गुजरात चुनाव में भाजपा के निलंबित 19 बागियों में पूर्व विधायक से लेकर बड़ौदा डेयरी के प्रमुख तक

| Updated: November 25, 2022 12:46 pm

गुजरात में सत्तारूढ़ भाजपा ने उन्हें निलंबित कर दिया है, जो पार्टी के खिलाफ जाकर चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें से अधिकांश निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। वैसे भाजपा के बागी नेताओं में से तीन कांग्रेस के उम्मीदवार हैं और एक को आप का टिकट मिला है।

गुजरात भाजपा ने पार्टी के अपने उम्मीदवारों के खिलाफ नामांकन दाखिल करने के लिए अब तक 19 बागी नेताओं को निलंबित किया है।

कांग्रेस के टिकट हासिल करने वाले तीन बागियों- खाटूभाई पगी (शेहरा सीट), छत्रसिंह गुंजरिया (ध्रांगधरा) और कुलदीपसिंह राउलजी (सावली) में से राउलजी को पार्टी ने अक्टूबर में ही किनारे लगा दिया था। फिर भी, भाजपा से बाहर निकलना उसकी संभावनाओं को नुकसान पहुंचा सकता है।

बड़ौदा डेयरी के निदेशक और दुग्ध संघ के नेता के रूप में शुरुआत करने वाले राउलजी सावली में लोकप्रिय हैं। वह पहली बार 2009 में एक निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में जीते थे। वह 2012 में भाजपा में शामिल हुए, और 2017 में उसके टिकट पर जीते।

भाजपा के जो बागी नेता आप में शामिल हुए हैं, वे केतन पटेल भी हैं। वह वलसाड जिले के पारदी निर्वाचन क्षेत्र के आदिवासी नेता हैं।

वड़ोदरा जिले की पडरा विधानसभा सीट से दो बार भाजपा विधायक रह चुके दिनेश पटेल उर्फ दीनू मामा ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर नामांकन दाखिल किया है। पादरा लंबे समय से भाजपा का गढ़ रहा है, जहां से 1985 से 2017 तक उसकी एक बार भी हार नहीं हुई। हालांकि पिछली बार यह सीट कांग्रेस के जसपाल सिंह ठाकोर ने 20,000 वोटों से जीत ली थी।

दिनेश पटेल बड़ौदा डेयरी के बोर्ड में भी हैं और इसके अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हैं। उन्होंने पहली बार 2007 में एक निर्दलीय के रूप में जीत हासिल की और 2012 में भाजपा में शामिल हो गए। भगवा पार्टी से पटेल के बाहर निकलने से पाडरा निर्वाचन क्षेत्र में मतदान प्रभावित हो सकता है, जहां उन्हें अभी भी भारी समर्थन हासिल है।

नेता, अभिनेता और निर्माता मधु श्रीवास्तव अपनी तेजतर्रार छवि के लिए जाने जाते हैं। बागी बनने वालों में वह भी हैं। 1995 से मौजूदा वाघोडिया विधायक श्रीवास्तव 1982 में वड़ोदरा के निकाय चुनाव जीतकर राजनीति में आए थे। 1985 में उन्होंने अपने चचेरे भाई चंद्रकांत श्रीवास्तव, जो वर्तमान में वड़ोदरा में कांग्रेस नगरसेवक हैं, के साथ लोकशाही मोर्चा नामक एक राजनीतिक संगठन बनाया था। वह 1996 में भाजपा में शामिल हुए थे।

विधायक के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, श्रीवास्तव मीडियाकर्मियों के साथ हाथापाई सहित कई विवादों में घिरते रहे। श्रीवास्तव ने पहले भी कई बार पार्टी से अलग होने की धमकी दी थी, लेकिन बीजेपी काफी हद तक उन्हें मनाने में सफल रही थी। मार्च 2019 में ऐसे ही एक मामले के बाद उन्हें गुजरात एग्रो इंडस्ट्रीज कॉरपोरेशन लिमिटेड (GIACL) के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया।

भाजपा के हर्षद वसावा दो बार विधायक रह चुके हैं और पार्टी के आदिवासी सेल के अध्यक्ष हैं। उन्होंने नर्मदा जिले के नंदोद से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन पत्र दाखिल किया है।

महिसागर जिले के लूनावाड़ा में भाजपा ने एसएम खांट और जेपी पटेल को निलंबित कर दिया है। दोनों ने भाजपा विधायक जिग्नेश सेवक के खिलाफ निर्दलीय के रूप में नामांकन दाखिल कर रखा है। पार्टी ने क्रमश: उमरेठ और खंभात निर्वाचन क्षेत्रों से पार्टी उम्मीदवारों के खिलाफ नामांकन दाखिल करने के लिए आनंद में रमेश जाला और अमरसिंह जाला को निलंबित कर दिया।

उत्तरी गुजरात के मेहसाणा, पाटन, बनासकांठा, अरावली, साबरकांठा और गांधीनगर जिले में भाजपा ने धवलसिंह जाला, रामसिंह ठाकोर, मावजी देसाई और लेबाजी ठाकोर सहित पार्टी के कई नेताओं को क्रमशः बेअद (अरावली), खेरालू से (मेहसाणा), धानेरा (बनसकांठा) और दीसा (बनसकांठा) से निर्दलीय के रूप में नामांकन दाखिल करने पर निलंबित कर दिया।

टिकट नहीं दिए जाने से पार्टी से खफा बयाड निर्वाचन क्षेत्र के धवलसिंह जाला ने भी निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल किया है। ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर के करीबी जाला 2017 में बयाड से कांग्रेस के टिकट पर चुने गए थे। उन्होंने ठाकोर के साथ भाजपा में शामिल होने के लिए 2019 में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, बाद में हुए उपचुनाव में वह हार गए।

सौराष्ट्र क्षेत्र के केशोद, राजकोट ग्रामीण, वेरावल और राजुला निर्वाचन क्षेत्रों में भाजपा नेताओं अरविंद लदानी, भरत चावड़ा, उदय शाह और करण बरैया को पार्टी से निलंबित कर दिया गया है।

Also Read: न्यायिक समीक्षा से ऊपर कोई कानून नहीं: पूजा स्थल कानून पर बोले केंद्रीय गृह मंत्री शाह

Your email address will not be published. Required fields are marked *