कांग्रेस को बड़ा झटका, इंद्रनील राजगुरु आप में शामिल

| Updated: April 14, 2022 1:01 pm

गुजरात कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है , राजकोट के वन मैन आर्मी इंद्रनील राजगुरु ने आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर ली , 141 करोड़ की सम्पति के साथ अपनी लड़ाकू छवि के बल पर वह 2017 के विधानसभा चुनाव में तात्कालिक मुख्यमंत्री विजय रुपाणी को चुनौती देने के लिए उनके गढ़ राजकोट पश्चिम से चुनाव लड़े थे ,

गुजरात कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है , राजकोट के वन मैन आर्मी इंद्रनील राजगुरु ने आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर ली , 141 करोड़ की सम्पति के साथ अपनी लड़ाकू छवि के बल पर वह 2017 के विधानसभा चुनाव में तात्कालिक मुख्यमंत्री विजय रुपाणी को चुनौती देने के लिए उनके गढ़ राजकोट पश्चिम से चुनाव लड़े थे ,

जिसमे दिलचस्प मुकाबले में उन्हें शिकस्त मिली थी , युवक कांग्रेस से राजनीति शुरू करने वाले राजगुरु सौराष्ट्र में बड़ा नाम है। इस युवा नेता की आक्रामक शैली उनकी पहचान रही है , 2018 में भी उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफ़ा दिया था , लेकिन बाद में पार्टी ने उन्हें मना लिया था।

राजगुरु के जाने से कांग्रेस को बड़ा झटका माना जा रहा। वह प्रदेश समिति की उपेक्षा और सुस्ती से नाराज थे। दिल्ली में आप सुप्रीमो अरविन्द केजरीवाल के हाथों आप में शामिल होने के बाद वह गुजरात आप के मुख्यालय पहुंचे , उनके साथ उनके समर्थक भी शामिल है।

आप की सरकार और पार्टी दोनों से प्रभावित हुए हैं

इंद्रनील राजगुरु ने कहा कि आम आदमी पार्टी की नियत में कोई खोट नहीं है। दिल्ली और पंजाब में जीत से यह साबित हो गया है। पंजाब में जीत के कुछ ही दिनों में अगर कोई भ्रष्टाचार करता है वो उसके लिए मुख्यमंत्री ने नंबर जारी किया , यह एक सन्देश है जो गुजरात में नहीं है। मेरा मानना ​​है कि अरविंद केजरीवाल पार्टी के लिए नहीं बल्कि आदमी के लिए लड़ रहे हैं। पूर्व विधायक ने आगे कहा की वह आप की पार्टी और सरकार दोनों से प्रभावित होकर कांग्रेस छोड़ कर आम आदमी पार्टी में शामिल हुए हैं।

आगे कहा कि मेरा सार्वजनिक जीवन हमेशा लोगों के लिए रहा है। मैं कांग्रेस में था। मेरे विचार में यह एक कलंक है कि भाजपा सत्ता में हो और लोगों को मूर्ख बनाकर पार्टी सत्ता बनी रहे। मैं हमेशा लोगों को अपना समय देना चाहता हूं। यदि आप लोगों को समय देना चाहते हैं, तो कांग्रेस भाजपा से बेहतर पार्टी थी और आज मैं आम आदमी पार्टी में शामिल हो रहा हूं क्योंकि यह आम आदमी पार्टी की तरह दिखती है। आने वाले दिन आम आदमी पार्टी के हैं। निजी अस्पतालों को डॉक्टर मिलते हैं तो सरकारी अस्पतालों को क्यों नहीं। आज मैं चाहता हूं कि सभी कांग्रेस और बीजेपी कार्यकर्ता और आम आदमी आम आदमी से जुड़ें जो मुझ पर विश्वास करते हैं और निडर खड़े होने का साहस रखते हैं।

कांग्रेस में साहस नहीं है।

कांग्रेस में साहस नहीं है । मैं सौदेबाजी की चिप नहीं हूं। मेरी प्रतिष्ठा वहां नहीं थी।हम आप के साथ जुड़े हैं हैं, पार्टी जैसा फैसला करेगी, मैं चुनाव लड़ूंगा. मुझे कांग्रेस से कोई व्यक्तिगत आपत्ति नहीं थी। कांग्रेस में योजना बनाने की क्षमता है, नरेश पटेल मेरे मित्र हैं। मुझे नहीं पता कि वह कांग्रेस में शामिल होंगे या नहीं। जहां नरेश पटेल हैं, वहां मेरा कद बढ़ता है लेकिन घटता नहीं है। जो कोई भी समाज का भला चाहता है वह शामिल होता है और अगर उन्हें ऐसा लगता है, तो शामिल हों।

जिनमें लड़ना का साहस हो वह आम आदमी पार्टी से जुड़े

आज मैं चाहता हूं कि सभी कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ता और आम आदमी आम आदमी में शामिल हों जो मुझ पर विश्वास करते हैं और निडर खड़े होने का मानसिक साहस रखते हैं। मैं उन लोगों से कहना चाहूंगा जो मानते हैं कि ऐसा कई बार होगा, कि यह मनुष्य की शक्ति का समय नहीं है। 2022 में सरकार आपकी होगी। मैं गुजरात की जनता से अपील कर रहा हूं कि 2022 में पहले से ही भ्रष्टाचार से ग्रसित भाजपा से छुटकारा पाएं।

आपके नेता ईशुदान गढ़वी ने कहा कि आज का दिन आम आदमी पार्टी के लिए अच्छी खबर है। नेता आपसे जुड़ रहे हैं। कल केजरीवाल से मिले थे। इंद्रनील राजगुरु , वशराम सगथिया और कोमल बेन शामिल हुए हैं। आप उन लोगों के लिए एकमात्र विकल्प हैं जो काम करना चाहते हैं और सार्वजनिक सेवा करना चाहते हैं।

किन नेताओं को गुजरात कांग्रेस की कमजोर कड़ी मान रहा है आलाकमान

Your email address will not be published.