12 स्वास्थ्य जांच जो हर महिला को करानी चाहिए

| Updated: March 11, 2022 9:40 pm

महिलाएं अक्सर छोटे-छोटे स्वास्थ्य चेतावनी संकेतों को नजरअंदाज कर देती हैं जो किसी बड़ी बीमारी का संभावित लक्षण हो सकता है। एक डॉक्टर ने 12 स्वास्थ्य जांच के बारे में बताया जो हर महिला को करानी चाहिए।

महिलाएं अक्सर छोटे-छोटे स्वास्थ्य चेतावनी संकेतों को नजरअंदाज कर देती हैं जो किसी बड़ी बीमारी का संभावित लक्षण हो सकता है। एक डॉक्टर ने 12 स्वास्थ्य जांच के बारे में बताया जो हर महिला को करानी चाहिए।

नियमित स्वास्थ्य जांच से संभावित समस्याओं का जल्द पता लगाया जा सकता है और हर महिला को इसके लिए समय निकालना चाहिए क्योंकि नियमित जांच से बीमारी की जटिलताओं को रोका जा सकता है, जीवन की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है और यहां तक कि आपके जीवन को भी बचाया जा सकता है। वे आपके स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं जैसे नियमित व्यायाम, तनाव प्रबंधन और सही भोजन चुनना।
एक मीडिया साक्षात्कार में, गाजियाबाद के मणिपाल अस्पताल में प्रसूति एवं स्त्री रोग सलाहकार, डॉ. रंजना बेकन ने बताया कि, “एक निश्चित उम्र के बाद, मानव शरीर कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति अधिक संवेदनशील होता है।”
जब महिलाओं की बात आती है, तो वे अक्सर उन छोटे चेतावनी संकेतों को नजरअंदाज कर देती हैं जो किसी बड़ी बीमारी का संभावित लक्षण हो सकते हैं। इसलिए महिलाओं के लिए यह बहुत जरूरी है कि वे नियमित जांच की आदत डालें ताकि किसी भी स्वास्थ्य समस्या की प्रारंभिक अवस्था में ही उसकी पहचान हो सके।


12 स्वास्थ्य जांचों को सूचीबद्ध किया जो हर महिला को करानी चाहिए। इसमें शामिल है:


1.ब्लड प्रेशर टेस्ट

ज्यादातर महिलाएं हाइपरटेंशन से पीड़ित होती हैं, खासकर गर्भावस्था के बाद। रक्तचाप की समस्या हृदय रोगों की समस्याओं को बढ़ा देती है, और इसकी नियमित रूप से जांच कराना बहुत महत्वपूर्ण है।


2.बोन डेंसिटी टेस्ट-

एक निश्चित उम्र के बाद महिलाएं पुरुषों की तुलना में बहुत जल्दी अपना बोन डेंसिटी खो देती हैं। इसलिए, सभी को 50 साल की उम्र में परीक्षण करवाना शुरू कर देना चाहिए।


3.थायरॉइड टेस्ट-

थायरोक्सिन और ट्राईआयोडोथायरोनिन दो आवश्यक हार्मोन हैं जो थायरॉयड ग्रंथियों द्वारा स्रावित होते हैं। हाइपरएक्टिव या अंडरएक्टिव थायरॉइड ग्लैंड की समस्या ज्यादातर महिलाओं को प्रभावित करती है। इस प्रकार, यह महिलाओं के लिए नियमित रूप से थायराइड की जांच करवाना अनिवार्य कर देता है।


4.पैप और ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) परीक्षण-

प्रारंभिक अवस्था में सर्वाइकल कैंसर और एचपीवी वायरस के लक्षणों की पहचान करने के लिए 20 से 30 वर्ष की आयु के बीच पैप और एचपीवी स्क्रीनिंग कराने की सिफारिश की जाती है। 21 से 29 वर्ष की आयु की महिलाओं को हर तीन साल में पैप परीक्षण करवाना चाहिए और 25 से 29 वर्ष की महिलाओं के लिए अकेले एचपीवी परीक्षण पर विचार किया जा सकता है, हालांकि पैप परीक्षण को प्राथमिकता दी जाती है।


5.मैमोग्राम

– 40 साल की उम्र से ब्रेस्ट कैंसर के शुरुआती लक्षणों का पता लगाने के लिए सालाना स्क्रीनिंग कराने की सलाह दी जाती है।


6.बीएमआई इंडेक्स-

18 साल की उम्र से, अपने बॉडी मास इंडेक्स पर नज़र रखना आवश्यक है क्योंकि मोटापा हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकता है और आपके अन्य अंगों को प्रभावित कर सकता है क्योंकि यह उच्च रक्तचाप और रक्त शर्करा का एक प्रमुख कारण है।


7.आंखों की जांच-

18 साल की उम्र से नियमित जांच कराने की सलाह दी जाती है।


8.कोलेस्ट्रॉल टेस्ट-

हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या से दिल की समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखने के लिए नियमित जांच करानी चाहिए।


9.यौन संचारित रोग (एसटीडी
)-

एसटीडी के नुकसानों में से एक यह है कि यह प्रारंभिक अवस्था में कोई उचित लक्षण नहीं दिखाता है। यदि कोई व्यक्ति इससे पीड़ित है, तो एसटीडी आपके बच्चे और आपके जीवन साथी में जा सकता है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि यदि कोई महिला यौन रूप से सक्रिय है तो नियमित रूप से जांच करवाएं।


10.कोलोनोस्कोपी-

इस टेस्ट की मदद से कोलन कैंसर के लक्षणों का शुरुआती चरण में पता लगाया जा सकता है और समय पर हस्तक्षेप कर उचित इलाज किया जा सकता है।


11.श्रवण परीक्षण-

सुनने की समस्याएं बढ़ रही हैं और जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करती हैं। इतना ही नहीं यह व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को भी खराब कर सकता है। हर 10 साल में महिलाओं को 50 साल की उम्र के बाद कान के स्क्रीनिंग कराने की सलाह दी जाती है।


12.अपनी त्वचा की जांच करवाएं-

18 साल की उम्र में, मासिक आधार पर असामान्य तिल या रंग परिवर्तन के लिए अपनी त्वचा की जांच करवाएं, खासकर यदि आप गोरी-चमड़ी वाले हैं या अक्सर धूप में रहते हैं। 40 साल की उम्र में, आपको अपने त्वचा विशेषज्ञ से सालाना पूरे शरीर की त्वचा की जांच करवानी चाहिए।

यह मेडिकल टूरिज्म नहीं, सेवा है’: कैसे गुजरात का छोटा शहर नडियाद बन गया भारत की किडनी की राजधानी

Your email address will not be published. Required fields are marked *