अहमदाबादी ऑटो चालक के बेटे ने एनडीए पास कर भरी उड़ान

| Updated: March 29, 2022 8:52 pm

अपने बच्चों को कड़ी मेहनत करते हुए देखना मेरे लिए और अधिक मेहनत करने के लिए ऊर्जादायी था। मैंने उनकी शिक्षा के लिए दिन-रात मेहनत की है। मौसमी बुखार या बदलते मौसम कभी आड़े नहीं आए। और आज हेमल ने हमें गौरवान्वित किया है।”

मुकेश श्रीमाली बापूनगर इलाके में एक सकरे झोपड़े में रहते हैं जिसे वह घर कहते हैं। ऑटो रिक्शा चालक अपनी मेहनत से कमाए गए तिपहिया वाहन में अपनी जिंदगी गुजार दी । लेकिन उन्होंने अपने बेटे के लिए बेहतर जिंदगी के सपने को कभी नहीं छोड़ा। अपने बेटे के सपने को साकार करने के लिए उसमे अपने सपने भी उसमे मिला दिया।

हेमल सेना अधिकारी बनने की महत्वाकांक्षा के साथ पैदा हुआ था। जैसा कि किस्मत में होगा, एक स्कूल कार्यक्रम के दौरान, शहीद मेजर रमानी के पिता के साथ एक मौका मिला मुलाकात करने का , सपने को साकार करने की दिशा में पहला कदम था। युवा लड़के की सेना में रुचि देखकर और उसके असाधारण अकादमिक प्रदर्शन को देखते हुए, शहीद मेजर ऋषिकेश रमानी के पिता वल्लभ रमानी ने उन्हें आर्मी स्कूल परीक्षा के लिए मार्गदर्शन दिया । हेमल ने परीक्षा उत्तीर्ण की और उसके बाद, 2021 में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी की परीक्षा में भी शामिल हुए।

जैसे वे कहते हैं, बाकी इतिहास है। आज, हेमल महाराष्ट्र के पुणे के खडकवासला में एनडीए में एक गौरवान्वित कैडेट हैं ।

वाइब्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए , हेमल के पिता ने साझा किया: “अपने बच्चों को कड़ी मेहनत करते हुए देखना मेरे लिए और अधिक मेहनत करने के लिए ऊर्जादायी था। मैंने उनकी शिक्षा के लिए दिन-रात मेहनत की है। मौसमी बुखार या बदलते मौसम कभी आड़े नहीं आए। और आज हेमल ने हमें गौरवान्वित किया है।”

हेमल की मां ने कहा कि उनका बेटा एनडीए के लिए निकलते समय बहुत खुश था। “और क्यों नहीं? एनडीए में शामिल होना प्रतिष्ठा की बात है।’

संपर्क करने पर, रमानी ने कहा कि हेमल ने अपनी योग्यता साबित की। “जब वह छोटा था, तो वह कई विद्यार्थियों में से एक था जिसे हम हमेशा अकादमिक उपलब्धियों के लिए हमेशा प्रशंसा मिलती थी । आर्मी स्कूल में दाखिला लेने के बाद भी वह संपर्क में रहा और हमारे कार्यालय का दौरा किया। इस कार्यालय में आज भी ऋषिकेश की वर्दी है। हमें इसमें कोई संदेह नहीं है कि हेमल एक बहादुर, सच्चा और देशभक्त सैनिक साबित होगा.

सूरत: 50 करोड़ रुपये की लागत से 2600 और लगेंगे सीसीटीवी कैमरे

Your email address will not be published.