मैं राम को नहीं मानता, राम कोई भगवान नहीं – जीतन राम मांझी

| Updated: April 15, 2022 6:20 pm

  • अनुसूचित जाति के लोगों को पूजा पाठ करना बंद कर देना चाहिये
  • ब्राह्मण मांस और शराब पीते हैं, झूठ बोलते हैं. ऐसे ब्राह्मणों से दूर रहना चाहिए

गुजरात भाजपा प्रदेश प्रमुख सी आर पाटिल के कृष्णा की पत्नी के तौर पर सुभद्रा को बताने के बाद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और बिहार में एनडीए के अहम् सहयोगी जीतन राम मांझी ने राम के होने पर ही सवाल खड़ा कर दिया , यह बात अलग है की उनके नाम पर ही नाम जुड़ा है .

जमुई जिले के सिकंदरा में भीमराव अंबेडकर जयंती में शामिल होने आए बिहार सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने लोगों को संबोधित करते हुए भगवान राम पर ही सवाल उठा दिए. उन्होंने कहा कि राम कोई भगवान नहीं हैं. उन्होंने कहा कि वह रामायण लिखने वाले वाल्मीकि और तुलसीदास को मानते हैं, पर राम को नहीं जानते. वे यहीं नहीं रुके.

उन्होंने आगे कहा कि राम भगवान थोड़े ही थे, वे तो तुलसीदास और बाल्मीकि रामायण के पात्र थे. उन्होंने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि पूजा पाठ करने से कोई बड़ा नहीं होता. उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति के लोगों को पूजा पाठ करना बंद कर देना चाहिये।

ब्राह्मणों पर निशाना साधते हुए मांझी ने कहा कि जो ब्राह्मण मांस और शराब पीते हैं, झूठ बोलते हैं. ऐसे ब्राह्मणों से दूर रहना चाहिए. उनसे पूजा पाठ नहीं कराना चाहिए. आप लोग पूजा पाठ करना बंद कर दीजिए. उन्होंने कहा कि सबरी के झूठे बेर को राम ने खाया था. अंबेडकर जयंती को लेकर सिकंदरा के हम हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के विधायक प्रफुल्ल मांझी ने इस कार्यक्रम का आयोजन किया था.

गुजरात समेत 9 राज्यों में बिजली का संकट ,महज 9 दिनों का बचा कोयला

Your email address will not be published.