आरबीआई ने बढ़ाई रेपो दर: महंगा होगा होम लोन,सेंसेक्स में 1182 अंक की गिरावट

| Updated: May 6, 2022 5:54 pm

बुधवार को आयोजित एक आश्चर्यजनक प्रेस कॉन्फ्रेंस में, भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आरबीआई की रेपो दर में वृद्धि की घोषणा की। आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति ने रेपो दर में 40 आधार अंकों की बढ़ोतरी की। बदलाव का मतलब है कि मौजूदा रेपो रेट 0.4 ​​फीसदी है।

प्रेस मीटिंग के दौरान गवर्नर शक्तिकांत दास ने भारत की अर्थव्यवस्था और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष पर रूस-यूक्रेन युद्ध के वित्तीय प्रभावों का उल्लेख किया। बढ़ती मांग के जवाब में, आरबीआई अपनी समायोजन मुद्रा को छोड़कर, अपनी बेंचमार्क दर बढ़ा रहा है। इस फैसले से सेंसेक्स 1182 अंक गिरा।

आरबीआई पिछले दो साल से अपनी उदार नीति पर कायम है। मौद्रिक नीति रेपो दर पिछली 11 बैठकों के दौरान अप्रैल 2022 तक अपरिवर्तित रही। इस महीने की शुरुआत में पिछली बैठक में, मौद्रिक नीति समिति ने अपनी रेपो दर को 4% पर स्थिर रखा, जबकि रिवर्स रेपो दर 3.35% थी।

आरबीआई ने मीडिया को बताया कि एमपीसी बैठक के बाद खुदरा मुद्रास्फीति में 7% की वृद्धि हुई। यह वृद्धि मुख्य रूप से खाद्य कीमतों में वृद्धि के कारण हुई। उच्च मुद्रास्फीति का एक अन्य कारण भू-राजनीतिक तनाव है। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध शुरू हुए कुछ महीने हो चुके हैं, और इसने अनाज, विशेष रूप से गेहूं की कीमतों में वृद्धि को बुरी तरह प्रभावित किया है। इस दबाव का खामियाजा वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को भुगतना पड़ा है।

एलोन मस्क का ट्वीट -व्यावसायिक ,सरकारी यूजर्स से कीमत वसूल सकता है ट्विटर

Your email address will not be published.