Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

उतार-चढ़ावों के बीच कप्तान विराट कोहली ने लिया बड़ा फैसला

| Updated: January 17, 2022 7:22 pm

भारत के 2014-15 वाले ऑस्ट्रेलिया दौरे की टेस्ट सीरीज शुरू होने से एक महीने पहले बीसीसीआई का बयान आया था: भारतीय कप्तान एमएस धोनी को “चोट से पूरी तरह उबरने के उपाय के रूप में पहले टेस्ट के लिए आराम दिया जाएगा।”

उस साल की शुरुआत में विराट कोहली का इंग्लैंड का दौरा बेहद विफल रहा था। हालांकि वह सभी प्रारूपों में भारत के अग्रणी बल्लेबाज थे और वैसे भी उप-कप्तान थे, इसलिए जब उन्होंने उस एक टेस्ट मैच के लिए कप्तानी संभाली तो कोई आश्चर्य नहीं हुआ।

टॉस के समय ही ‘कोहली फैक्टर’ साफ हो गया। तीन तेज गेंदबाजों के साथ भारत ने ऑफ स्पिनर आर अश्विन के बजाय लेग स्पिनर कर्ण शर्मा को खेलाया। उन्होंने शायद ऑस्ट्रेलिया में कूकाबुरा गेंद से उंगली के स्पिनरों के संघर्ष का तर्क दिया। स्पिन गेंदबाजी के दिग्गज के रूप में अश्विन का भविष्य था, लेकिन उस समय भी कुछ लोगों को कर्ण के आगे उनके शामिल होने पर संदेह जताया था।

अगले चार दिनों में कोहली को आलोचकों ने हल्ला बोल दिया, क्योंकि कर्ण ने टेस्ट मैच में 4-238 की महंगी वापसी की। ऑस्ट्रेलिया के ऑफ स्पिनर नाथन लियोन ने 12 विकेट लिए। इस तरह कोहली का दांव फेल हो गया था।

फिर भी कोहली टेस्ट मैच में शानदार तरीके से उभरे। केवल इसलिए नहीं कि उन्होंने 115 और 141 रन बनाए।

ऑस्ट्रेलिया के अपने पिछले दौरे पर भारत 0-4 से सीरीज हार कर लौटा था। यहां जीतने के लिए एक दिन में 364 रनों का बड़ा लक्ष्य मिला। लेकिन शुरुआत लड़खड़ा गई। एक समय स्कोर 57/2 था। लेकिन जैसे ही एम विजय ने एक छोर संभाला, कोहली ने शानदार शॉट्स की प्रदर्शनी लगा दी। विजय आउट हो गए, फिर रोहित शर्मा भी चलते बने। रिद्धिमान साहा से सावधानी से खेलने को कहा गया और वह स्टम्प्ड हो गए। योजना विफल हो रही थी, लेकिन मैच को आसानी से जाने नहीं दिया जा रहा था।

कोहली की शानदार पारी का अंत होने तक भारत को 60 रनों की जरूरत थी। उनके हाथ में तीन विकेट थे। इशांत शर्मा, कुछ गेंदें खेल लेने वाले तेज गेंदबाजों में से सबसे अधिक कुशल थे और संभावित नंबर 9 पर थे। इनके पहले उत्साही मोहम्मद शमी थे, बाहर जल्द ही पैवेलियन चले गए।

भारत 315 रन पर आउट हो गया। अगर इससे पहले का दौर रहा होता तो भारत का स्कोर 264/4 हो सकता था, यानी एक सम्मानजनक ड्रॉ। लेकिन वह कोहली नहीं होते। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा भी था, “मैं किसी भी स्तर पर ड्रॉ के बारे में नहीं सोच रहा था।”

इस बीच, एडिलेड मैच में महीने से भी कम समय था। तभी धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी। उनका उत्तराधिकार तैयार था। इसके साथ ही भारतीय क्रिकेट में सात साल के ‘विराट कोहली युग’ की शुरुआत हुई।

