सी आर पाटिल ने एकनाथ शिंदे के साथ मिलकर कर दिया बड़ा खेल , संकट में महाराष्ट्र सरकार

| Updated: June 21, 2022 12:04 pm

  • सूरत में शिंदे के नेतृत्व में होटल में रुके हैं 19 विधायक , रात 2 बजे बढाई सुरक्षा
  • दोपहर 2 बजे शिंदे कर सकते है पत्रकार परिषद , विधान परिषद में क्रॉस वोटिंग के बाद संपर्क विहीन हो गए थे शिंदे

गुजरात भाजपा प्रमुख सीआर पाटिल ऑपरेशन लोटस में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए बड़ा खेल कर दिया है। गुजरात और महाराष्ट्र की राजनीति को एक साधने में माहिर सी आर पाटील ने आलाकमान के निर्देश पर आपरेशन लोटस को अंजाम देकर महाराष्ट्र की उध्दव सरकार को संकट में डाल दिया है। जिससे
महाराष्ट्र में इन दिनों सियासत गरमाई हुई है. शिवसेना के शीर्ष नेता एकनाथ शिंदे का कथित तौर पर 19 पार्टी विधायकों के साथ गुजरात के सूरत के ली मेरेडियन होटल में हैं , रात 2 बजे पुलिस ने होटल में सुरक्षा बढ़ा दी थी , किसी दूसरे के आने जाने पर भी प्रतिबन्ध हैं। सूत्रों के मुताबिक प्रशासन को पहले से ही जानकारी दे दी गयी थी सुबह सयुक्त पुलिस आयुक्त शरद सिंघल ने होटल का दौरा कर आधीनस्थो को निर्देश दिए . पहली बार इस तरह के ओपरेशन के लिए सूरत का इस्तेमाल किया जा रहा है बताया जा रहा है कि शिंदे दोपहर में इस संबंध में मीडिया को संबोधित कर सकते हैं.

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र में शिवसेना के एकनाथ शिंदे के साथ ऑपरेशन लोटस शुरू किया था। गुजरात में 19 विधायक हैं । चर्चा है कि गुजरात भाजपा प्रमुख सीआर पाटिल इस मिशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

शिंदे की अनुपस्थिति ने संदेह को हवा दी है कि महाराष्ट्र विकास अघाड़ी (एमवीए) गठबंधन सरकार खतरे में है।बता दें कि 12 विधायक अगर शिवसेना से टूटते हैं तो संख्या घटकर 270 हो जायेगी. ऐसे में बहुमत के लिए 135 की जरूरत होगी.नवाब मलिक और अनिल देशमुख की वोटिंग पर तलवार लटकी है. शिवसेना के रमेश लटके का निधन हो चुका है.

राज्यपाल के जरिए सभी 12 को मनोनीत किया जा सकता है. कल बीजेपी को विधान परिषद में 134 वोट मिला था जिसका मतलब कि बीजेपी करीब 270 के सदन में बहुमत हासिल कर सकती है. मतलब जो 12 विधायको की सदस्यता जायेगी, उन्हें फिर मनोनित किया जा सकता है.

शिंदे के अभी गुजरात में होने की अफवाह है। “हमें नहीं पता कि वह कहाँ है।” शिवसेना नेता नीलम गोरे ने कहा, “मुझे विश्वास है कि वह सामने आएंगे और अपनी स्थिति स्पष्ट करेंगे।”

288 सीटों वाली महाराष्ट्र विधानसभा में बीजेपी को 133 वोट मिले थे, जब उसके पास 106 विधायक थे। एमवीए पर इसकी जीत को मामूली पार्टियों और निर्दलीय उम्मीदवारों के अतिरिक्त 27 वोटों से सहायता मिली। उसे विधायिका में बहुमत हासिल करने के लिए 12 और विधायकों की जरूरत है।

एकनाथ शिंदे ठाणे के कोपरी पचपखाड़ी से चार बार विधायक हैं और ठाकरे के बाद शिवसेना के सबसे बड़े नेताओं में से एक हैं। शिंदे, जो मिलनसार होने के लिए जाने जाते हैं, ने सेना में एक बड़ी संख्या में अनुयायी बनाए हैं। 2014 के विधानसभा चुनावों में भाजपा के खिलाफ शिवसेना की जीत के बाद ठाकरे ने उन्हें महाराष्ट्र में विपक्ष का नेता चुना। बाद में शिवसेना ने भाजपा के साथ गठबंधन किया और शिंदे को मंत्री नियुक्त किया गया।

NEET 2022 के अभ्यर्थी एक महीने में मेडिकल एंट्रेंस क्रैक करने की टिप्स यहां जानें..

Your email address will not be published.