सरकारी राज़ (2-July-2021)

| Updated: July 2, 2021 4:07 pm

1- अधिकांश आईआरएस अधिकारियों को प्रतिनियुक्ति (प्रतिनिधि-मंडल) के रूप में ले रहा केंद्र

मई और जून 2021 के महीनों में सात भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारियों को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति (प्रतिनिधि-मंडल) के लिए चुना गया था। उदाहरण के लिए मई महीने में, सुश्री. मोनिका आशीष बत्रा आईआरएस (सी एंड आईटी 1997) को पांच साल की अवधि के लिए एनसीबी में उप महानिदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था, डी. वेंकटेश्वर रेड्डी आईआरएस (सी एंड आईटी 1995) को बीईएमएल, बेंगलुरु, अभिनव में मुख्य सतर्कता अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया था। गुप्ता, आईआरएस (सी एंड आईटी 2004) को तीन महीने की अवधि के लिए ऋण के आधार (लोन बेसिस)पर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग को भेजा गया है। इसी तरह जून महीने में देवेश गुप्ता आईआरएस (सी एंड आईटी 2008) को चार साल की अवधि के लिए वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय में उप सचिव नियुक्त किया गया था, अभिषेक कुमार शर्मा, आईआरएस (सी एंड आईटी 2013) को कैबिनेट मामलों के निपटारे हेतु चार साल की अवधि के लिए सचिवालय में रखा गया था, सुश्री कोमिला पुनिया, आईआरएस (सी एंड आईटी 2011) को राजस्व विभाग में सीबीआईसी में उप सचिव (आईसीडी) के रूप में नियुक्त किया गया है, प्रियांक चतुर्वेदी आईआरएस (सी एंड आईटी 2010) को उच्च शिक्षा विभाग में मामलों की देखरेख के लिए चार वर्ष की अवधि के लिए रखा गया था। 

2- ऐसा लगता है किजम्मू-कश्मीर में वित्त विभाग के बाबू उपराज्यपाल कार्यालय के लिए लगा सकते हैं दौड़

ऐसा लगता है कि, केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में वित्त विभाग के बाबुओं को ‘उपराज्यपाल कार्यालय में 20 करोड़ रुपये से ऊपर के कार्यों और परियोजनाओं के हर प्रस्ताव के लिए रुपयों की मांगा’ को लेकर बहुत जल्द दौड़ना पड़ सकता है। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में प्रशासनिक विभागों को प्रशासनिक अनुमोदन, तकनीकी स्वीकृति और अनुबंध प्रदान करने के लिए वित्तीय शक्तियों के प्रत्यायोजन पर कानून में संशोधन किया जा रहा है। इससे विभागों के लिए वित्त विभाग की सहमति के बाद 20 करोड़ रुपये से अधिक के कार्यों और परियोजनाओं के प्रस्तावों के लिए उपराज्यपाल की मंजूरी लेना अनिवार्य हो जाएगा।

3- ओह! वो अतिरिक्त ज़िम्मेदारी

किसी भी आईएएस अधिकारी ने उन विभागों के अतिरिक्त प्रभारों को कभी पसंद नहीं किया है जो उनके मुख्य विभाग से अलग रहते हैं। यह बोझ सचिव और उससे ऊपर के स्तर से शुरू होता है और कई बार एक अधिकारी के पास तीन से अधिक विभागों का प्रभार होता है!! अतिरिक्त जिम्मेदारियों से दिन-प्रतिदिन विभाग की गतिविधियों से निपटने का मुद्दा उनमें से अधिकांश के लिए एक दर्द बना हुआ है। आईएएस हलकों में एक मजाक यह है कि जब एक अधिकारी को अतिरिक्त प्रभार की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाता है, तो यह राहत की बात है। अधिकारी विभाग नहीं कई बार विभाग दूसरे अधिकारी के पास ‘अतिरिक्त प्रभार’ के रूप में चला जाता है !!

4- यह छोटा सा इशारा बहुत आगे जाता है

राजस्थान सरकार की कार्मिक विभाग की वेबसाइट पर प्रत्येक आईएएस, आईपीएस, आईएफओएस और आरएएस अधिकारी का नाम डालने और उन्हें उनके जन्मदिन पर बधाई देने की यह अद्भुत प्रणाली है। शायद किसी भी राज्य में अपने सभी अधिकारियों को उनके जन्मदिन पर एक ही दिन विश करने की यह प्रथा नहीं है !!

Your email address will not be published. Required fields are marked *