कैसे कोविड में आवाजाही वर्ष का व्यापार बन गया, चाहे वह भारत में हो या ताइवान में - Vibes Of India

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

कैसे कोविड में आवाजाही वर्ष का व्यापार बन गया, चाहे वह भारत में हो या ताइवान में

| Updated: December 23, 2021 18:54

वह ताइपे में वसंत की एक गर्म शाम थी। सौ से अधिक हस्तियां, संस्थापक, उद्यमी, पूंजीपति और तकनीकी अधिकारी कॉकटेल और हल्के-फुल्के नमकीन के लिए एकत्र हुए थे।

सामाजिककरण के बहाने ताइवान में सुर्खियां बनने वालों, पार्टियां करने वालों के बीच अनौपचारिक बातचीत थी वह। वहां वे कोविड शटडाउन की एक और लहर के बीच बाकी दुनिया में जिस तरह की स्वतंत्रता का अभाव था, उसका आनंद ले रहे थे।

उल्लेखनीय यह था कि भीड़ में शामिल लोगों में कई लंबे समय से ताइवान के निवासी नहीं थे। जबकि बहुत से लोग वहां पैदा हुए थे या उनके पारिवारिक संबंध थे। अधिकतर ने सिलिकॉन वैली के टेक हब, न्यू इंग्लैंड के शैक्षणिक संस्थानों, या वॉल स्ट्रीट पर जीवन यापन के लिए जुगाड़बाजी करते हुए अपनी मातृभूमि में बहुत कम समय बिताया था। लेकिन जैसे-जैसे कोविड दुनिया भर में फैला, उन्हीं लोगों ने ताइवान के पासपोर्ट लपक लिए या एक विशेष गोल्ड कार्ड वीजा के लिए मारामारी कर उस अभयारण्य की ओर चले गए, जहां जीवन सामान्य था।

ऐसा ही परिदृश्य दुनिया भर के विशेषाधिकार प्राप्त और बड़े लोगों के लिए चल रहा था। पैसे, पासपोर्ट और लचीले रोजगार के साथ वे सबके लिए सबसे बड़ा धंधा साबित हुए कोविड कारोबार को खींचने में कामयाब रहे। कहां रहना है, कैसे काम करना है और कौन से अंतरराष्ट्रीय स्कूलों में जाना है, इसका विकल्प अमीरों के लिए सुविधाजनक रहता है, जबकि अरबों अन्य लोगों ने टीकों के लिए मारामारी की। साथ ही अपनी नौकरी और घर से स्कूलिंग की मांगों को संतुलित करने के लिए संघर्ष किया।

धनी भारतीयों के लिए महामारी के कहर से बचने के लिए निजी जेट किराए पर लेना शामिल था, जबकि उनके गृह राष्ट्र में हाहाकार मचा था, क्योंकि कोविड-संक्रमित रोगियों की लहरें ऑक्सीजन के लिए हांफ रही थीं। बॉलीवुड सितारों को मालदीव के उष्णकटिबंधीय द्वीप समूह की ओर जाते हुए देखा गया। कई तो पूरे परिवार के साथ दुबई के लिए रवाना हो गए, जिसके लिए नई दिल्ली से एकतरफा उड़ानों की कीमत 20,000 डॉलर प्रति व्यक्ति थी। अमीराती नगर पालिका भारतीय प्रवासियों के बीच इतनी लोकप्रिय हो गई है कि इसे मजाक में “सबसे सुरक्षित भारतीय शहर” कहा जाने लगा है।

अमेरिका से लेकर ब्रिटेन तक दुनिया के अन्य हिस्सों में अमीर लोगों ने भी छिपने के तरीके खोजे। जैसे, दूर-दराज के न्यूजीलैंड के लिए जेटिंग करना, डूम्सडे बंकरों की तलाश करना या भीड़ से दूर हॉलिडे होम में जाना।

