नवजोत सिंह सिद्धू की बड़ी मुश्किल , उच्चतम न्यायलय ने सुनाई एक साल की सजा

| Updated: May 19, 2022 2:52 pm

  • 34 साल पुराना है मामला, सरेंडर या गिरफ्तारी पर नजर
  • उच्च न्यायलय ने सुनाई थी तीन साल की सजा

तीन दशक पुराने एक मामले में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। सुप्रीम कोर्ट ने 34 साल पुराने रोड रेज के एक मामले में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को एक साल की सजा सुनाई है। इसके पहले, सिद्धू को एक हजार रु का जुर्माना लगाकर छोड़ दिया गया था। यह मामला 1988 का है। रोड रेज में जिस शख्स की मौत हुई थी, उसके परिवार ने रिव्यू पीटिशन दायर की थी।

पटियाला के सत्र न्यायाधीश ने 22 सितंबर 1999 को सिद्धू और उनके सहयोगी को इस मामले में सबूतों के अभाव और संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था। इसके बाद पीड़ित के परिवार ने इस मामले में पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। जिसमें हाई कोर्ट ने सिद्धू को तीन साल की सजा सुनाई थी। हाई कोर्ट के इस फैसले को सिद्धू ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

क्या था मामला

27 दिसंबर 1988 की शाम को सिद्धू अपने दोस्त रूपिंदर सिंह संधू के साथ पटियाला के शेरावल गेट मार्केट पहुंचे. यह जगह उनके घर से 1.5 किमी दूर है। सिद्धू उस समय क्रिकेटर थे। उन्हें अपना अंतरराष्ट्रीय करियर शुरू हुए अभी एक साल ही हुआ था।

उसी बाजार में कार पार्किंग को लेकर उसका 65 वर्षीय गुरनाम सिंह से विवाद हो गया था। मामला तूल पकड़ गया। सिद्धू ने गुरनाम सिंह को घुटनों पर पटक दिया। इसके बाद गुरनाम सिंह को अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। ऐसी खबरें थीं कि गुरनाम सिंह का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।

उसी दिन सिद्धू और उसके दोस्त रूपिंदर के खिलाफ कोतवाली थाने में दोषी करार देते हुए हत्या का मामला दर्ज किया गया था. मामला सत्र न्यायालय में गया। 1999 में एक सत्र अदालत ने इस मामले को खारिज कर दिया था।

  • 2002 में पंजाब सरकार ने सिद्धू के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दायर की थी। इसी बीच सिद्धू ने राजनीति में प्रवेश किया। 2004 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने बीजेपी के टिकट पर अमृतसर सीट से चुनाव लड़ा और जीते।
  • उच्च न्यायालय का फैसला दिसंबर 2006 में आया था। हाईकोर्ट ने सिद्धू और संधू को दोषी करार देते हुए तीन साल जेल की सजा सुनाई। एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। सिद्धू ने लोकसभा से इस्तीफा दे दिया था।
  • हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी। सिद्धू की ओर से दिवंगत भाजपा नेता अरुण जेटली ने केस लड़ा था। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी।

कांग्रेस गुजरात – गुजराती और हिंदुत्व से नफरत करती है – हार्दिक पटेल

Your email address will not be published.