U .K में पढ़ा छात्र नग्न तस्वीर के सहारे कर रहा था युवती को ब्लैकमेल ,सायबर सेल ने किया गिरफ्तार

| Updated: February 1, 2022 9:28 am

सोसल मीडिया के माध्यम से की गयी दोस्ती की सीमा तय करने का वक्त आ गया है ,यदि आपने ऐसा नहीं किया तो आप भी अहमदाबाद की क्षमा (बदला हुआ नाम ) की तरह उत्पीड़न का शिकार हो सकती हैं|

सोसल मीडिया के माध्यम से की गयी दोस्ती की सीमा तय करने का वक्त आ गया है ,यदि आपने ऐसा नहीं किया तो आप भी अहमदाबाद की क्षमा (बदला हुआ नाम ) की तरह उत्पीड़न का शिकार हो सकती हैं ,इस मामले में साइबर क्राइम सेल ने साइबर धमकी और ब्लैकमेल करने के आरोप में ब्रिटेन से लौटे 24 वर्षीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था।

गिरफ्तार युवक की पहचान 24 वर्षीय जय मेवाड़ा के तौर पर हुयी है | जय पर आरोप है कि उसने इंस्टाग्राम पर बनी महिला मित्र को उसे अपनी नग्न तस्वीरें साझा करने के लिए मजबूर किया फिर ब्लैकमेल शुरू कर दिया ,जय चाहता था कि क्षमा अपनी सहेलियों से उसकी दोस्ती कराकर उनकी भी नग्न तस्वीर भेजने के लिए प्रेरीत करे |
यह भी पढ़ें-अहमदाबाद से संचालित फर्जी टेलीफोन एक्सचेंज से पाकिस्तान, बंगलादेश दुबई समेत की गयी 43 लाख काल

प्रताड़ना से तंग आकर महिला ने पुलिस से मदद की गुहार लगाई। मेवाड़ा मूल रूप से मेहसाणा का रहने वाला है और छात्र वीजा पर यूके में था लेकिन महामारी के कारण भारत लौट आया।

पुलिस ने कहा कि मेवाड़ा ने पुरुष और महिला दोनों के रूप में कई इंस्टाग्राम अकाउंट बना रखे हैं जिनका उपयोग युवा महिलाओं से संपर्क करने और उनसे दोस्ती करने के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़ें-
गुजरात में इमामशाह दरगाह में सांप्रदायिक सदभाव की जगह खड़ी हो गयी “नफरत की दीवार “

ऐसे ही एक इंस्टाग्राम हैंडल के जरिए उसकी अहमदाबाद की रहने वाली महिला से दोस्ती हो गई और दोनों ऑनलाइन दोस्त बन गए। उसने उससे उसकी नग्न तस्वीरें साझा कीं और उसका इस्तेमाल उसे ब्लैकमेल करने के लिए किया।

वह चाहता था कि महिला अपनी संपर्क सूची में अन्य युवा लड़कियों को उनकी नग्न तस्वीरें साझा करने के लिए मनाए ताकि वह उन्हें भी फंसा सके।

साइबर क्राइम के एसीपी जेएम यादव ने कहा कि महिला ने पुलिस से संपर्क करने का फैसला करने से पहले एक साल तक उत्पीड़न झेला ।महिला की शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है | जांच से पता चला है कि आरोपी के पास शिकायतकर्ता की अश्लील तस्वीरें हैं । “आरोपी के कई खाते हैं और हम मामले की आगे जांच कर रहे हैं।”

Your email address will not be published.