प्रियंका बनाम राहुलः कांग्रेस के ‘सूत्रों’ की न मानें

| Updated: July 13, 2021 8:48 pm

पंजाब, राजस्थान में चल रहे राजनीतिक संकट और इस पुरानी पार्टी के सामने आ रहे मुद्दों के समाधान में प्रियंका गांधी की सक्रिय भूमिका का उद्देश्य राहुल गांधी के हाथों को मजबूत करना है। कांग्रेस में प्रियंका बनाम राहुल की संभावना बहुत कम है, क्योंकि राजनीति में प्रियंका के प्रवेश का पूरा तर्क राहुल की मदद करना रहा है। भाई और बहन के बीच का रिश्ता इतना गहरा होता है कि किसी तीसरे व्यक्ति (शायद मां सोनिया गांधी को छोड़कर) के लिए हस्तक्षेप करने का कोई रास्ता नहीं है।

प्रियंका और राहुल गांधी के बीच कथित तौर पर कुछ मतभेद होने की चर्चा कुछ राजनीतिक लोगों की कोशिश मात्र है, जो गांधी परिवार के इको-सिस्टम का हिस्सा बनना चाहते हैं। पार्टी के भीतर उन्हें पसंदीदा, मंडली, पैलेस गार्ड या गेट कीपर के रूप में संबोधित किया जाता है, लेकिन नई दिल्ली में 24, अकबर रोड, 10, जनपथ, तुगलक क्रिसेंट या सुजान सिंह पार्क रेजिडेंसी में इन ‘अज्ञात स्रोतों’ की सही स्थिति के बारे में नहीं बताया जा सकता है, क्योंकि गांधी तिकड़ी – सोनिया, राहुल और प्रियंका मोटे तौर पर मीडिया के सामने नहीं आते हैं और निजी मीडिया सलाहकारों या अन्य परामर्शदाताओं के बिना काम करती है।

स्वतंत्रता के बाद के 74 वर्षों के भारत के इतिहास में गांधी परिवार ने 59 वर्षों तक कांग्रेस का नेतृत्व किया है। सभी कांग्रेसी गांधी परिवार के सदस्यों को निर्विवाद नेताओं के रूप में देखते हैं और चुनावी सफलता, सत्ता आदि की उम्मीद करते हैं। जवाहरलाल नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और सोनिया गांधी तक कोई भी गांधी परिवार का सदस्य विफल नहीं हुआ है और न ही राजनीति से बाहर हुआ है। नतीजतन, कांग्रेस के नेता आंख मूंदकर उनका अनुसरण करते हैं और गांधी परिवार से आगे नहीं देखना चाहते हैं। राहुल और अब प्रियंका जैसे गांधी परिवार के सदस्यों को इस भव्यता और उम्मीद के साथ जीना होगा और कांग्रेसियों की सोच को सही साबित करना होगा।

यह कहना पार्टी की मूल सोच के खिलाफ है कि पार्टी के नेता चाहते हैं कि पूर्णकालिक कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में राहुल की वापसी के बाद प्रियंका उत्तर प्रदेश के बाहर और अधिक सक्रिय भूमिका निभाएं। प्रियंका को राहुल के प्रभाव को बढ़ाने के लिए जाना जाता है और देश भर में पार्टी के कई नेताओं के साथ उनके अच्छे संबंध हैं।

कांग्रेस के पास नेहरू-गांधी के मिलकर काम करने का इतिहास है; इसलिए, राहुल-बनाम-प्रियंका की संभावना न्यूनतम है। उदाहरण के लिए, इंदिरा, जवाहरलाल नेहरू की छाया थीं, उनके पिता देश के पहले प्रधान मंत्री थे। 1959 में वह पार्टी अध्यक्ष बनीं, जिससे कांग्रेस में कई लोगों को आश्चर्य हुआ। नेहरू के आलोचक इस कदम का विरोध करते थे, लेकिन उस समय के नेताओं के एक बड़े वर्ग ने महसूस किया कि इंदिरा में उत्साह है।

