राजकोट -परीक्षा के तनाव में दसवी की छात्रा ने की आत्महत्या

| Updated: March 21, 2022 6:03 pm

पिता ने कहा है कि मृतक बीना कक्षा 10 में गणित और विज्ञान का पेपर रिपीटर के तौर पर उसे देना था लेकिन उसे लगातार परीक्षा की चिंता सता रही थी। लेकिन वह आत्महत्या कर लेगी यह कभी सोचा नहीं था।गुजरात शिक्षा बोर्ड छात्रों को तनाव से मुक्ति के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी करता है , लेकिन अभिभावको को भी बच्चो के साथ लगातार दोस्ताना बात करनी चाहिए .

परीक्षा का तनाव छात्रों की मौत का कारण बनता जा रहा है , पिछली परीक्षा में असफल हुयी छात्रा ने परीक्षा के एक दिन पहले आत्महत्या कर ली। राजकोट के सापर वेरावल में कक्षा 10 में पढ़ने वाली छात्रा की आत्महत्या की घटना सामने आई है. बेटी की आत्महत्या के बाद से पटेल परिवार शोक में है। बीना कांतिभाई पटेल की कक्षा 10 की परीक्षा कल होने वाली थी । लेकिन परीक्षा के एक दिन पहले ही बीना ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

प्राप्त जानकारी के अनुसार राजकोट जिले के सापर वेरावल में एक हाउसिंग सोसाइटी में रहने वाले पटेल परिवार की लाडली बेटी सुबह नौ बजे अपने घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर मिली. पूरे मामले की सूचना परिजनों को दी गई तो परिजन फूट-फूट कर रोने लगे। घटना की सूचना सापर वेरावल पुलिस को दी गयी ,पुलिस द्वारा आवश्यक कार्रवाई की गई । शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में पीएम के लिए भेज दिया गया है।


पुलिस की शुरुआती जांच में मृतक बिना की मां आशाबा ने 15 साल पहले कांतिभाई नाम के शख्स से शादी की थी. मृतक की पहचान बीना आशाबहन के पहले पति के बच्चे के रूप में भी हुई है। पिछले 15 सालों से मृतक बीना कांतिभाई को अपना पिता मानती थी।

लगातार परीक्षा की चिंता सता रही थी।


जिससे पालक पिता होते हुए भी कांतिभाई को पुत्री बीना से विशेष प्रेम था। पिता ने कहा है कि मृतक बीना कक्षा 10 में गणित और विज्ञान का पेपर रिपीटर के तौर पर उसे देना था लेकिन उसे लगातार परीक्षा की चिंता सता रही थी। लेकिन वह आत्महत्या कर लेगी यह कभी सोचा नहीं था।गुजरात शिक्षा बोर्ड छात्रों को तनाव से मुक्ति के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी करता है , लेकिन अभिभावको को भी बच्चो के साथ लगातार दोस्ताना बात करनी चाहिए .

पशुपालको को मिली राहत; राजकोट डेरी ने एक हफ्ते में दूसरी बार दूध के दामो में किया बढ़ावा

Your email address will not be published.