अंतिम 11 में पांच गेंदबाज

कप्तान के रूप में कोहली ने अपने से पहले किसी भी भारतीय कप्तान की तुलना में टेस्ट क्रिकेट के एक मौलिक सिद्धांत को बेहतर ढंग से लागू किया। बल्लेबाजी कितनी भी मजबूत हो, कोई भी 20 विकेट लिए बिना टेस्ट मैच नहीं जीत सकता और उसके लिए आपको गेंदबाजों की जरूरत होती है। और उपमहाद्वीप के बाहर आपको तेज गेंदबाजों की जरूरत है।

भारत ने 2015 में श्रीलंका का दौरा किया था। कोहली ने पहले टेस्ट मैच में पांच गेंदबाजों को मैदान में उतारा था। साहा ने छठे, अश्विन ने सातवें, हरभजन सिंह ने आठवें नंबर पर बल्लेबाजी की। वह सिर्फ गेंदबाजी को मजबूत करने के लिए एक बल्लेबाज को छोड़ने को तैयार थे।

यह उतना आसान नहीं है जितना लगता है। रवि शास्त्री, कपिल देव और मनोज प्रभाकर ने भारत को एक समय में पांच गेंदबाजों को खेलाया था। तब से भारतीय एकादश में हमेशा छह बल्लेबाज, एक विकेटकीपर और चार गेंदबाज होते थे।

कोहली पारंपरिक छह-बल्लेबाज सिद्धांत पर सवाल उठाते हुए, भारतीय एकादश के स्वरूप को बदलने के लिए तैयार थे।

भारत पहला टेस्ट मैच हार गया। कोहली ने समझौता किया और उन्होंने स्टुअर्ट बिन्नी को शामिल किया। 2016/17 के घरेलू सत्र में अश्विन, रवींद्र जडेजा और जयंत यादव ने उनके बीच उस अतिरिक्त बल्लेबाज की कमी की भरपाई की।

इसके बाद हार्दिक पांड्या का आगमन

वर्ष 2018 में भारत चार गेंदबाजों के साथ पांड्या को खेला रहा था। तीसरे टेस्ट मैच में भारत ने पांच पेसर उतारे। ऐसा 1970 और 1990 के दशक के बीच सर्व-विजेता वेस्ट इंडीज की टीम ही करती थी।

जिस चीज ने इसे और भी उल्लेखनीय बना दिया, वह थी भारत में तेज गेंदबाजों के नहीं होने वाली बात। यहां विश्व स्तर के बल्लेबाज और स्पिनर हुए हैं, लेकिन 1930 के दशक से ही तेज गेंदबाजों का अकाल रहा।

भारत दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज हार गया, लेकिन 2018 के अंत तक ईशांत, शमी और- उनके नवीनतम सनसनी जसप्रीत बुमराह- ने भारत को ऑस्ट्रेलिया में अपनी पहली टेस्ट सीरीज जीतने में मदद की।

2018 में इशांत, शमी और बुमराह ने 130 विकेट साझा किए, जिसने एक कैलेंडर वर्ष में तेज गेंदबाजी तिकड़ी द्वारा सर्वाधिक विकेट लेने के विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की। भारत ने विदेशों में 11 टेस्ट मैचों में नौ बार सभी 20 विकेट और एक बार 18 विकेट लिए।

ऑस्ट्रेलिया में तेज गेंदबाजों में विश्वास का इनाम

2018-19 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अश्विन के साइड स्ट्रेन के कारण पर्थ टेस्ट मैच से चूकने के बाद कोहली ने फिर से जुआ खेला। भारत ने उमेश यादव की गति को देखते हुए जडेजा और भुवनेश्वर कुमार को बाहर किया। उनके पास अब चार वास्तविक तेज गेंदबाज थे, और बल्लेबाजी का निचला क्रम नंबर 8 से शुरू हुआ। लेकिन पंड्या के चोटिल होने के बाद वे चार गेंदबाजों तक ही फिर सिमट गए। हनुमा विहारी ने कभी-कभार ही स्पिन गेंदबाजी की थी।

