शिव कुमार शर्मा की अर्थी में लगे जाकिर हुसैन के कंधे से समझिए हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत को

| Updated: May 14, 2022 6:21 pm

कोई आपको शोक करना नहीं सिखाता। शिव कुमार शर्मा को अंत तक पकड़े रहना शायद जाकिर हुसैन का वहां रहने का तरीका था; जैसे वह 1979 में मधुर और गहन राग किरवानी बजा रहे हों, जो अंततः एक एचएमवी रिकॉर्ड में तब्दील हुआ।


पंडित शिव कुमार शर्मा के साथ अंतिम बार यानी अंतिम संस्कार के समय दिख रहे 71 वर्षीय महान तबला बादक जाकिर हुसैन की यह तस्वीर कुछ ऐसी ही तासीर वाली है, जिसमें मास्क से ढंके होने पर भी चेहरे पर दुःख की हर लाइन पढ़ी जा सकती है। यह बेहद मार्मिक क्षण था, जो लंबे समय तक यादों में रहेगा।इससे अधिक कोई तस्वीर नहीं बोल सकती। भावुक पल में भी स्पष्ट आवाज। कभी-कभी ऐसी छवियां धुंधली पड़ जाती हैं, और फिर एक अलग दुनिया की वास्तविकता को बयां करने लगती हैं। ये लोकप्रिय धारणाओं से भी बहुत दूर होती हैं।


जैसे ही शिव कुमार शर्मा का बेटा राहुल पारंपरिक घड़े के साथ घाट की ओर चला, उनका दूसरा बेटा रोहित चिता की तैयारी करते हुए इंतजार कर रहा था।

हुसैन ने अपने दोस्त को तिरंगे में लपेटा, जो शास्त्रीय संगीत की असंख्य की शब्दावली से भरा था।

यादों में चलचित्र-सा चल रहा था- साथ किए कई संगीत कार्यक्रम, जहां वह शर्मा के संतूर के साथ तबले पर संगत करते थे, मंद से द्रुत और द्रुत से मंद करते हुए।

कभी भी एक-दूसरे पर हावी नहीं होने का प्रयत्न करते। वह व्याकुल हरि प्रसाद चौरसिया को सांत्वना भी दे रहे थे।


कोई आपको शोक करना नहीं सिखाता


कोई आपको शोक करना नहीं सिखाता। शिव कुमार शर्मा को अंत तक पकड़े रहना शायद जाकिर हुसैन का वहां रहने का तरीका था; जैसे वह 1979 में मधुर और गहन राग किरवानी बजा रहे हों, जो अंततः एक एचएमवी रिकॉर्ड में तब्दील हुआ।

शास्त्रीय मंच पर संतूर की उपस्थिति का यह 25 वां वर्ष था, और शर्मा ने हुसैन को मुंबई में अब-निष्क्रिय रंग भवन में आयोजित एक संगीत कार्यक्रम का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित किया था। यकीनन, वह राग की सबसे अद्भुत प्रस्तुतियों में से एक थी- जिसमें प्रतिस्पर्धा भी अनुपम रही।

इसमें दोनों के बीच तालमेल, सहयोग और सरोकार को चिह्नित करने वाली गर्मजोशी भी सुर में ही रही।
शर्मा के लिए हुसैन का स्नेह और अपार सम्मान दरअसल उनके एक दशक के बराबर वरिष्ठ और उनके पिता उस्ताद अल्लाह रक्खा खान के संतूर वादक के साथ जुड़ाव से भी आया था।

कई सालों तक हुसैन के नियमित रूप से शर्मा के साथ संगत करने से पहले, 20 साल तक शर्मा के साथ तबले पर सीनियर खान ही बैठते थे।

यह वह समय भी था, जब खान हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के हाशिये से तबले को उठाकर सुर्खियों में लाने की प्रक्रिया में थे। उस समय साथ आने वाले कलाकारों का कद अधिक बड़ा नहीं था।

संगीतकारों के नाम रिकॉर्ड या पोस्टर पर नहीं होते थे और उन्हें मुख्य कलाकार की तुलना में बहुत कम भुगतान किया जाता था।

यहां तक कि तबला वादकों को मुख्य कलाकार के पीछे बैठाया जाता था। तबलची शब्द का इस्तेमाल अपमानजनक तरीके से किया जाता था।

पंडित रविशंकर के साथ खान की संगीत यात्रा ने पश्चिमी दर्शकों से उनकी प्रतिभा का परिचय कराया।


शर्मा और खान की एक-दूसरे के प्रति जो आत्मीयता थी, वह एक-दूसरे की कला की सराहना से परे थी


शर्मा और खान की एक-दूसरे के प्रति जो आत्मीयता थी, वह एक-दूसरे की कला की सराहना से परे थी। यह गहरा था और जम्मू तक जाता था, जहां से ये दो डोगरा आदमी आए थे।

एक बार शिकागो में एक संगीत कार्यक्रम में शर्मा ने डोगरी में बात की थी कि कैसे दोनों ने “बड़ा अच्छा कार्यक्रम होइया” किया। खान ने लगभग तुरंत जवाब दिया कि ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि दो डोगरा संगीतकार एक साथ प्रदर्शन कर रहे थे।


साम्प्रदायिकता ने अभी तक अपनी उपस्थिति को उन तरीकों से महसूस नहीं कराया था, जिससे हम परिचित हो रहे हैं।

इस परंपरा के अपने मुद्दे हैं, आत्मसात करना इसका मूलमंत्र है।

यह अभी भी हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के पवित्र हॉल से थोड़ा दूर है। हालांकि इस परंपरा के अपने मुद्दे हैं, आत्मसात करना इसका मूलमंत्र है। यह एक ऐसी दुनिया है, जहां ध्रुपद शैली के सबसे प्रसिद्ध गायक डागर, एक ऐसी परंपरा गाते हैं जो खुद को सामवेद से जोड़ती है।

यह एक ऐसी दुनिया है, जहां शायद हर संगीतकार, चाहे उनका धर्म कुछ भी हो, संगीत की देवी सरस्वती की पूजा करता है।

और, जहां एक जाकिर हुसैन दिवंगत शिव कुमार शर्मा की दुखी पत्नी मनोरमा के हाथों से तिरंगे को फिसलने नहीं देते हैं और चुपचाप एक कोने में खड़े होने से पहले उसे अपने दिल से लगाए रखते हैं।

अपने दोस्त की जलती चिता के बगल में, गमगीन। वह तो उसे अभी जाने की इजाजत देने को भी राजी नहीं हैं।

एक फैंसी कार या एक बड़ा घर खरीदने के लिए बड़ा कर्ज नहीं ले सकता – पंकज त्रिपाठी

Your email address will not be published.