यूक्रेन “तटस्थ”रूस ने गवाया अपना व्यापार स्थल

| Updated: April 4, 2022 5:36 pm

रूस-यूक्रेन युद्ध 40वें दिन में प्रवेश कर चुका है। दोनों देशों के बीच बातचीत से भी अभी तक कोई बड़ी सफलता नहीं मिली है। चुन-चुन कर प्रमुख स्थानों को निशाना बनाए जाने से यूक्रेन की हालत खराब हो चुकी है। दूसरी ओर, पश्चिमी प्रतिबंधों के कारण भारी कटौती से रूस की अपनी अर्थव्यवस्था भी चरमरा गई है।

रूसी उद्यमी सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं, क्योंकि प्रतिबंधों के कारण उनके व्यवसाय को झटका लगा है। कुछ प्रमुख ब्रांड पहले ही रूस में कारोबार बंद कर चुके हैं। ऐसा ही एक उदाहरण रूसी व्यवसायी किरिल कुक्कोयेव हैं, जिन्हें पश्चिमी प्रतिबंधों के कारण अपना कारोबार बंद करने के बाद धंधे को समेटना पड़ा। स्वीडिश फर्नीचर प्रमुख आइकिया ने रूसी बाजार से हटने की घोषणा की, क्योंकि किरिल को हाई-एंड अपार्टमेंट्स के नवीनीकरण के अपने व्यवसाय को बंद करना पड़ा।

रूसी उद्यमी अब तक के सबसे खराब संकट का सामना कर रहे हैं:

जिस दिन फर्नीचर प्रमुख ने रूसी बाजार से वापसी की घोषणा की, उसी दिन किरिल ने आधी रात तक काम किया, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उसे अधिकतम ऑर्डर मिले। इसलिए कि उस दिन के बाद उसने अपनी कंपनी को आइकिया के नाम से ‘आइडिया’ के रूप में पंजीकृत किया। उनकी मुख्य समस्या ग्राहकों द्वारा अपने ऑर्डर रद्द करना है, क्योंकि उनके 75 प्रतिशत ग्राहकों ने आर्थिक मंदी का हवाला देते हुए हाथ खींच लिए हैं।

किरिल अकेले नहीं हैं, क्योंकि उनके जैसे कई व्यवसायी सौंदर्य सैलून, परिवहन, रसद कंपनियों, रेस्तरां, बार और अन्य के रूप में रूस पर मौजूदा आर्थिक प्रतिबंधों से प्रभावित हुए हैं।

रूसी अर्थव्यवस्था में गिरावट:

यहां ध्यान देने योग्य बात यह है कि मैकडॉनल्ड्स, स्टारबक्स, कोका-कोला, पेप्सिको, जनरल इलेक्ट्रॉनिक्स और कई अन्य जैसे बड़े नामों ने रूस में अपना बिजनेस बंद कर दिया है। बदले में इन प्रतिबंधों ने रूसी अर्थव्यवस्था को दबा दिया है, क्योंकि मजदूरी में गिरावट आ रही है, मुद्रास्फीति वर्तमान में रिकॉर्ड 24 प्रतिशत पर है, खपत गिर गई है और आपूर्ति श्रृंखला सबसे बुरी तरह प्रभावित हुई है। इसके अतिरिक्त दर्द निवारक और इंसुलिन सहित लगभग 80 प्रकार की दवाओं की आपूर्ति कम हो रही है। घबराहट में प्रमुख वस्तुओं की खरीदारी को देखते हुए रूसी अधिकारियों ने एकाधिकार-विरोधी जांच का आदेश दिया है। घबराहट में बड़े पैमाने पर खरीदारी से चीनी की कीमत में करीब 37 फीसदी की तेजी आ गई है।

रूसी अर्थशास्त्रियों का अनुमान है कि आने वाले महीनों में प्रमुख निर्माता अपने उत्पादों के लिए प्रमुख घटकों से बाहर हो जाएंगे। स्पेयर पार्ट्स की कमी के कारण कई सामानों को नुकसान होगा। यदि निर्माता स्थानीय घटकों के लिए जाते हैं, तो उच्च इनपुट लागत के साथ उत्पादों की गुणवत्ता में भारी गिरावट आएगी, जिससे उत्पादों की दरें बढ़ी हुई होंगी। कुछ लोगों का मानना है कि कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के साथ रूस अपने हितों के बराबर फंड जुटा लेने में सक्षम होगा।

उत्तर कोरिया से बेहतर अर्थव्यवस्था:

अर्थशास्त्रियों को डर है कि जंग लंबे समय तक चलने से प्रतिबंधों के कारण रूस की अर्थव्यवस्था दरअसल उत्तर कोरिया से थोड़ी ही बेहतर रह पाएगी।

आने वाली अन्य समस्याएं:

फेडरेशन ऑफ रेस्टॉरेटर्स एंड होटलियर्स के उपाध्यक्ष सर्गेई मिरोनोव ने कहा कि मछली, सब्जियां, पास्ता, सलाद, सॉस और अन्य प्रमुख वस्तुओं की कमी रेस्तरां उद्योग के समक्ष बाधा बन गई है। मॉस्को में नए खुले बार नहीं चल पाएंगे, क्योंकि आयात ही बंद हो गया है।

Your email address will not be published.