यह उतना ही आक्रामक कदम था, जितना कोई सोच सकता है। एडिलेड में 2014/15 की तरह ही भारत के हारने के साथ ही उलटा असर हुआ। उमेश को 139 रन देने के बाद 2 विकेट मिले। प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोहली ने उमेश के चयन को सही ठहराते हुए कहा कि ‘रफ’ से जडेजा को सहायता नहीं मिलती और भुवनेश्वर में मैच अभ्यास की कमी थी।

भारत ने अंततः ऐतिहासिक श्रृंखला जीती, और कोहली ने मुख्य शिल्पी बनने की चुनौती को स्वीकार करने के लिए हर संभव प्रयास किया।

कोहली और उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा ने अपने तेज गेंदबाजों के लिए बिजनेस क्लास के टिकट छोड़े। कोहली की इशांत, शमी और बुमराह के रूप में नायक जैसे मैदान से बाहर जाने की तस्वीर दौरे के सबसे लोकप्रिय तस्वीरों में से एक थी।

अश्विन या जडेजा के लिए हमेशा जगह बनाई गई

गति का दबदबा उनकी मुख्य ताकत स्पिन की कीमत पर नहीं आया था। घरेलू मैदान में भारत ने हमेशा अश्विन और जडेजा दोनों के साथ खेला, अक्सर एक तीसरे स्पिनर के साथ, अपने तेज गेंदबाजों को घुमाते हुए जीत हासिल की। कोहली की दूरदृष्टि ने सुनिश्चित किया था कि भारत के पास घर और विदेश के लिए लगभग पूरी तरह से अलग दो तरह के गेंदबाजी आक्रमण हों।

दो साल बाद एडिलेड ओवल में भारत को 36 रन पर ढेर कर दिया गया। कोहली उस टेस्ट मैच के बाद भारत लौट आए- हम उस पर लौटेंगे- लेकिन उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे और कोचिंग स्टाफ के साथ बैठक से पहले नहीं। कई बदलावों में, शायद सबसे महत्वपूर्ण जडेजा द्वारा कोहली की जगह लेना था।

बल्लेबाजी में पराजय के बाद बहुत से भारतीय पक्षों ने अपने स्टार बल्लेबाज को गेंदबाज के साथ नहीं बदला होगा। इस बार इसने ऐसा ही किया। जडेजा ने 41 रनों पर 3 विकेट लिए और अर्धशतक बनाया। भारत ने मेलबर्न टेस्ट जीता, जैसा कि उन्होंने ब्रिस्बेन में किया था, एक बार फिर पांच गेंदबाजों के साथ।

उस वर्ष बाद में इंग्लैंड में भारत को एक और पहेली का सामना करना पड़ा। उन्हें चार तेज गेंदबाज चाहिए थे- अब तक विदेशी जीत का उनका मंत्र- लेकिन उनका मध्यक्रम संघर्ष कर रहा था। इसलिए उन्होंने लगातार चार टेस्ट मैचों में अश्विन जैसे दुनिया के शीर्ष क्रम के स्पिनर को बैठाये रखा।

जडेजा बेहतर बल्लेबाज थे, और वह दाएं हाथ के बल्लेबाज के रफ में गेंदबाजी कर सकते थे। यह एक रणनीतिक पिक थी, जिसने कई लोगों को नाराज कर दिया, लेकिन कोहली अपने फैसले पर अड़े रहे। सीरीज 2-1 से भारत के पक्ष में है।

कुछ महीने बाद दक्षिण अफ्रीका में वही योजना उलट गई- लेकिन इस बार कोहली को चोटिल जडेजा के बजाय अश्विन को चुनने के लिए मजबूर होना पड़ा।

‘मैं चाहता हूं कि यह सबसे फिट टीम हो’

