कैबिनेट फेरबदल में कहां है गुजरात का स्थान

| Updated: July 8, 2021 4:17 pm

गुजरात के लिए इससे बेहतर कभी नहीं रहा। जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस के दौरान या मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए, चरण सिंह के नेतृत्व वाली जनता पार्टी (सेक्युलर), मोरारजी देसाई की जनता पार्टी, वीपी सिंह के जनता दल नेशनल फ्रंट, जनता दल (संयुक्त मोर्चा) ) देवेगौड़ा और आईके गुजराल, चंद्रशेखर के नेतृत्व वाली समाजवादी जनता पार्टी, मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए या अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए, आजादी और भारत की पहली संसद के बाद से गुजरात को नरेंद्र मोदी ने आज जो दिया, उससे बेहतर कभी नहीं मिला।

यहां हम उसी के कारणों का विश्लेषण करते हैं।

गुजरात में अगले साल (दिसंबर 2022) में चुनाव होना है और गुजरात को यह उपहार इन बातों को ध्यान में रखते हुए दिया गया है।

1. दिल्ली में मौजूद “गुजराती-नेस” की धारणा और “हमारे” प्रधानमंत्री नरेंद्रभाई

2. गुजरात का जाति संयोजन।

3. दिसंबर 2022 के लिए बिल्कुल सही चुनावी गणित।

हमारे नरेंद्रभाई

भले ही प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में गुजरात छोड़ दिया है और इसे लगभग सात साल हो गए हैं, लेकिन उन्होंने गुजरात की हर चीज और “गुजराती-छवि” के लिए अपने प्यार की छाप को सफलतापूर्वक बनाए रखा है। कांग्रेस के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के विपरीत, जिन्होंने असम और राजस्थान सहित विभिन्न राज्यों से भारत का प्रतिनिधित्व किया, नरेंद्र मोदी का गुजरात कनेक्शन बरकरार है, हालांकि उन्होंने संसद में प्रतिनिधित्व करने के लिए वाराणसी को चुना था। उन्होंने वडोदरा से भी चुनाव लड़ा लेकिन वडोदरा के ऊपर वाराणसी को चुना। यानी गुजरात के ऊपर उत्तर प्रदेश।

पीएम मोदी भारत और विदेश के लिए कुछ भी हों लेकिन गुजरात के लिए वह नरेंद्रभाई और “अपना” नरेंद्रभाई बने हुए हैं। यह कैबिनेट फेरबदल उनके प्यार और गुजरात से संबंधित होने को और मजबूत करता है। यह उनके प्रति धारणा के लिए बहुत मायने रखता है।

यह ध्यान देने की बात है कि पीएम मोदी की छवि को कोविड-19 महामारी ने बिगाड़ा है, लेकिन गुजरात में उन्हें दोष नहीं दिया जाता है। वास्तव में, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के रूप में डॉ. हर्षवर्धन को हटाने से लोगों का उन पर विश्वास बढ़ा है। अगर मोदी ने किया है, तो वह सही ही होगा।

जाति ही राजा है

आपकी जाति क्या है ?

भाजपा को मानने वाले ज्यादातर लोग अपनी पार्टी को अलग बताते हैं, जहां जाति को महत्व नहीं दिया जाता। यह सबसे बड़ी भ्रांति है जिसे भाजपा खुद को लेकर सफलतापूर्वक तैयार किया है। सच तो यह है कि जाति की गणना आरएसएस और भाजपा से बेहतर कोई नहीं जानता। और राजनीतिक लाभ के लिए जाति के अंकगणित के सबसे बड़े विद्वान नरेंद्र मोदी हैं। उन्होंने 1995 में गुजरात में पिछली सरकार को बेदखल करने के लिए इस जाति संयोजन का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया था। वह उनकी सीखने की अवस्था थी। फिर उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में इसमें महारत हासिल की और इसे लागू करके बार-बार अपनी और पार्टी की जीत सुनिश्चित की।

2001 से 2014 तक, नरेंद्र मोदी ने गुजरात में भाजपा को एक बेजोड़ पार्टी के रूप में स्थापित करने के लिए जाति का सफलतापूर्वक उपयोग किया। पटेलों के लिए आरक्षण के लिए हार्दिक पटेल के नेतृत्व में पाटीदार आंदोलन या अल्पेश ठाकोर द्वारा ओबीसी आरक्षण को खत्म नहीं करने के लिए आंदोलन पीएम के तौर पर मोदी के दिल्ली जाने के बाद ही गुजरात में शुरू हुआ। जिग्नेश मेवानी के नेतृत्व में विभिन्न दलित भी इसी श्रेणी में आते हैं।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि दिसंबर, 2022 का गुजरात विधानसभा चुनाव भाजपा के लिए आसान हो, उन्होंने जाति को मुख्य प्राथमिकता के रूप में रखते हुए गुजराती सांसदों के लिए मंत्री पद का चयन किया है।

