स्टार्टअप उत्सव में महिला उद्यमियों को अवश्य भाग लेना चाहिए

| Updated: March 29, 2022 3:07 pm

युवा उद्यमियों के नेतृत्व में भारत में यूनिकॉर्न की अभूतपूर्व वृद्धि देश में हजारों महत्वाकांक्षी स्टार्टअप को प्रेरित कर रही है। दुनिया मे अमेरिका और चीन के बाद भारत तीसरे सबसे बड़े स्टार्टअप इकोसिस्टम के रूप में उभरा है और जिस तरह से कॉलेज के छात्र इस कार्निवल में शामिल होने की तैयारी कर रहे हैं, उससे लगता है कि उन्हें अपने सपनों को साकार करने से कोई नहीं रोक सकता। भारत ने 2021 में ब्रिटेन (32) और जर्मनी (32) से आगे प्रति माह तीन यूनिकॉर्न (1 बिलियन डॉलर से अधिक मूल्य की स्टार्टअप फर्म) जोड़े हैं, जिससे ये कुल 51 हो जाते हैं।

बता दें कि भारत में इन यूनिकॉर्न में से पांच महिलाओं के नेतृत्व वाले में हैं। वैसे ऐसे कई कारण हैं, जिनके आधार पर भारतीय महिला उद्यमियों को स्टार्टअप रैली में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में आगे आना चाहिए। आने वाले वर्षों में भारत के सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बने रहने की संभावनाएं जताई गई हैं और भारत का बाजार पूंजीकरण इसके नाममात्र के सकल घरेलू उत्पाद से भी तेजी से बढ़ रहा है। कंज्यूमर ड्यूरेबल्स से लेकर टेक्सटाइल, फूड से लेकर फुटवियर, एग्रो-प्रोडक्ट्स से लेकर ऑटोमोबाइल तक सभी मार्केट सेगमेंट में दोहरे अंकों की वृद्धि होने की उम्मीद है। इसलिए कि आर्थिक सुधार गति पकड़ रहा है।

बाजार की मांग को देखते हुए स्टार्टअप्स को तीन बुनियादी अवयवों की आवश्यकता होती है: आइडिया, मेंटरशिप और फाइनेंस। ये तीनों भारत में महत्वाकांक्षी महिला उद्यमियों के लिए पहले की तरह उपलब्ध हैं। अधिकतर महिला स्नातकों द्वारा स्टार्टअप विचारों को प्रोत्साहित करने के लिए महिलाओं को परामर्श दिए जा रहे हैं। नीति आयोग द्वारा प्रस्तावित महिला उद्यमिता कार्यक्रम (डब्ल्यूईपी) के माध्यम से भी सहारा और गति उपलब्ध कराई जा रही है। फिर लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) के प्रधानमंत्री रोजगार सृजन (पीएमईजी) कार्यक्रम के तहत विशेष श्रेणी के लाभ भी उपलब्ध हैं।

केंद्र और कई राज्य सरकारें महिलाओं के लिए वित्तीय समावेशन में सुधार के लिए योजनाएं चला रही हैं। मुद्रा महिलाओं के लिए एक ऐसी उच्च क्षमता वाली योजना है, जो जमानत मुक्त ऋण प्रदान करती है।

बता दें कि कृषि, विनिर्माण, सूक्ष्म ऋण, खुदरा स्टोर या छोटे उद्यमों में महिला उद्यमियों के लिए देना शक्ति योजना  से 20 लाख रुपये तक के ऋण मिल जाते हैं। यह योजना ब्याज दर पर 0.25% की रियायत भी प्रदान करती है।

स्त्री शक्ति योजना और ओरिएंट महिला विकास योजना उन महिलाओं का समर्थन करती हैं, जिनके पास व्यवसाय में अधिकांश स्वामित्व है। जो महिलाएं खानपान व्यवसाय में अपना नाम देना चाहती हैं, वे अन्नपूर्णा योजना के माध्यम से ऋण प्राप्त कर सकती हैं। इस योजना के तहत, जिसे अब राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना में मिला दिया गया है, 50,000 रुपये तक के व्यावसायिक ऋण दिए जाते हैं।

यह इंगित करता है कि अधिक समावेशी और सशक्त समाज का मार्ग प्रशस्त किया जा रहा है। चूंकि महिलाओं के पास लाभ उठाने के लिए कई वित्तीय विकल्प हैं, इसलिए स्टार्टअप की दौड़ में पुरुषों को पीछे छोड़ने से पहले उन्हें भारतीय महिलाओं में जोखिम उठाने की क्षमता बढ़ाने की जरूरत है। भारत में महिलाओं को अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने और आत्मानिर्भर भारत की यात्रा का नेतृत्व करने के लिए इस यूनीकॉर्न उत्सव से उत्पन्न होने वाले सुनहरे अवसरों का लाभ उठाना चाहिए।

Your email address will not be published. Required fields are marked *