2015 में एलन डोनाल्ड के साथ बातचीत में कोहली ने भारत को ‘सबसे मजबूत टीम’ बनाने के अपने सपनों को साझा किया था। उन्होंने डोनाल्ड को बताया था कि भारत एक मजबूत गेंदबाजी आक्रमण प्रक्रिया का हिस्सा बनने जा रहा है। दूसरी फिटनेस थी।

खेल विज्ञान में सुधार से उनका काम आसान हो गया था। भारतीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों को अब यो-यो टेस्ट में 17:1 स्कोर करना होगा या आठ मिनट 15 सेकेंड में दो किलोमीटर दौड़ना होगा (तेज गेंदबाजों को थोड़ी रियायत मिलती है)।

यह इस अवधारणा के बिल्कुल विपरीत था कि क्रिकेट मुख्य रूप से एक कौशल-आधारित खेल होने के नाते, सर्वोच्च फिटनेस स्तरों की उतनी मांग नहीं करता जितना कि कुछ अन्य खेलों में। गेंद को स्विंग या स्पिन करने या स्ट्रोक खेलने की क्षमता फिटनेस पर निर्भर नहीं है।

कोहली ने उस मानदंड को बदल दिया। उन्होंने इसके लिए एक प्रतिभाशाली क्रिकेटर को छोड़ने का जोखिम उठाया। उनकी आलोचना की गई है, यहां तक कि उनका उपहास भी किया गया है, लेकिन आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के पिछले पांच मैच उनकी योजना की सफलता की गवाही देते हैं।

कुंबले का इस्तीफा

लेकिन एक तरफ जब भारत मैदान पर नई ऊंचाई हासिल कर रहा था, वहीं ड्रेसिंग रूम के भीतर तनाव बढ़ रहा था। विराट के साथ कोच अनिल कुंबले को बदलने से यह सब सार्वजनिक रूप से सामने आ गया।

कुंबले ने 2017 में भारतीय पुरुष टीम के मुख्य कोच के रूप में इस्तीफा दे दिया। सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण वाली क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) कोच और कप्तान के बीच समझौता कराने में विफल रही।

सीएसी ने तब राहुल द्रविड़ और ज़हीर खान को भारतीय टीम के लिए सहायक स्टाफ के रूप में नियुक्त किया, लेकिन कोहली की पसंद के कोच रवि शास्त्री उनके साथ काम करने के इच्छुक नहीं थे।

कुंबले ने ड्रेसिंग रूम से बाहर निकलने के अपने फैसले पर टिप्पणी करते हुए कहा, “यह स्पष्ट था कि साझेदारी अस्थिर थी।” एक पेशेवर असहमति को स्वीकार करना इस मामले पर एकमात्र टिप्पणी थी जो दूर से विवादास्पद के रूप में दिख सकती है। वैसे दोनों ने गरिमा के साथ घटना को संभाला। कप्तान और कोच में सोच को लेकर पहला मतभेद नहीं था, लेकिन कोहली जानबूझकर या अन्यथा, भारतीय क्रिकेट के बहुप्रतीक्षित ‘2000 के बैच’ के छह क्रिकेटरों को लेने में कामयाब रहे।

परिवार को प्राथमिकता

2020/21 के ऑस्ट्रेलिया दौरे से काफी पहले कोहली ने घोषणा की थी कि वह पहले टेस्ट मैच के बाद अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए परिवार के साथ रहेंगे। इसलिए वह अपनी टीम का साथ छोड़ देंगे। त्योरियां चढ़ीं। इसलिए भी कि उनके पूर्ववर्ती धोनी ने पिता बनने पर इसके ठीक विपरीत किया था।

व्यक्तिगत पसंद की अवधारणा कुछ प्रशंसकों के लिए मायावी बनी हुई है।

एडिलेड में भारत 36 रन पर आउट हो गया, जो टेस्ट क्रिकेट में उसका सबसे कम स्कोर था। भारतीय क्रिकेट मीडिया और प्रशंसकों के कुछ वर्गों को उम्मीद थी कि कोहली अपना विचार बदल देंगे। उन्होंने कोहली की तुलना सीमा पर अपनी सेना को छोड़ने वाले जनरल से की।