उदाहरण के लिए, सभी पाटीदार भाजपा के पक्ष में नहीं हैं। उन्होंने मनसुख मांडविया और पुरुषोत्तम रूपाला दोनों को कैबिनेट मंत्री के रूप में पदोन्नत किया था। दोनों पाटीदार हैं और दोनों लेउवा और कदवा पाटीदार समुदाय से हैं। लुउवा और कदवा में आपस में बहुत मेल नहीं है। इसलिए उन्होंने सुनिश्चित किया है कि दोनों को समान प्रतिनिधित्व मिले और हार्दिक पटेल या पाटीदार आम तौर पर कांग्रेस या गोपाल इटालिया के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी की ओर झुकना बंद कर दें, जो कि स्वयं पटेल हैं।

गुजरात के अन्य मंत्रियों को भी दूरदर्शिता के साथ चुना गया है। सौराष्ट्र के एक कोली महेंद्र मुंजापारा को सौराष्ट्र बेल्ट के कोली समुदाय का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया है। आबादी में कोली 27 प्रतिशत से ज्यादा हैं, और उन्हें शामिल करना कोली के एकजुट होने का मजबूत संदेश देता है। कुंवरजी बावलिया भी एक मजबूत कोली नेता हैं लेकिन वह मूलत: कांग्रेस से हैं। भाजपा के सबसे बड़े कोली नेता पुरुषोत्तम सोलंकी बीमार हैं। सौराष्ट्र की सोमा कोली अपने समुदाय का विश्वास खोकर पूरी तरह से अविश्वसनीय छवि वाली व्यक्ति बन गई हैं। इन परिस्थितियों में डॉक्टरेट की डिग्री वाला एक युवा, स्वच्छ छवि का कोली नेता सामान्यत: पिछड़े और अभी भी बहुत अशिक्षित कोली समुदाय के लिए एक अच्छा रोल मॉडल हो सकता है। गुजरात की 56 विधानसभा सीटों पर कोली का मजबूत प्रतिनिधित्व है।

बदला जितनी देर से लिया जाए, उतना अच्छा

ओबीसी समुदाय के प्रतिनिधि देवुसिंह चौहान का मंत्री पद इसकी व्याख्या करता है। वह मूलत: कांग्रेस से हैं। हर जगह वेंटीलेटर पर चल रही कांग्रेस की मध्य गुजरात में अब भी पकड़ है। गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा और उनके सुपर पावर चचेरे भाई भरत माधवसिंह सोलंकी अपनी ताकत और दिमाग से मध्य गुजरात पर शासन करते हैं। देवसिंह को नियुक्त करने का निर्णय चावड़ा सोलंकी बंधुओं की मौजूदा ताकत को पूरी तरह से खत्म कर देता है। अमित चावड़ा और भरत सोलंकी दोनों ही ओबीसी से ताल्लुक रखते हैं। इस क्षेत्र से एक ओबीसी मंत्री होने से कांग्रेस का प्रभुत्व कम कम करना आसान होगा। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि कांग्रेस के पार्टी प्रमुख के रूप में भरत सोलंकी ने सीएम मोदी को बहुत प्रभावित किया था। हालांकि वह बीती बात है। ओबीसी गुजरात की आबादी में 49% प्रतिशत से अधिक हैं। हालांकि यह निर्णय एक और युवा ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर को प्रेरित कर सकता है, जो कांग्रेस और भाजपा दोनों का साथ छोड़ तीसरे मोर्चे की ओर झुक गए।

सच्चे काम और धैर्य का फल मिलता है

इसका उदाहरण हैं दर्शना जरदोश। अपने काम और पार्टी के लिए प्रतिबद्ध एक महिला, जो लंबे समय से कुद बेहतर होने का इंतजार कर रही थीं। एक साफ-सुथरी छवि, स्पष्ट दृढ़ता और सबसे बढ़कर एक शिक्षित महिला को लंबे समय से बीजेपी स्टार होना चाहिए था। सीआर पाटिल की तरह दर्शना जरदोश लगभग स्थापना के समय से ही भाजपा के साथ हैं। दारजी समुदाय के एक शिक्षित ओबीसी नेता दर्शना इसकी और इससे भी कुछ ज्यादा की हकदार थीं। वह पूरे गुजरात में ओबीसी समुदाय के लिए विशेष रूप से महिलाओं और लड़कियों के लिए एक अच्छी प्रेरणा होंगी। एक ओबीसी महिला को सशक्त बनाकर मोदी, जो स्वयं भी ओबीसी है, उन्होंने एक संदेश भेजा है कि वह पिछड़े वर्गों के लिए खड़े हैं और हाशिए पर जी रही जातियों की महिलाओं के सशक्तीकरण में विश्वास करते हैं।

गुजरात के अन्य तीन प्रतिनिधि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर हैं, जिन्हें गुजरात से राज्यसभा के लिए नामित किया गया था। महामारी के इस दौर में सबसे अहम है स्वास्थ्य मंत्रालय और इसकी जिम्मेदारी गुजरात के सांसद को मिलने से निश्चित रूप से निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि अपने नरेंद्रभाई वास्तव में गुजरात के प्रति उदार हैं। बेशक, वास्तविकता गुजरात चुनाव 2022 है।

Your email address will not be published. Required fields are marked *