अमीर सेठ मार देता है और कोई भी ग्रामीण उसके खिलाफ सबूत देने को तैयार नहीं होता है। अपने अजन्मे बच्चे को खोना और अदालत में न्याय पाने में असमर्थ होना डॉ. आनंद के जीवन में एक महत्वपूर्ण मोड़ बन जाता है।

निराश होकर  वह केवल एक उद्देश्य के साथ बॉम्बे लौटता है; इतना अमीर बनने के लिए कि उसे फिर कभी न्याय से वंचित न होना पड़े। इसके बाद फिल्म महानगर की चिकित्सा पेशों के बदसूरत दृश्यों को दिखाती है, जहां सजावटी क्लीनिक में बैठे डॉक्टर अपने अयोग्य सहयोगियों (अनएक्सपर्ट मेडिकल डाक्टर्स) द्वारा भोले-भाले मरीजों को अत्यधिक कीमतों पर सलाह देते हैं। अनजाने में डॉ. आनंद इस पैसे कमाने वाले नेटवर्क का हिस्सा बन जाते हैं। निशा देख सकती है कि उसका पति गलत रास्ते पर जा रहा है लेकिन वह उसकी चेतावनियों पर ध्यान देने से इंकार कर देता है और दुख की बात है कि वे अलग हो जाते हैं। निशा की भूमिका निभाने वाले देव आनंद और मुमताज दोनों ने इस फिल्म को न केवल चिकित्सा पेशे पर एक टिप्पणी बल्कि एक संवेदनशील, वैवाहिक कहानी बनाने के लिए अभिनय किया।

फिर, डॉ. आनंद के जीवन में एक और मोड़ आता है। एक ग्रामीण के गंभीर रूप से बीमार बेटे के लिए वह सबसे अच्छा इलाज करना चाहते हैं, वह बच्चे को एक सर्जन को सौंप देते हैं, जिसके बाद सर्जन इलाज के लिए ग्रामीण से अधिक पैसे वसूलते हैं। बहुत देर से उसे पता चलता है कि यह सर्जन एक बहुत ही औसत दर्जे का डॉक्टर है, जो उस लड़के की जिन्दगी बचाने वाली सर्जरी करने में असमर्थ है।

डॉ. आनंद अब बॉम्बे में चमचमाती चिकित्सा जगत को दिखावा मानते हुए कोयला-खनन गांव में वापस जाते हैं, जहां एक बेहतर डॉ. जगन द्वारा लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधा देने के उद्देश्य के से डॉ. प्रसाद के पैसे से एक पूर्ण अस्पताल की स्थापना की गयी है। जहां इस तरह के फिल्मों का अंत प्रेरणादायक होते हैं, वहीं हमारे देश में वास्तविकता एक कड़वी कहानी बनी हुई है। जिसे सुधारा जा सकता है।

Your email address will not be published. Required fields are marked *