दरअसल कोहली सिर्फ एक पेशेवर थे, जो पितृत्व अवकाश ले रहे थे।

पीछे रहना आसान होता है। यह भारत में पितृसत्ता के साथ अच्छी तरह से बैठ गया है, एक ऐसा देश जहां हमेशा महिला से ही बच्चे के लिए अधिक बलिदान करने की उम्मीद की जाती है। इसके बजाय उन्होंने सभी व्यवसायों में भारतीय पिताओं के लिए एक उदाहरण स्थापित करते हुए घर लौटने का विकल्प चुना।

शमी का बचाव

2021 टी-20 विश्व कप के अपने पहले मैच में ही भारत टूर्नामेंट के इतिहास में पहली बार पाकिस्तान से हार गया। क्रिकेटरों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा। ऐसा पहली बार नहीं हुआ, जब भारतीय खिलाड़ियों के पुलते जलाए जाने लगे। सोशल मीडिया पर ऐसे ट्रोल्स किए जाने लगे, जैसे वहां भी पुतले जलाने वाली नई पीढ़ी आ गई हो।

जब लगभग सभी को गाली दी जा रही थी, तब अकेले शमी को खास कर निशाना बनाया गया। उन पर फेंके गए अपमानजनक शब्दों का उनके ऑन-फील्ड प्रदर्शन के अलावा उनके धर्म से कोई लेना-देना नहीं था। इस मुद्दे को उठाया गया, लेकिन भारतीय टीम ने उनके समर्थन में बयान देकर संभाल लिया।

न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत के अगले मैच से पहले कोहली को मौका मिला। बीसीसीआई के मीडिया मैनेजर के केवल क्रिकेट आधारित सवालों पर जोर देने के बाद भी कोहली ने जोर दिया। बिना किसी रोक-टोक के, स्पष्ट रूप से अच्छी तरह से तैयार भाषण में उन्होंने कुछ भी वापस नहीं लिया। उन्होंने कहा, “किसी के धर्म पर हमला करना सबसे निंदनीय बात है, जो कोई इंसान कर सकता है। उन्हें इस बात की कोई समझ नहीं है कि हम मैदान पर कितना प्रयास करते हैं। उन्हें इस तथ्य की कोई समझ नहीं है कि शमी जैसे खिलाड़ियों ने पिछले कुछ सालों में भारत के लिए मैच जीते हैं।”

विराट कोहली

सीके नायडू 1947 में दंगाइयों के खिलाफ खड़े हुए थे। सुनील गावस्कर भी 1992 में ऐसा किया। कोहली को नजरअंदाज करना उतना सरल नहीं था, लेकिन वह बहुत कुछ दांव पर लगा रहे थे।

दो टूक कप्तानी

टी-20 विश्व कप से पहले ही कोहली ने घोषणा कर थी कि इस प्रारूप में कप्तान के रूप में उनके लिए यह आखिरी टूर्नामेंट होगा। इसके साथ ही उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कप्तान के रूप में भी इस्तीफा दे दिया। जल्द ही चयनकर्ताओं ने उन्हें एकदिवसीय कप्तान के रूप में हटा दिया।

गांगुली, जो अब तक बीसीसीआई अध्यक्ष थे, ने बाद में एक साक्षात्कार में बताया कि चयनकर्ताओं ने कोहली से उनके इस्तीफे पर पुनर्विचार करने के लिए कहा था। हालांकि दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना होने से पहले कोहली ने गांगुली के बयान का खंडन किया। ईएसपीएन क्रिकइन्फो के सिद्धार्थ मोंगा ने इसे “विराट कोहली का अब तक का सबसे बड़ा जुआ” कहा।

मुद्दा यह है कि किसने सच बोला, लेकिन कोहली के नेतृत्व क्षमता को नजरअंदाज करना असंभव है।

Your email address will not be published. Required fields are marked *