त्रिपदा विद्यालय प्रबंधन की एक और काली करतूत ,शिक्षक के सहारे बने ” आत्मनिर्भर “

| Updated: April 23, 2022 1:57 pm

गुजरात में शिक्षा के निजीकरण को सरकार द्वारा मिल रहे बढ़ावा के बीच कुछ निजी स्कूल प्रबंधक अपनी काली करतूतों से बाज नहीं आ रहे हैं। इसी तरह के एक मामले में अहमदाबाद स्थित एक निजी विद्यालय त्रिपदा विद्यालय प्रबंधन के खिलाफ उसी के शिक्षक ने मुख्यमंत्री कार्यालय को शिकायत भेजी थी , जिसके आधार पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने त्रिपदा विद्यालय प्रबंधन के खिलाफ जाँच के आदेश दिए हैं।

गुजरात में शिक्षा के निजीकरण को सरकार द्वारा मिल रहे बढ़ावा के बीच कुछ निजी स्कूल प्रबंधक अपनी काली करतूतों से बाज नहीं आ रहे हैं। इसी तरह के एक मामले में अहमदाबाद स्थित एक निजी विद्यालय त्रिपदा विद्यालय प्रबंधन के खिलाफ उसी के शिक्षक ने मुख्यमंत्री कार्यालय को शिकायत भेजी थी , जिसके आधार पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने त्रिपदा विद्यालय प्रबंधन के खिलाफ जाँच के आदेश दिए हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक त्रिपदा विद्यालय के शिक्षक विनोद चावड़ा ने मुख्यमंत्री कार्यालय में शिकायत दर्ज कराई कि ” विद्यालय प्रबंधन ने आत्मनिर्भर भारत के तहत एक लाख का लोन उसके नाम पर उसकी जानकारी के बिना लिया और साथ ही उसकी कई महीनों का वेतन ना देकर उसके साथ आर्थिक अपराध किया है।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने लिया संज्ञान , दिया जाँच के आदेश

शिकायत के मुताबिक विद्यालय प्रबंधन ने उससे एक लोन पेपर पर हस्ताक्षर कराये और कुछ दिनों बाद उसके कहते में एक लाख रूपया जमा हुआ। विद्यालय प्रबंधन ने एक लाख का चेक विद्यालय के नाम पर उससे ले लिया। साथ ही उसको कई महीनो का वेतन भी नहीं दिया।

मुख्यमंत्री कार्यालय को विनोद चावड़ा ने लिखित शिकायत भेजी थी ,जिसके आधार पर त्रिपदा विद्यालय प्रबंधन के खिलाफ जाँच शुरू हो गयी है। मिली जानकारी के मुताबिक जिला शिक्षा कार्यालय को इसी विद्यालय से जुडी हुयी इसी तरह की कई शिकायते मिली हैं।

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने छोड़ा पद , सुमन बेरी हो सकते हैं उत्तराधिकारी

Your email address will not be published.