गुजरात -आंदोलन में एक पूर्व सैनिक की मौत, पुलिस से भिड़ंत ,सैनिकों ने जताया आक्रोश

| Updated: September 13, 2022 9:01 pm

  • पूर्व सैनिक आंदोलन के मृतक कांजी मोथलिया आईपीएस अधिकारी और सीमा रेंज के आईजी जेआर मोथलिया के चचेरे भाई हैं।

पिछले एक फखवाडे विभिन्न मांगों को लेकर आन्दोलनरत पूर्व सैनिक( Ex Soldier )की मौत हो गयी। गांधीनगर सचिवालय (Gandhinagar Secretariat) की ओर आज सुबह मार्च कर रहे पूर्व सैनिकों को पुलिस( Police) ने गांधीनगर पहुंचने से पहले ही चिलोड़ा के पास हिरासत में ले लिया. इस घटना के दौरान एक पूर्व सैनिक कांजी मोथलिया की दुखद मौत हो गयी( Ex-serviceman Kanji Mothlia passed away tragically )है।

गुजरात प्रदेश कांग्रेस प्रमुख जगदीश ठाकोर( Gujarat Congress chief Jagdish Thakor )ने सिविल अस्पताल (Civil Hospital )जाकर मृतक के परिजनों से मुलाकात कर गुजरात सरकार के रुख की निंदा की। आप नेता इसूदान( AAP Leader Isudan )भी भाजपा सरकार के राज में जवान और किसान दोनों के दुखी होने का आरोप लगाया।

गुजरात में चल रहे विभिन्न आंदोलनों के बीच राज्य में पूर्व सैनिक गांधी मार्ग से सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं और सरकार द्वारा सर्कुलर की घोषणा नहीं होने के बाद आज पूर्व सैनिकों ने फिर से गांधीनगर की ओर कूच किया. इससे पहले पूर्व सैनिकों ने गांधीनगर सचिवालय के सामने धरना दिया जिसमें उन्होंने सरकार के सामने अपनी 14 सूत्री मांगें रखीं. इस धरने के दौरान गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी (Minister of State for Home Harsh Sanghvi )के साथ बैठक के बाद कुछ मांगों के समाधान के बाद आंदोलन स्थगित कर दिया गया.

उसके बाद पूर्व सैनिक संगठन और उसके सदस्यों द्वारा गृह राज्य मंत्री से मिलने का प्रयास किया गया, लेकिन सरकार की ओर से कोई कार्रवाई नहीं होने पर आज पूर्व सैनिक संगठन ने फिर मार्च किया. गांधीनगर सचिवालय का मुख्य प्रवेश द्वार पूरी तरह से किले में बंद था और पूर्व सैनिकों के संगठन की उपस्थिति को देखते हुए आज पुलिस बल तैनात किया गया था।

कांजी मोथलिया नाम के एक पूर्व सैनिक की आज सुबह पुलिस और पूर्व सैनिकों के बीच मुठभेड़ में हालत बिगड़ने के बाद 108 एम्बुलेंस सेवा में अस्पताल ले जाया गया , दिल का दौरा पड़ने से उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। पूर्व सैनिक की मृत्यु के संबंध में कोई अन्य विशिष्ट जानकारी प्राप्त नहीं हुई थी।

गांधीनगर आंदोलन को रोकने के लिए गांधीनगर पुलिस ने पूर्व सैनिकों की रसोई और उनका सामान जब्त कर लिया. बाद में, विरोध स्थल पर पुलिस और पूर्व सैनिकों के बीच झड़प में 3 पूर्व सैनिक घायल हो गए और उन्हें 108 तक सैन्य अस्पताल ले जाया गया। पुलिस ने पीने के पानी की गाड़ी को भी जब्त कर लिया है.


पूर्व सैनिक आंदोलन के मृतक कांजी मोथलिया आईपीएस अधिकारी और सीमा रेंज के आईजी जेआर मोथलिया( IPS officer and Border Range IG JR Mothlia )के चचेरे भाई हैं।

अग्नि सुरक्षा की घोर उपेक्षा – गुजरात में अनुपम रसायन फैक्ट्री में आग लगने से चार मजदूरों की मौत

Your email address will not be published.