गुजरात सरकार ने औद्योगिक क्षेत्र में श्रमिकों के लिए ” श्रम निकेतन आवास ” योजना बनाई

| Updated: June 17, 2022 1:54 pm

  • साणंद जीआईडीसी इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने किया एमओयू

साणंद जीआईडीसी इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने औद्योगिक क्षेत्रों में कार्यरत हजारों श्रमिकों को आवास प्रदान करने के लिए श्रम निकेतन आवास योजना के लिए कल्याण आयुक्त, श्रम कल्याण बोर्ड के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। राज्य में काम कर रहे मजदूरों के कल्याण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के मार्गदर्शन में समझौता किया गया था।

डायनिंग हाल के साथ एक हजार श्रमिकों को रहने की मिलेगी सुविधा

इस समझौते के माध्यम से, सरकार की योजना एक श्रम निकेतन आवास बनाने की है, जो राज्य में मजदूरों को अत्यधिक उन्नत सुविधाएं प्रदान करेगा। छात्रावास 215 वर्ग मीटर के क्षेत्र में बनाया जाएगा और इसमें छह मंजिल होने की उम्मीद है। यह श्रमिकों और उनके आश्रितों को सिंगल, डबल और मल्टीपल ऑक्यूपेंसी रूम प्रदान करेगा। श्रम निकेतन आवास किसी भी समय कम से कम 1000 कर्मचारी रहेंगे। छात्रावास में एक श्रमिक कल्याण केंद्र, एक बहुउद्देशीय हॉल के साथ-साथ एक डाइनिंग हॉल जैसी सुविधाएं भी होंगी।

छात्रावास साणंद जीआईडीसी औद्योगिक संघ के सहयोग से एक सार्वजनिक-निजी भागीदारी परियोजना होगी। इस परियोजना का बजट, जिसके दो साल के भीतर पूरा होने की संभावना है, लगभग 10 करोड़ रुपये निर्धारित है।

औधोगिक क्षेत्रो में कार्यरत श्रमिक ज्यादातर दूसरे राज्यों के हैं

यह परियोजना बहुत फायदेमंद होगी क्योंकि आंकड़ों से पता चलता है कि औद्योगिक सम्पदा में 15000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं। यह देखते हुए कि इनमें से कई श्रमिक राज्य और देश के विभिन्न हिस्सों से आते हैं, उनके रहने की व्यवस्था का ध्यान रखा जाएगा।

गुजरात सरकार की ओर से साणंद इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के अध्यक्ष अजीत शाह और कल्याण आयुक्त दिगंत ब्रह्मभट्ट ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव पंकज जोशी, श्रम कौशल विकास एवं रोजगार विभाग की प्रमुख सचिव डॉ. अंजू शर्मा और श्रम आयुक्त अनुपम आनंद उपस्थित थे

एनसीईआरटी ने 12 वी के सलेबस से हटाया गुजरात दंगो संबंधित पाठ

Your email address will not be published.