विश्व मलेरिया दिवस 2022: थीम, इतिहास और महत्व

| Updated: April 25, 2022 9:39 am

हर साल 25 अप्रैल को दुनिया भर में विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है। मकसद होता है- मलेरिया को रोकने और  नियंत्रित करने के लिए निरंतर निवेश और निरंतर राजनीतिक प्रतिबद्धता की आवश्यकता को उजागर करना। यानी इस दिन को एक अलग सार्थक विषय के साथ मनाया जाता है। इस वर्ष विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने विश्व मलेरिया दिवस का थीम “मलेरिया रोग के बोझ को कम करने और जीवन बचाने के लिए नवाचार का उपयोग” रखा है।

इस पहल की शुरुआत के बाद से वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने लगातार निवेश और नवाचारों का आह्वान किया है जो नए वेक्टर नियंत्रण दृष्टिकोण, निदान, मलेरिया-रोधी दवाएं और अन्य उपकरण लाएंगे जो मलेरिया के खिलाफ जंग को तेज करेंगे।

इस दिन का अपना महत्व है, क्योंकि एक इलाज योग्य बीमारी होने के बावजूद मलेरिया का दुनिया भर के लोगों की आजीविका पर विनाशकारी प्रभाव पड़ रहा है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, वर्ष 2020 में मलेरिया के लगभग 241 मिलियन नए मामले देखे गए और 85 देशों में मलेरिया से संबंधित 627,000 मौतें हुईं। इतना ही नहीं, अफ्रीकी क्षेत्र में 5 साल से कम उम्र के बच्चों में दो तिहाई से अधिक मौतें हुई हैं। यह डेटा साबित करता है कि 2000 से 2015 तक मलेरिया के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में लगातार प्रगति हासिल करने के बावजूद, हाल के वर्षों में धीमी प्रगति दर्ज की गई है। खासकर उप-सहारा अफ्रीका के पिछड़े देशों में।

विश्व मलेरिया दिवस के इतिहास की गहराई से पड़ताल करें, तो इसका विचार डब्ल्यूएचओ ने 2007 में अफ्रीका मलेरिया दिवस से लिया, जो एक ऐसी घटना है जिसे अफ्रीकी सरकार 2001 से इस बीमारी के खिलाफ देख रही है। विश्व स्वास्थ्य सभा के 60 वें सत्र में, जो डब्ल्यूएचओ द्वारा प्रायोजित किया गया था, यह प्रस्तावित किया गया था कि अफ्रीका मलेरिया दिवस को विश्व मलेरिया दिवस में बदल दिया जाए।

ऐसा वैश्विक लड़ाई में अधिक जागरूकता लाने और दुनिया भर में मलेरिया के खतरे को पहचानने के लिए किया गया था। जो लोग नहीं जानते हैं, उनके लिए यह घातक बीमारी मादा एनोफिलीज मच्छरों के काटने से फैलती है, जो प्लास्मोडियम परजीवी से संक्रमित होती हैं। फिर जब कोई मच्छर इंसान को काटता है, तो एक परजीवी खून में चला जाता है, जिसके परिणामस्वरूप मलेरिया होता है।

Your email address will not be published.