ताइवान में, जिसने मार्च 2020 तक विदेशियों के लिए सीमा बंद कर दी थी, पासपोर्ट धारक और अधिकृत निवासी अनिवार्य दो सप्ताह के क्वारंटीन को पूरा करने के बाद फिर से प्रवेश कर सकते हैं। पड़ोसी चीन में उत्पन्न हुए एक वायरस का मुकाबला करने के लिए प्रारंभिक कार्रवाई करने के बाद, ताइवान की सरकार ने अपने लोगों को मिले-जुले प्रतिबंधों के माध्यम से चलाने में कामयाबी हासिल की। जैसे कि मास्क को अनिवार्य करना। फिर थोड़ा लचीलापन दिखाते हुए यह सुनिश्चित किया कि अधिकांश संस्थान और मनोरंजन स्थल खुले रहें।

इसलिए माता-पिता यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि उनके बच्चे किसी भी कक्षा को न छोड़ें। जबकि अच्छी तरह से युवा पेशेवर ताइपे के नाइट क्लबों और केटीवी के पार्टी जीवन का आनंद लेना चाहते हैं। अमेरिका में लॉकडाउन की पहली लहर का अनुभव करने के छह महीने के भीतर और 2020 की शुरुआत में स्कूल बंद होने के बाद, शहर के कुलीन अंतरराष्ट्रीय स्कूल पूरी क्षमता तक पहुंच गए थे।

इस पूरे मामले का दूसरा पहलू तब सामने आया, जब ताइवान एक वर्ष से अधिक समय तक कोविड को अपने यहां आने से रोकने में कामयाब रहा। लेकिन पिछली मई में क्वारंटीन नियम टूटने के बाद कई पीड़ित सामने आए। अचानक एक सप्ताह के भीतर 2,000 से अधिक नए संक्रमणों को राष्ट्रीय आपदा के रूप में देखा गया (भारत ने इसी अवधि के दौरान एक ही दिन में 311,170 की सूचना दी), और दुकानों, स्कूलों और व्यवसायों को बंद करने का आदेश दिया गया। 2020 में एक सुनहरी गर्मी का आनंद लेने के बाद ताइवान के निवासियों को 2021 में सामाजिक रूप से दूर की गर्मी का सामना करना पड़ रहा था, जिसमें क्लब और बार बंद थे और भोजन पर कड़े प्रतिबंध थे।

टीकों की कमी के मद्देनजर, चीन के राजनीतिक दबाव के कारण, पैसे और साधन वाले वही लोग मई से जुलाई के महीनों में वापस अमेरिका जाने लगे। जहां टीकाकरण की पर्याप्त सुविधा थी और स्कूल खुलने को तैयार थे। इससे वहां से आने वालों की तुलना में जाने वाले दोगुने हो गए। डेटा से पता चला कि ताइवान अपने उद्देश्य में सफल रहा।

अब इस क्षेत्र की सरकारों पर लौटने वाले नागरिकों, व्यापारिक यात्रियों और पर्यटकों के लिए अपनी सीमाएं खोलने का दबाव है। 90% से अधिक टीकाकरण दरों ने ऑस्ट्रेलिया की संघीय सरकार, और राज्य के नेताओं को नागरिकों और योग्य वीजा धारकों को वापस आने देने के लिए प्रोत्साहित किया। थाईलैंड ने एक “सैंडबॉक्स” रणनीति के साथ प्रयोग करना शुरू किया जो देश के बाकी हिस्सों को काफी हद तक अलग-थलग रखते हुए पर्यटकों को फुकेत के रिसॉर्ट में वापस जाने की अनुमति देता है।

इस बीच ताइवान सतर्क है। व्यापार जगत के नेता और वाणिज्य मंडल चाहते हैं कि सरकार विदेशी व्यापार और इसके मजबूत प्रदर्शनी और सम्मेलन उद्योग पर प्रभाव का हवाला देते हुए ढील दे। टीकाकरण का स्तर बढ़ने और स्थानीय कोविड के मामले एक महीने से अधिक समय तक शून्य के करीब रहने के कारण ताइपे चैन से रह सकता है।

फिर भी कई ताइवानी नहीं चाहते कि सीमाएं फिर से खुलें। इसके बजाय वे महामारी में सबसे कीमती देन को पकड़ना चाहते हैं: स्वतंत्रता और सुरक्षा। कोविड के दौर में दुनिया में कई लोगों को व्यापार के लिहाज से इन दोनों पक्षों के मूल्य का एहसास है।

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d