Sonali Phogat case: पुलिस ने कहा कि सोनाली को पार्टी में मेथामफेटामाइन दिया गया था, रेस्टोरेंट मालिक और ड्रग तस्कर गिरफ्तार

| Updated: August 29, 2022 1:50 pm

गोवा पुलिस (Goa Police) ने शनिवार को कहा कि भाजपा नेता सोनाली फोगाट (BJP leader Sonali Phogat) को उनकी मौत से कुछ घंटे पहले उनके सहयोगियों ने मेथामफेटामाइन (methamphetamine), [एक मनोरंजक दवा] दी थी, जिसके बाद उनकी कथित हत्या से संबंधित मामले में दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया। अब इस मामले में गिरफ्तारियों की संख्या चार हो गई। पुलिस ने कहा कि शनिवार को गिरफ्तार किए गए लोगों में से दत्ताप्रसाद गांवकर ने कथित तौर पर फोगाट के सहयोगियों सुधीर सागवान और सुखविंदर सिंह को ड्रग्स मुहैया कराया था, और उन्हीं लोगों ने उसे खिलाया भी था। एक अन्य गिरफ्तार व्यक्ति एडविन नून्स, उत्तरी गोवा जिले में कर्लीज रेस्तरां (Curlies restaurant) का मालिक है, जहां फोगाट और उसके सहयोगियों ने 22 और 23 अगस्त की मध्यरात्रि को पार्टी की थी।
पुलिस उपाधीक्षक जीवबा दलवी ने कहा कि फोगाट को मेथामफेटामाइन, एक प्रकार की मनोरंजक दवा दी गई थी, क्योंकि रेस्तरां के वॉशरूम से कुछ बची हुई दवा बरामद की गई थी। पहले गिरफ्तार किए गए सागवान और सुखविंदर सिंह ने कथित तौर पर पुलिस को बताया कि उन्होंने गांवकर से ड्रग्स की खरीद की थी, जो अंजुना के होटल ग्रैंड लियोनी रिज़ॉर्ट (Hotel Grand Leoney Resort) में रूम बॉय के रूप में काम करता था, जहां वे रह रहे थे।
पुलिस ने कहा कि गांवकर और नून्स के खिलाफ नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस Narcotic Drugs and Psychotropic Substances अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।
दिन में सोशल मीडिया पर रेस्टोरेंट के सीसीटीवी फुटेज के वीडियो भी सामने आए। एक वीडियो में फोगाट को सागवान के साथ डांस करते देखा जा सकता है। सागवान सोनाली को पानी पीने के लिए मजबूर करता हुआ दिखाई देता है जिसे वह तुरंत थूक देती है। एक अन्य वीडियो में फोगाट को आरोपी द्वारा रेस्तरां से बाहर ले जाते हुए दिखाया गया है। वह लड़खड़ाती हुई और बाहर जाते समय सीढ़ियों के पास गिरती हुई दिखाई दे रही है।
पूर्व टिकटॉक स्टार और रियलिटी शो बिग बॉस के प्रतियोगी फोगाट का गोवा आने के एक दिन बाद 23 अगस्त को निधन हो गया।
शुक्रवार को, पुलिस ने कहा था कि सागवान और सिंह ने कथित तौर पर पानी में कुछ “संदेहपूर्ण पदार्थ” मिलाया और फोगाट को पीने के लिए मजबूर किया।
फोगाट को 23 अगस्त की सुबह उत्तरी गोवा जिले के अंजुना के सेंट एंथोनी अस्पताल (St Anthony Hospital) में उसी होटल से लाया गया, जहां वह ठहरी हुई थी।
डॉक्टरों ने कहा कि उसे दिल का दौरा पड़ा था, लेकिन उसके भाई ने आरोप लगाया कि उसके साथ गोवा पहुंचे सागवान और सिंह के कारण उसकी मौत हुई।
घटना के बाद दोनों को हिरासत में लिया गया और हत्या के लिए एक प्राथमिकी दर्ज की गई। शव परीक्षण रिपोर्ट (पोस्टमार्टम) में कहा गया कि उसके शरीर पर कई “बलपूर्वक चोट के निशान” थे, हालांकि यह मौत के कारण पर राय सुरक्षित है, लेकिन रासायनिक विश्लेषण अभी भी लंबित है।
पुलिस ने कहा था कि उसकी हत्या के पीछे “आर्थिक हित” एक मकसद हो सकता है। एक स्थानीय अदालत ने शनिवार को सागवान और सिंह को दस दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया।
नून्स ने पहले पीटीआई को बताया था कि फोगाट अन्य ग्राहक की तरह’ उनके रेस्तरां में आई थीं, लेकिन वह उससे नहीं मिला था। इस बीच, विपक्षी कांग्रेस ने कथित हत्या की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग की, और कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो मामले को रफा-दफा किया जा सकता है।
“कई राजनेताओं ने कहा कि उनकी मृत्यु दिल का दौरा पड़ने से हुई थी। लेकिन अंत में यह हत्या के रूप में सामने आया है। इस हत्या के पीछे बहुत कुछ है और हर कोण से जांच किए जाने की जरूरत है। इस तरह के मामलों की सीबीआई से जांच कराए जाने की जरूरत है।” गोवा विधानसभा में विपक्ष के नेता माइकल लोबो ने पीटीआई को बताया।

राज्य में मादक पदार्थों की तस्करी पर अरविंद केजरीवाल ने गुजरात सरकार की खिंचाई की

Your email address will not be published.