गुजरात की कांताबेंन को 10 साल की लंबी लड़ाई के बाद मिला एक लाख की बीमा राशि

| Updated: January 17, 2022 9:55 am

भारतीय न्याय प्रणाली में न्याय के लिए कितना सब्र की जरुरत है ,इसको कांता बेन से बेहतर कोई नहीं जनता | कांता बेन ने इस लड़ाई को लड़ा भी और जीता भी ,भले ही वक्त ने पहिये ने दीवार में लगे 10 कैलेंडर बदल दिए हो |

पोरबंदर स्थित पूजा शिपिंग कंपनी में कार्यरत नाविक पति के 2012 में समुद्र में लापता होने के बाद कांताबेन लोधारी पर मुसीबत की सुनामी आई।
अन्य बातों के अलावा, बीमा कंपनी ने उसके दावे को खारिज कर दिया, जिससे लगभग एक दशक बाद तक लंबी लड़ाई हुई, जब तक कि न्याय का ज्वार उसके पक्ष में नहीं हो गया।जूनागढ़ उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग ने न्यू इंडिया इंश्योरेंस कंपनी को शिकायत दर्ज करने की तारीख से 6% ब्याज के साथ 1 लाख रुपये और खर्च के लिए 3,000 रुपये का भुगतान करने का आदेश दिया।

बीमा कंपनी द्वारा उनके दावे को खारिज करने के बाद कांताबेन ने आयोग से संपर्क किया।मिली जानकारी के मुताबिक उनके पति, पोरबंदर निवासी रमेश लोधारी और 21 अन्य नाविक 17 मार्च, 2012 को सलाह, ओमान के लिए मुंबई से निकले थे और उनका जहाज 20 मार्च को एक तूफान में फंस गया था। तब जहाज लापता हो गया था। जिस कंपनी के पास ‘द न्यू इंडिया इंश्योरेंस’ का बीमा कवर था, उसने समुद्र में खोए हुए 21 लोगों की ओर से दावा दायर किया लेकिन कंपनी ने दावे को खारिज कर दिया।
बीमा कंपनी ने अपने जवाब में तर्क दिया कि उन्हें कोई सबूत या अदालत का आदेश नहीं मिला था जिसमें कहा गया था कि लोधारी का निधन हो गया था और इसलिए वह दावे का भुगतान करने के लिए जिम्मेदार नहीं थे। इसने आगे तर्क दिया कि यदि कोई व्यक्ति लापता हो जाता है, तो उसे सात साल बाद मृत मान लिया जाता है और लापता व्यक्ति को मृत घोषित करने के लिए अदालत के आदेश की आवश्यकता होती है।आयोग ने कांताबेन के पक्ष में अपना फैसला सुनाते हुए पाया कि जहाज के लापता होने के सात साल बाद (जिस अवधि के बाद एक लापता व्यक्ति को मृत घोषित किया जाता है) शिकायत दर्ज की गई थी और शिकायतकर्ता ने कई आवश्यक दस्तावेज भी प्रदान किए हैं। इसलिए बीमा कंपनी को अदालत ने एक लाख बीमा राशि ,मामला दर्ज होने की तारीख से 6 प्रतिशत ब्याज के साथ चुकाने के आदेश दिया था | साथ ही 3000 रुपये कानूनी खर्च के तौर पर देने का निर्देश दिया |

Your email address will not be published.