सोनिया- राहुल के कहने पर पीएम की सुरक्षा से हुआ खिलवाड़ – सी आर पाटिल

| Updated: January 6, 2022 8:55 pm

पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा से कथित तौर पर हुए खिलवाड़ को राज्य भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी , और राहुल गाँधी की साजिश बताते हुए राज्यपाल से मिलकर अपना विरोध जताया | साथ ही सभी जिला स्तर पर महामृत्युंजय जाप कर प्रधानमंत्री के लम्बे आयु की कामना और कांग्रेस की सद्बुद्धि की प्रार्थना की |

इस दौरान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल ने संवाददाताओं से कहा कि पंजाब के फिरोजपुर में 42,750 करोड़ रुपये की जनकल्याणकारी योजनाओं के साथ ही विभिन्न विकास परियोजनाओं का शिलान्यास करने के लिए प्रधानमंत्री जा रहे थे | .भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पाटिल ने आगे कहा कि पंजाब सरकार और मुख्यमंत्री के सिर्फ 324 अधिकारियों को ही प्रधानमंत्री के बदले हुए रूट की जानकारी थी |

कैसे यह सूचना कुछ ही देर में प्रदर्शनकारियों तक पहुंच गई ? और उनके रास्ते को घेर लिया।अतीत में जब भी कांग्रेस को लोगों ने नकारा है, कांग्रेस ने ऐसे काम किए हैं जो देश के लोकतंत्र, राष्ट्र की सुरक्षा के साथ-साथ देश के मूल्यों ,पदों की गरिमा को भी धूमिल करते हैं। जब कांग्रेस संकट में होती है तो देश में संकट थोपकर लोकतंत्र का गला घोंटने का अपराध करती है। कांग्रेस आतंकवाद के साथ-साथ अलगाववाद को भी बढ़ावा देती है ।

कई महत्वपूर्ण सबूत साबित करते हैं कि यह कांग्रेस सरकार की एक जानबूझकर घोर लापरवाही थी और साथ ही कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के प्रति एक गंभीर इशारा था। ऐसी स्थिति में जहां प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री के पास होती है, जब वह राज्य के दौरे पर होते हैं, तो यहां यह एक गंभीर मामला है कि राज्य की कांग्रेस सरकार प्रधानमंत्री की सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने की साजिश में शामिल है |


सी.आर. पाटिल ने आगे कहा कि पंजाब की कांग्रेस सरकार ने आगामी विधानसभा चुनाव में जनता के हाथों करारी हार के डर से पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम को विफल करने के लिए हर संभव कोशिश की. प्रधानमंत्री की सुरक्षा से गंभीर खिलवाड़ किया गया।कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को पंजाब कांग्रेस सरकार द्वारा प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर दिखाई गई घोर लापरवाही के लिए पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए और पंजाब के मुख्यमंत्री द्वारा दिखाई गई घोर आपराधिक लापरवाही के लिए इस्तीफा भी देना चाहिए।

राज्य के मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल, राज्य भाजपा कोषाध्यक्ष सुरेंद्रभाई पटेल, राज्य मंत्री राजेंद्रभाई त्रिवेदी, मंत्री जीतूभाई वघानी, राज्य महासचिव रजनीभाई पटेल, राज्य के गृह मंत्री हर्षभाई सांघवी, महेशभाई कसवाला समेत संगठन के लोग शामिल थे | वही दूसरी तरफ राज्य के सभी जिला मुख्यालय में भी अलग अलग तरीके से विरोध प्रदर्शन हुआ , जबकि देर शाम भाजपा युवा मोर्चा ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के सामने मशाल रैली कर विरोध प्रदर्शित किया |

Your email address will not be published.