गुजरात में पिछले साल हर मिनट 11 शराब की बोतलें हुईं जब्त

| Updated: January 8, 2022 8:48 pm

भले ही पिछले दो साल कोविड -19 महामारी से प्रभावित थे, लेकिन गुजरात राज्य में शराब की तस्करी जारी रही। गुजरात में हुई अब तक की शराब की बरामदगी के आंकड़ों से यह जाहिर होता है। औसतन, 2021 में भारतीय निर्मित विदेशी शराब (आईएमएफएल) की 11 बोतलें जब्त की गईं।
गुजरात पुलिस के आंकड़ों के अनुसार, पुलिस ने 2020 में 115 करोड़ रुपये की शराब जब्त की जो 2021 में बढ़कर 124 करोड़ रुपये हो गई। जब्ती में देशी शराब और आईएमएफएल दोनों शामिल हैं।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि IMFL की श्रेणी में, 2020 में 114 करोड़ रुपये की 45.15 लाख शराब की बोतलें जब्त की गईं, जो 2021 में बढ़कर 122 करोड़ रुपये की 57.12 लाख शराब की बोतलें हो गईं।
राज्य पुलिस ने 2020 में 1.95 करोड़ रुपये की 11.59 लाख लीटर शराब और 2021 में 2.30 करोड़ रुपये की 17.54 लाख लीटर शराब जब्त की।
गुजरात पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, “2020 में, गुजरात पुलिस ने शराबबंदी अधिनियम के तहत पूरे राज्य में 1.53 लाख मामले दर्ज किए, जो 2021 में बढ़कर 1.69 लाख हो गए।”
अधिकारी ने बताया कि 2020 में करीब 1.64 लाख आरोपी और 2021 में 1.67 लाख आरोपी पकड़े गए। अधिकारी ने कहा कि करीब तीन महीने के लॉकडाउन के कारण 2020 में शराब बरामदगी, उनके मामले और आरोपी कम थे।
भले ही 2021 में कोविड के मामलों में वृद्धि के कारण प्रतिबंध थे, लेकिन परिवहन पर कोई प्रतिबंध नहीं था, इसलिए शराब की तस्करी जारी रही।
आंकड़ों के मुताबिक शराब बरामदगी के मामले में अब भी 21,583 आरोपी फरार हैं। 2019 में गुजरात पुलिस ने 215 करोड़ रुपये की IMFL और देशी शराब जब्त की थी। उस साल आईएमएफएल की करीब 68 लाख बोतलें जब्त की गई थीं।
गुजरात के डीजीपी आशीष भाटिया ने कहा कि पुलिस की सतर्कता के कारण शराब जब्ती के मामले बढ़े हैं।
गुजरात में शराब की तस्करी के बारे में पूछे जाने पर भाटिया ने कहा, “राज्य में आने वाले प्रत्येक ट्रक की जांच करना मानवीय रूप से असंभव है। लेकिन हम सतर्क रहते हैं और ह्यूमन इंटेलिजेंस और इनपुट की मदद से शराब माफियाओं पर नजर रखते हैं।”

Your email address will not be published.