घमंड में पीएम मोदी ने कहा किसान आंदोलन में 500 किसान मेरे लिए मरे ? राज्यपाल मलिक का अहम खुलासा

| Updated: January 3, 2022 3:14 pm

मेघालय के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने किसान आंदोलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को घमंडी करार देकर उन्होंने अपनी बातचीत का अहम खुलासा किया | साथ ही बिल वापसी के दौरान राष्ट्र के नाम प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिए गए भावनात्मक उद्बोधन को सियासी मज़बूरी करार दिया | सरकार और भाजपा नेतृत्व पर हमला जारी रखते हुए आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब किसानों के विरोध प्रदर्शन पर चर्चा करने के लिए उनसे मिले तो वह “अहंकारी” थे और उनकी उनके साथ बहस हो गई।

हरियाणा के दादरी में एक सामाजिक समारोह को संबोधित करते हुए मलिक ने कहा, “मैं जब किसानों के मामले में प्रधानमंत्री जी से मिलने गया तो मेरी पांच मिनट में मेरी उनसे लड़ाई हो गई । वो बहुत घमंड में थे , जब मैंने उनसे कहा, हमारे 500 लोग मर गए… तो उसे कहा, मेरे लिए मरे हैं? (मैंने) कहा आपके लिए ही तो मरे थे, जो आप राजा बने हुए हो… मेरा झगड़ा हो गया। उन्होन कहा अब आप अमित शाह से मिल लो। मैं अमित शाह से मिला |

दादरी में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए, जब उनसे कृषि कानूनों को निरस्त करने के सरकार के फैसले और किसान की लंबित मांगों के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री ने जो कहा उसके अलावा और क्या कह सकते थे … ? हमें कुछ ऐसा करने के बजाय एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी पाने के लिए उनकी मदद लेनी चाहिए ।कुछ मुद्दे अभी भी लंबित हैं। सरकार को उस मामले में ईमानदारी दिखानी चाहिए और मामलों को वापस लेना चाहिए। इसी तरह कानूनी एमएसपी भी करना होगा।’

पहले भी सरकार को घेरते रहे हैं मलिक
मलिक ने हाल के दिनों में कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार पर कई बार हमला किया है। नवंबर में, जयपुर में बोलते हुए, उन्होंने कहा था कि केंद्र को अंततः किसानों की मांगों को मानना ​​होगा। उन्होंने यह भी कहा कि जब भी वह किसानों के मुद्दे पर बोलते हैं, तो उन्हें कुछ हफ़्ते के लिए आशंका होती है कि उन्हें दिल्ली से फोन आ सकता है। यह कहते हुए कि राज्यपाल को हटाया नहीं जा सकता है, उन्होंने कहा कि “शुभचिंतक” उनके कुछ कहने का इंतजार करते रहते हैं जिससे उन्हें हटाया जा सकता है।
अभी नहीं ख़त्म हुआ है आंदोलन

मलिक ने यह भी कहा, “अगर सरकार को लगता है कि यह आंदोलन समाप्त हो गया है, तो ऐसा नहीं है… आंदोलन को केवल निलंबित कर दिया गया है। अगर किसानों पर अन्याय या अत्याचार किया गया तो फिर से शुरू हो जाएगा। स्थिति जो भी हो, मैं उनके (किसानों) साथ रहूंगा।”खाप पंचायतों के एक वर्ग ने रविवार को भिवानी जिले के किटलाना टोल प्लाजा पर एक पंचायत के लिए मलिक को आमंत्रित किया था, लेकिन उन्होंने इस कार्यक्रम को छोड़ दिया। किसान अपने आंदोलन के तहत इस टोल प्लाजा पर करीब एक साल से धरने पर बैठे थे।मलिक ने कहा, ‘मैं खाप के पक्ष में हूं। वे (राजा) हर्षवर्धन के समय के हैं। लेकिन खापों को सावधानी से काम करना चाहिए, उन्हें हमारे संविधान और कानूनी व्यवस्था के खिलाफ नहीं जाना चाहिए।

Your email address will not be published.