योगी आदित्यनाथ के गुरु भाई देवनाथ बापू को ” पठान ” का विरोध करने पर मिली सिर कलम करने की धमकी

| Updated: August 13, 2022 11:41 am

कच्छ ( Kucth )के संत देवनाथ बापू ( Devnath Bapu )को ट्विटर ( Twitter )पर सिर काटने की धमकी मिलने के बाद काफी विवाद का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में देवनाथ बापू ( Devnath Bapu ) शिकायत दर्ज कराएंगे। उन्हें यह धमकी पठान फिल्म ( ( (Pathan movie )के खिलाफ ट्वीट करने के बाद मिली थी।

कच्छ के रापर एकलधाम( Rapar Ekladham )के महंत योगी देवनाथ बापू हैं। वह हिंदू युवा वाहिनी ( Hindu Yuva Vahini )के गुजरात क्षेत्र के पूर्व प्रभारी रह चुके हैं। वह अखिल भारतीय साधु समाज के सदस्य( Member of All India Sadhu Samaj )हैं। इसके अलावा वे कच्छ संत समाज ( Kutch Sant Samaj )के अध्यक्ष हैं। वह ट्विटर Twitter पर काफी एक्टिव रहते हैं। योगी देवनाथ को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का करीबी माना जाता है। दोनों गुरु भाई हैं। वह पिछले कुछ समय से भाजपा से जुड़े हुए हैं। वे 12 वर्ष की आयु से ही तपस्वी थे।

धमकी को लेकर उन्होंने कहा, ‘हम उन लोगों के खिलाफ हैं जो भारत में रहकर भारत का विरोध करते हैं. हम किसी धर्म या जाति के खिलाफ नहीं हैं। मुझे धमकाने के लिए एक ग्राफिक बनाया गया है, जिसमें सिर को धड़ से अलग करते हुए दिखाया गया है। मैं उस ट्विटर हैंडल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने जा रहा हूं, जिससे मुझे धमकी मिली थी।”

बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान की अपकमिंग फिल्म ‘पठान’ रिलीज से पहले ही चर्चा में है। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने ‘पठान’ के ट्रेलर का बहिष्कार करने की मांग की है.

योगी आदित्यनाथ से है खास संबंध

जहाँ उत्तर प्रदेश में गोरखनाथ धाम के महंत योगी आदित्यनाथ ( Yogi Adityanath )मुख्यमंत्री हैं, वहीं गुजरात में भी एक योगी का नाम चर्चा में है। वो हैं, योगी देवनाथ ( Yogi Devnath )। वो यूपी सीएम के करीबी भी हैं। वो गुजरात में ‘हिन्दू युवा वाहिनी’ का प्रभारी हैं। साथ ही वो ‘कच्छ संत समाज’ के अध्यक्ष भी हैं। कच्छ में उनका अच्छा-खासा प्रभाव है। ‘अखिल भारतीय साधु समाज’ के भी वो एक सक्रिय सदस्य हैं। नाथ संप्रदाय से सम्बन्ध रखने वाले योगी देवनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के गुरुभाई भी हैं।

गुजरात प्रवास के दौरान योगी ने की थी मुलाकात


पिछले गुजरात विधानसभा चुनाव में जब योगी आदित्यनाथ भाजपा के लिए प्रचार करने गए थे, तब उन्होंने ‘एकल धामपुर भ्रुदिया भचाऊ कच्छ ’ मंदिर का भी दौरा किया था और योगी देवनाथ से मुलाकात की थी। महाराष्ट्र के पालघर में जब दो साधुओं और उनके ड्राइवर की मॉब लिंचिंग हुई थी, तब भी योगी देवनाथ ने इस मामले में न्याय के लिए आवाज़ उठाई थी। उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने हजारों गायों को गोकशी से बचाया है। समाजसेवा और हिन्दू धर्म के लिए उनके कार्य को देखते हुए उनके समर्थक भाजपा से उनके लिए टिकट माँग रहे हैं।

शादी के बाद शारीरिक संबंध ना बनाने पर पत्नी ने दर्ज करायी पुलिस शिकायत

Your email address will not be published.