एआईसीसी प्रमुख के रूप में उन्होंने केरल संकट का सामना किया, देश के पहले कम्युनिस्ट मुख्यमंत्री ईएमएस नंबूदरीपाद के नेतृत्व वाली निर्वाचित सरकार को बर्खास्त कर दिया और भाषाई विवाद को समाप्त करने के लिए महाराष्ट्र और गुजरात के निर्माण की सिफारिश की। एक बार नेहरू से पूछा गया था कि वह पार्टी प्रमुख के रूप में इंदिरा के बारे में क्या महसूस करते हैं। तब प्रधानमंत्री ने टिप्पणी की थी कि हर दिन, हर सुबह नाश्ते की मेज पर कांग्रेस अध्यक्ष का सामना करना कोई अच्छा विचार नहीं था। 1960 में जब उनका कार्यकाल समाप्त हुआ, तो सीडब्ल्यूसी ने उनसे पद पर बने रहने का अनुरोध किया, लेकिन इंदिरा ने मना कर दिया।

इंदिरा के बेटे संजय गांधी ने कांग्रेस में औपचारिक पद का विकल्प नहीं चुना (एआईसीसी महासचिव के रूप में एक संक्षिप्त कार्यकाल को छोड़कर) लेकिन कई संगठनात्मक और प्रशासनिक मामलों में उन्हें इंदिरा के बराबर माना जाता था। बाद में संजय के भाई राजीव 1983 में एआईसीसी महासचिव बने, जब इंदिरा प्रधानमंत्री थीं। उन्हें पार्टी के 24 अकबर रोड मुख्यालय में इंदिरा के बगल में एक कमरा दिया गया था। राजीव की बातें मायने रखती थीं और इंदिरा की कैबिनेट में ज्यादातर मंत्री अक्सर उनके ऑफिस के बाहर इंतजार करते देखे जाते थे।
2006-17 के बीच राहुल के साथ सोनिया के कार्य से जुड़े संबंधों में काम का स्पष्ट सीमांकन था और यूपीए के मंत्रियों को राहुल से मिलने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया गया। लेकिन 2014 और 2020 के बीच प्रियंका को एक अतिरिक्त ताकत के रूप में तैयार किए जाने के बावजूद सोनिया-राहुल की जोड़ी ने बहुत अधिक निष्क्रियता और चुनावी झटके देखे।

प्रियंका के लिए एक बड़ी भूमिका राहुल को मजबूत करेगी और ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे विद्रोह की संभावनाओं को कम करेगी। जबकि राजस्थान में सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच एक लंबी राजनीतिक लड़ाई चल रही है, कांग्रेस के कुछ शुभचिंतक चाहते हैं कि प्रियंका आगे बढ़ें, पायलट के पास जाएं, उन्हें एआईसीसी में जगह का भरोसा दें और अशोक गहलोत को पायलट समर्थकों को अपने मंत्रिमंडल में शामिल करने का निर्देश दें। कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष के रूप में, सोनिया के हाथ बंधे हो सकते हैं और एआईसीसी प्रमुख के पद पर नजर रखे राहुल ऐसे मामलों में कदम उठाने के इच्छुक नहीं रहते हैं।

साथ ही, राहुल को अक्सर विरोधी और अपनी पार्टी के नेताओं के प्रति कम मिलनसार के रूप में देखा जाता है। इंदिरा-संजय-राजीव गांधी युग में कांग्रेस में ऐसा नहीं था। गठबंधन की राजनीति के दौर में पीवी नरसिंह राव, सीताराम केसरी और सोनिया ने पार्टी नेताओं और क्षेत्रीय क्षत्रपों को अच्छी तरह साथ रखने की कोशिश की थी। इस संदर्भ में प्रियंका की भूमिका पार्टी के पुनरुत्थान की संभावनाओं के लिए महत्वपूर्ण हो जाती है।

Your email address will not be published. Required fields are marked *