टीकाकरण अभियान में गुजरात 15वें स्थान पर

| Updated: July 1, 2021 7:13 pm

जून माह के मध्य में जब गुजरात ने अपनी टीकाकरण अभियान में 2 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया, तो सभी राज्यों के टीकाकरण अभियान की सफलता के क्रम में  इसने देश के राज्यों में प्रति लाख जनसंख्या पर टीकाकरण करने वाले लोगों की संख्या के मामले में महीने की रैंकिंग का 15 वां स्थान पूरा कर दिया।

राज्य में प्रति लाख जनसंख्या पर 37,400 लोगों का टीकाकरण करने वाला गुजरात केरल, दिल्ली, लक्षद्वीप और गोवा जैसे राज्यों और केंद्र शासित राज्यों से भी पीछे है। इस स्थिति को देखते हुए यह महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश से भी पीछे है, जिन्होंने कथित तौर पर क्रमशः 3.2 करोड़ और 3.1 करोड़ लोगों को कवर किया है। अब तक, गुजरात ने 2 करोड़ और 61 हजार नागरिकों को टीकों की पहली खुराक दी है, जिनमें से 56.17 लाख को उनकी दूसरी खुराक मिल गई है।

पता चला है कि, राज्य में टीकाकरण अभियान पिछले कुछ दिनों में टीके(वैक्सीन) की आपूर्ति में कमी के कारण वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी पड़ गई थी,  कई टीकाकरण केंद्रों को अपने शटर बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा। 30 जून को, 2.79 लाख का टीकाकरण किया गया, जो 21 जून को दिये गए 5.20 लाख खुराक के आधे से थोड़ा अधिक है, उस समय राज्य ने 18-44 आयु वर्ग के लिए वॉक-इन पंजीकरण (walk-in registration ) की अनुमति दी थी।

“हम प्रति टीकाकरण स्थल पर एक निश्चित संख्या में खुराक भेजते हैं, इसलिए यदि टीकाकरण स्थल की क्षमता 200 खुराक है और बहुत सारे लोग अचानक आ जाते हैं, तो यह मुश्किल हो जाता है। हमारे पास पांच लाख खुराक तक देने की क्षमता है, लेकिन केंद्र सरकार से हमें प्रतिदिन औसतन 3.5-4 लाख खुराक मिल रही है, -” उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने बताया।

इस बीच, राज्य में टीकों का वितरण असमान रहता है, जो लैंगिक अंतर के साथ-साथ क्षेत्रीय असंतुलन को प्रदर्शित करता है। CoWin पोर्टल के अनुसार, राज्य में पुरुषों की तुलना में 22.63 लाख महिलाओं को टीके लग रहे हैं। इसी तरह अन्य जिलों के बीच भिन्न देखने को मिली है। जबकि पोरबंदर की 12.81 प्रतिशत आबादी पूरी तरह से कोविड वैक्सीन का टीका प्राप्त कर चुकी है, बोटाद और तापी जैसे जिलों में यह संख्या तीन प्रतिशत से कम थी।

Your email address will not be published. Required fields are marked *