D_GetFile

कर्ज के बोझ तले दबी गुजरात सरकार ने उत्सव के पीछे खर्च किये 27 . 06 करोड़

| Updated: March 9, 2022 3:38 pm

, 2020 में पतंग महोत्सव और रणोत्सव के दौरान भोजन, आवास और परिवहन पर 174.98 लाख खर्च किए गए। दोनों वर्षों में किया गया कुल व्यय 393.72 लाख था। 2019 में, अंतर्राष्ट्रीय पतंग महोत्सव, अफ्रीका दिवस और फैशन शो, गुरु नानक देवजी 550 वां प्रकाश वर्ष, नवरात्रि महोत्सव मनाया गया। वर्ष 2020 में अंतर्राष्ट्रीय पतंग महोत्सव मनाया गया।

  • अमरेली विधायक परेश धनाणी के सवाल पर राज्य सरकार का जवाब

गुजरात सरकार भले ही कर्ज के बोझ से दबी हो , लेकिन उत्सव प्रिय सरकार उत्सव के नाम पर करोडो रूपया खर्च करने से पीछे नहीं हटती , स्कूल अस्पताल जैसे अहम विभागों के बजट में लगातार कटौती के बीच उत्सव और प्रचार पर जमकर खर्च किया जा रहा है। विधानसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष और अमरेली विधायक परेश धनाणी ने विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान रणोत्सव, पतंगोत्सव, नवरात्रि महोत्सव के पीछे पिछले दो वर्षों में हुए खर्च के बारे में पूछा.

पर्यटन मंत्री पूर्णेश मोदी ने दिया जवाब

इस सवाल का जवाब पर्यटन मंत्री पूर्णेश मोदी ने दिया। इस पर पर्यटन विभाग ने जवाब दिया कि पिछले दो वर्षों में रणोत्सव, पतंग महोत्सव और नवरात्रि महोत्सव पर 27.06 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं. इन त्योहारों के दौरान राज्य के बाहर और विदेशी मेहमानों के रहने, खाने, परिवहन, मुआवजे और अन्य खर्चों पर दो साल में 1.68 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान लगाया गया था।

2019 में पतंग महोत्सव और रणोत्सव के दौरान भोजन, आवास और परिवहन पर कुल 218.74 लाख रुपये खर्च

2019 में पतंग महोत्सव और रणोत्सव के दौरान भोजन, आवास और परिवहन पर कुल 218.74 लाख रुपये खर्च किए गए। इसी तरह, 2020 में पतंग महोत्सव और रणोत्सव के दौरान भोजन, आवास और परिवहन पर 174.98 लाख खर्च किए गए। दोनों वर्षों में किया गया कुल व्यय 393.72 लाख था। 2019 में, अंतर्राष्ट्रीय पतंग महोत्सव, अफ्रीका दिवस और फैशन शो, गुरु नानक देवजी 550 वां प्रकाश वर्ष, नवरात्रि महोत्सव मनाया गया। वर्ष 2020 में अंतर्राष्ट्रीय पतंग महोत्सव मनाया गया।

नवरात्रि पर्व पर कुल 908.81 लाख, पतंग उत्सव पर 817.17 लाख तथा रणोत्सव पर 317.62 लाख व्यय किए गए ह

2017-18 में नवरात्रि पर्व पर कुल 908.81 लाख, पतंग उत्सव पर 817.17 लाख तथा रणोत्सव पर 317.62 लाख व्यय

वर्ष 2017-18 में नवरात्रि पर्व पर कुल 908.81 लाख, पतंग उत्सव पर 817.17 लाख तथा रणोत्सव पर 317.62 लाख व्यय किए गए हैं। जबकि वर्ष 2018 से 2019 में नवरात्रि पर्व पर 904.76 लाख, पतंग उत्सव पर 713.89 लाख और रणोत्सव पर कुल 441.11 लाख रुपये खर्च किए गए हैं। इसके अलावा, पिछले दो वर्षों में, 2017 से 2018 तक नवरात्रि महोत्सव के लिए भोजन आवास में 2.07 लाख रुपये और परिवहन की लागत 6.93 लाख रुपये थी। जबकि पतंग उत्सव में भोजन, आवास के लिए 47.48 लाख रुपये और परिवहन के लिए 30.84 लाख रुपये खर्च होते हैं। इसके अलावा वर्ष 2018 से 2019 तक नवरात्रि पर्व में भोजन और परिवहन का खर्च 31.59 लाख रुपये और परिवहन का खर्च 25.97 लाख रुपये रहा।

महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविद 25 मार्च को जामनगर के बनेंगे मेहमान

Your email address will not be published. Required fields are marked *