स्मार्टफोन से लग सकता है जीका वायरस का पता

| Updated: July 31, 2022 11:28 am

अमेरिका में इलिनॉइस अर्बाना-शैंपेन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने खुलासा किया है कि स्मार्टफोन के जरिये भी खून में जीका वायरस का पता लगाया जा सकता है। ऐसे एक अनोखे डिवाइस को स्मार्टफोन में क्लिप करके किया जा सकता है।

जैसा कि कोविड-19 महामारी के समय देखा गया कि वायरस का पता लगाने और संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए तेजी से, सरल, सटीक तरीके से उसकी पहचान के तरीके महत्वपूर्ण साबित हुए। दुर्भाग्य से प्रयोगशाला-आधारित विधियों में अक्सर प्रशिक्षित कर्मियों की आवश्यकता होती है और इसकी प्रक्रियाएं भी जटिल रहती हैं।

जीका वायरस के संक्रमण का पता वर्तमान में एक प्रयोगशाला में किए गए पोलीमरेज चेन रिएक्शन परीक्षणों के माध्यम से लगाया जाता है। यह वायरस की आनुवंशिक सामग्री को बढ़ा सकता है। इससे वैज्ञानिकों को इसका पता लगाने में सहूलियत होती है।

जीका वायरस क्या है?

जीका वायरस मुख्य रूप से एडीज एजिप्टी मच्छरों से फैलता है। यद्यपि यह रोग काफी हद तक स्पर्शोन्मुख है या वयस्कों में हल्के लक्षणों का परिणाम है। रोगी के त्वचा पर लाल चकत्ते, बुखार, आंखों में सूजन, जोड़ों में दर्द आदि रहता है। यदि मां प्रारंभिक गर्भावस्था के दौरान संक्रमित होती हैं, तो यह नवजात शिशुओं में विकास संबंधी विकारों का कारण बनता है।

कैसे लग सकता है पता

अर्बाना-शैंपेन में इलिनोइस विश्वविद्यालय के ब्रायन कनिंघम ने कहा, “हमने एक क्लिप-ऑन डिवाइस डिजाइन किया है ताकि स्मार्टफोन का रियर कैमरा काटिर्र्ज को देख सके।” कनिंघम ने कहा कि जब सकारात्मक प्रतिक्रिया होती है, तो आप फ्लोरोसेंस के छोटे हरे रंग के फूल देखते हैं जो अंतत: पूरे को हरी रोशनी से भर देते हैं।

नए अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पॉइंट-ऑफ-केयर क्लीनिक के लिए उपयुक्त दृष्टिकोण का उपयोग करके रक्त के नमूनों में वायरस का पता लगाने के लिए लूप-मेडियेटेड इजोथर्मल एम्प्लीफिकेशन का उपयोग किया। जबकि पीसीआर को आनुवंशिक सामग्री को बढ़ाने के लिए 20 से 40 बार-बार तापमान परिवर्तन की आवश्यकता होती है, एलएएमपी को केवल एक तापमान 65 डिग्री सेल्सियस की आवश्यकता होती है, जिससे इसे नियंत्रित करना आसान हो जाता है।

इसके अलावा पीसीआर परीक्षण दूषित पदार्थो, विशेष रूप से रक्त के नमूने के अन्य पुर्जो के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं। नतीजतन, नमूने को इस्तेमाल करने से पहले इसे शुद्ध किया जाता है। दूसरी ओर, एलएएमपी को ऐसे किसी शुद्धिकरण चरण की आवश्यकता नहीं होती है।

एक काटिर्र्ज, जिसमें वायरस का पता लगाने के लिए आवश्यक अभिकर्मक होते हैं, परीक्षण करने के लिए उपकरण में डाला जाता है, जबकि उपकरण को स्मार्टफोन पर क्लिप किया जाता है। एक बार जब रोगी रक्त की एक बूंद डालता है, तो रसायनों का एक सेट पांच मिनट के भीतर वायरस और रक्त कोशिकाओं को तोड़ देता है। काटिर्र्ज के नीचे एक हीटर इसे 65 डिग्री सेल्सियस तक गर्म करता है।

रसायनों का दूसरा सेट तब वायरल आनुवंशिक सामग्री को बढ़ाता है और यदि रक्त के नमूने में जीका वायरस होता है, तो काटिर्र्ज के अंदर का तरल चमकीले हरे रंग का हो जाता है। पूरी प्रक्रिया में 25 मिनट लगते हैं।

शोधकर्ता अब एक साथ अन्य मच्छर जनित वायरस का पता लगाने के लिए समान उपकरण विकसित कर रहे हैं और उपकरणों को और भी छोटा बनाने पर काम कर रहे हैं।

Your email address will not be published.