भारत में पेगासस का प्रवेश

| Updated: July 18, 2021 9:12 pm

भारत को पहली बार पेगासस के बारे में तब पता चला जब व्हाट्सएप ने अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में कैलिफोर्निया की एक अदालत में आरोप लगाया कि इजरायली समूह ने पेगासस के साथ लगभग 1400 से अधिक उपयोगकर्ताओं को टार्गेट किया था। यह घटना मई 2019 में हुई थी।

इससे पहले यूएई में एक मानवाधिकार कार्यकर्ता को उसके iPhone6 पर एक एसएमएस लिंक से निशाना बनाया गया था। उस समय Pegasus टूल ने Apple के IoS में सॉफ्टवेयर की क्षति का फायदा उठाया था। एक क्लिक और आप पेगासस के अगले शिकार बन सकते हैं।

व्हाट्सएप ने भारत में निगरानी के लिए निशाने पर बने लोगों की पहचान और “सटीक संख्या” का खुलासा करने से इनकार कर दिया, उसने पुष्टि की कि व्हाट्सएप ने निशाने पर बने लोगों में से प्रत्येक से संपर्क किया था और उन्हें सूचित किया था। इंडियन एक्सप्रेस इस पर रिपोर्ट करने वाला भारत का पहला समाचार पत्र था।

कनाडा में टोरंटो विश्वविद्यालय में स्थित सिटीजन लैब ने साइबर हमले की जांच में व्हाट्सएप की मदद की।

पेगासस इजरायल स्थित एनएसओ ग्रुप का प्रमुख स्पाइवेयर है। ऐसा माना जाता है कि इसे क्यू सूट और ट्राइडेंट जैसे अन्य नामों से भी जाना जाता है। पेगासस में कथित तौर पर एंड्रॉइड और आईओएस दोनों उपकरणों में घुसपैठ करने की क्षमता है और यह निशाने पर आए लोगों के मोबाइल उपकरणों में हैक करने के लिए कई तरीकों का उपयोग करता है, सिटीजन लैब ने स्पष्ट रूप से कहा है कि पेगासस का इस्तेमाल अतीत में सिम्बियन फोन पर भी किया जा सकता था। उनके पहले के संस्करण उतने अपडेट नहीं होते जितने अब हैं, लेकिन अनुसंधान प्रयोगशाला ने कथित तौर पर कहा है कि यह संभव हो सकता है कि 2016 से पहले भारत में पेगासस द्वारा लोगों को उनके ब्लैकबेरी पर भी निशाना बनाया जा सकता था।

Your email address will not be published. Required fields are marked *